ENGLISH HINDI Thursday, April 02, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना सेनेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजाकोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिकराष्ट्रपति करेंगे राज्यपालों, लेफ्टिनेंट गवर्नरों एवं राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश प्रशासकों के साथ कोविड-19 पर चर्चादेश के 410 जिलों में कराया गया राष्‍ट्रीय कोरोना सर्वेक्षण जारीलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटालॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत
कविताएँ

विरह

April 14, 2017 03:58 PM

— शिखा शर्मा
विरह के अश्रु न बरस जाएं कहीं नयनों से
थाम लेना गालों पर गिरने से पहले
भीगी पलकें भी उतार देती है आँखों का काजल
स्याही का अंधेरा न छाए चेहरे पर
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सिमट गई हूं तेरे लबों के अल्फाजों तक
लफ्जों को सहेज रखा है दिल की किताब में
पन्ने पलटने से पहले
वादों से न कहीं मुकर जाना
बस! इतना ख्याल रखना तुम

प्रेम रस की मिठास में ऐसे हूं डूबी
तैरती कश्ती भटकती देह लगे
डूबी रहूं तुझ में मग्न होकर
चित उबने पर बीच मझधार मत छोड़ जाना
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सोलह श्रृंगार की दीवानी हूं इतनी
बागों की मेहंदी भी फीकी पड़े
हृदय की डाली पर खिला है प्रेम पुष्प
प्रेम का फूल कोई और मेरी डाली से न तोड़े
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सांझ-सवेरे सांसे रटती है तेरी नाम की तस्वीह
रेशमी धागे में पिरोया अनमोल मोती जैसा तूं
बांधे रखना इस अटूट बंधन में
डोर टूटने से पहले तेरी बांहों का हार मिले
बस! इतना ख्याल रखना तुम

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें