ENGLISH HINDI Thursday, June 27, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
व्यापार

केन्द्र सरकार को सौंपे गये एआइओसीडी के ज्ञापन में दवाईयों की ऑनलाइन बिक्री के खिलाफ सख्त आपत्ति जताई गई

March 05, 2017 08:46 PM

चंडीगढ - दवाईयों की ऑनलाइन बिक्री का नेटवर्क समूचे देश में फैल रहा है। ऑल इंडिया ऑर्गनाइजेशन ऑफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट (एआइओसीडी) के प्रेसिडेंट श्री जगन्नाथ शिंदे ने यह प्रश्न उठाया कि आखिर सरकार नागरिकों के स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों को नजरअंदाज क्यों कर रही है?इससे संबंधित निर्णय संवेदनशीलता के साथ विचार-विमर्श करने के बाद लिये जाने चाहिए। क्या देशमें ऐसी आपातकालीन स्थिति उत्पन्न हो गयी है कि दवाईयों की ऑनलाइन बिक्री को तुरंत शुरु किया जाना अनिवार्य हो गया है? ई-फार्मेसी से संबंधित केन्द्र द्वारा तैयार किए गए दिशा-निर्देश पर आपत्ति जताते हुए एआइओसीडी ने केन्द्रीय स्वास्थ्य  मंत्रालय के उपसचिव श्री के. एल. शर्मा को एक बिंदु-वार ज्ञापन सुपुर्द किया है। 

पूरी संवेदनशीलता के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ही स्वास्थ्यसंबंधी निर्णय लिए जाने चाहिए - जगन्नाथ शिंदे, प्रेसिडेंट,एआइओसीडी

 

दवाईयों की ऑनलाइन बिक्री को केवल छूट के नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए, बल्कि इस संदर्भमें दीर्घकालिक दृष्टि से ग्राहकों के वापस न मिल सकने योग्य अधिकारों एवं सुरक्षा को भी ध्यान मेंरखा जाना आवश्यक है। वास्तव में केन्द्र सरकार ने औषधि विक्रेताओं के लाभ को निर्धारित करदिया है और अब अतिरिक्त छूट पर दवाईयों की बिक्री इनकी गुणवत्ता पर सवालिया निशान लगाती है।यह स्पर्धा 8 लाख दवा विक्रेताओं की गरिमा और अस्तित्व के साथ खिलवाड़ है एवं असंगत होने केसाथ ही साथ प्रश्नों के दायरे में आती है। 

एआइओसीडी ने यह ज्ञापन दिल्ली में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव को प्रदान किया, जिसमेंदवाईयों की बिक्री के व्यवसाय की सच्चाई एवं कमियों को इंगित किया गया है। कमेटी ने इस बातको पुख्ता तरीके से रखा कि डीसीजीआइ में केवल विनियामक निकायों के प्रतिनिधि ही नहीं होनेचाहिए, बल्कि इसमें व्यवसाय के सभी वर्गों को शामिल किया जाना चाहिए। केन्द्र सरकार के प्रारुपमें ऑनलाइन तौर पर दवाईयों की बिक्री के लिए नए केंद्रीय प्राधिकरण का प्रस्ताव किया गया है,जोकि प्राधिकरण के विकेन्द्रीकरण के सिद्धांतों के विरुद्ध है।  

देश के ग्रामीण क्षेत्रों में उच्च योग्यता-संपन्न चिकित्सकों के अभाव के साथ समुचित स्वास्थ्यसेवाओं की भी काफी कमी है, इसलिए केन्द्र सरकार को विनियामकीय प्रणाली को मजबूत करने परअपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए, जो फिलहाल कमजोर स्थिति में है। दवाईयों की गुणवत्ता की जांचके लिए प्रयोगशाला, आइटी सेंटर, लॉ यूनिट की व्यवस्था करने जैसे विभिन्न बिंदुओं के साथ ज्ञापनको सुपुर्द किया गया। 

हालांकि केन्द्र सरकार सभी स्थानों पर दवाईयों को उपलब्ध कराने की इच्छुक है, लेकिन उसके इसप्रारुप में ड्रग माफिया, युवाओं में मादक द्रव्यों की लत, ग्राहकों के हित, एचआइवी रोगियों केसामाजिक हित, खरीदारों की स्वास्थ्य संबंधी सुरक्षा, इत्यादि जैसे मुद्दों को शामिल किया जानाआवश्यक है। ऑल इंडिया ऑर्गनाइजेशन ऑफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट के प्रेसिडेंट श्री जगन्नाथ शिंदे नेस्पष्ट रुप से यह मांग की कि 1940 के ड्रग एंड कॉस्मेटिक ऐक्ट अथवा नियम 45 में प्रस्तावितसंशोधन तथा दवाईयों की ऑनलाइन बिक्री की अनुमति को तब तक रोक कर रखना चाहिए, जबतक कि केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत इस प्रारुप में संशोधन नहीं किया जाता तथा एआइओसीडी द्वारा उठाई गयी आपत्तियों पर सकारात्मक समाधान का निर्णय नहीं लिया जाता। 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और व्यापार ख़बरें
शहर में 5 आईओसीएल रिटेल आउटलेट्स पर मिलेगी सर्वोएक्सप्रेस की सुविधा वेस्पा ने पेश किया अर्बन क्लब रेंज 40 शहरों में 174 से अधिक हेल्थ एवं वैलनैस सेवाओं हेतु लाईफकेयर फाइनेन्सिंग विकल्प पेश बजाज फिनसर्व ने लाइफ केयर फाइनेंस सुविधा प्रदान करने के लिए मदरहुड हॉस्पिटल्स के साथ की भागेदारी शिमला में तीसरी एचसीएल ग्रांट पैन-इंडिया सिंपोज़ियम ‘सीएसआर फार नेशन बिल्डिंग 2019’ का आयोजन इंडिया मेडिकल शो में उच्च तकनीक व उपकरणों को किया प्रदर्शित चार दिवसीय सीआईआई कूलेक्स का हिमाचल भवन में आगाज आईसीआईसीआई बैंक ने शिमला में लांच किया ‘इंस्टाआटो लोन’और ‘इंस्टा टू-व्हीलर लोन’ अभिनेत्री कायनात अरोड़ा ने उद्घाटन किया इन्फर्नी फर्नीचर स्टूडियो का ब्लू स्टार ने अपनी 75वीं वर्षगांठ पर 75 नये एयर-कंडीशनर मॉडल लांच किये