ENGLISH HINDI Friday, May 26, 2017
Follow us on
पंजाब

बरनाला ज़िला के डेरा महंत परमानंद पर कब्ज़े को हुई फायरिंग, 2 की मौत, 8 घायल, थाना प्रभारी को किया सस्पेंड,

May 13, 2017 09:43 AM
डेरे में हुयी घटना के बाद की तस्वीरें

तपा मंडी/बरनाला,  अखिलेश बंसल / विपन गुप्ता।
ज़िला बरनाला के तपा शहर में स्थित डेरा महंत परमानंद (अंदरला डेरा) पर कब्ज़े को लेकर शुक्रवार की तडक़सार दो गुटों के बीच गोली चली। जिसमें डेरे के पुजारी समेत एक गुट के दो लोगों की मौत हो गई, जबकि आठ लोग घायल हो गए। जिनमें दो की गंभीर हालत को देखते डाक्टरों ने रैफर कर दिया। मरने वालों में लक्षमी नारायण और गुलाब राम एवं घायल हुए लोगों में राम दास, हेमंत कुमार, कृष्ण दास, रघुवीर दास, निक्का ख़ान, मंहगा राम, कृषण दास, रघुनन्दन दास और माधो दास के नाम बताए गए हैं। घटनास्थल पर पहुंचे डीआईजी पटियाला ने माहौल को शान्त करने के लिए तपा के थाना प्रभारी को सस्पेंड
कर दिया।

यह बताया मामला-

तकरीबन 15 साल पहले इस डेरे के महंत परमानंद जो अविवाहित थे, जो अपनी मौतसे पहले जिन्दा रहते उक्त डेरे की गद्दी व महंती अपने भान्जे गोपाल दास को सौंप गए थे, जो महंत परमानंद के चेले रामेश्वर दास और साथियों को गंवारा नहीं हुआ और उन्होंने विरोध भी किया था। कड़े विरोध के बावजूद गोपाल दास एवं अवध किशोर ने डेरे का प्रबंध संभाल लिया और चौतरफा विकास शुरू करवा दिया। कुछ समय बीतने के बाद वक्त की नज़ाकत देखते ही रामेश्वर दास ने दर्जनों साथियों का सहारा लेकर महन्त गोपाल दास व उनके अनुयाईयों को डेरे से बाहर कर दिया और रामेश्वर दास ने खुद डेरे की पाठ-पूजा शुरू कर दी। जिसको लेकर महन्त गोपाल दास ने डेरे की गद्दी की मालकी को लेकर  अदालत में केस दायर कर दिया। अदालत ने दोनों पक्षों की सुनवाई करने के  बाद दिए फैसले में गोपाल दास को सही ठहराया और उसे डेरे की मालकी का सही हकदार घोषित कर दिया था।

आरती के वक्त की फायरिंग-

शुक्रवार की सुबह डेरे के अंदर स्थित मंदिर की आरती जैसे ही शुरू होने लगी तो पहले आरती करने के मुद्दे पे दोनों गुटों में तकरार हो गई और देखते ही देखते ईंट-पत्थर चलने लगे। सूत्रों के मुताबिक रामेशवर दास गुट के साथी तेजधार हथियारों एवं असला लैस थे। सूत्रों का कहना है कि अकालियों की शह पर रामेशवर दास ने उक्त हमला किया है। जिन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी। जिससे महन्त गोपाल दास के भाई लक्षमी नारायण और उनके एक अनुयाई गुलाब राम की मौके पर मौत हो गई।

पूजा स्थल को भी पहुंची क्षति-
फायरिंग एवं पत्थरबाजी से प्रभू की आरती भंग हो गई। आखंड ज्योति की आग से कुछ सामान जल गया। डेरा परिसर का फर्श लहुलुहान हो गया। जिसके बाद डेरे के अंदर एवं इलाके में स्थिति तनावपूर्ण होने से उक्त डेरा पुलिस छावनी में तबदील हो गया है। 
पुलिस को दी चेतावनी-

घटना के बाद मृतक लक्ष्मीदास के शव को लेकर गोपाल दास व उनके अनुयाइयों/समर्थकों ने शहर में रोष प्रदर्षण किया और तपा पुलिस के रामेशवर दास गुट के बीच मिलीभगत के आरोप जड़े। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की हाई कमांड से गुहार लगाते तपा थाना के प्रभारी एवं स्टाफ के आधे कर्मचारियों को मुअत्तल करने की मांग की। महंत गोपाल दास व अवध किशोर और
साथियों ने चेतावनी दी है कि  जितनी देर तक कातिल व हमलावर गिरफतार नहीं होते और पुलिस आधिकारियों के खि़लाफ़ कार्यवाही नहीं की जाती उतनी देर तक मृतकों का संस्कार नहीं किया जाएगा।

डीआईजी के आदेश पर थाना प्रभारी सस्पेंड-
घटना के बाद घटनास्थल पहुंचे आलाकमान अधिकारी डीआईजी पटियाला रेंज सुखचैन सिंह गिल ने तनावग्रस्त माहौल को शान्त करने के लिए थाना प्रभारी को सस्पेंड करने का ऐलान किया। इसके साथ ही रूड़ेके कलां के थाना प्रभारी शमशेर सिंह को थाना तपा का प्रभारी नियुक्त कर दिया। पुलिस ने डीआईजी पटियाला के निर्देश पर कार्यवायी करते हुए 9 हमलावरों जिनमें रामेशवर दास, हमन्त दास माधो, महन्त दियाल दास, रमेश कुमार मेशी, कपिल वरिन्दर भी शामिल किये हैं उनके खिलाफ हत्या, झगड़ा, योजनाबद्ध ढंग से हमला करने समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
तपा डेरे में कड़े सुरक्षा प्रबंधों के तले हुआ श्रद्धांजली समागम संदेहास्पद हालत में किसान की मौत दसवीं के खराब नतीजों की गाज गिरी, मुख्यमंत्री के आदेश पर पंजाब शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष ढोल को देना पड़ा इस्तीफा बरनाला जेल के प्रबन्धों की औचक चैकिंग, सजा भुगत रहे कैदियों व हवालातियों को दी कानूनी अधिकारों की जानकारी कॅप्टन की कैबिनेट के मंत्री के रसोइये व क्लर्क रेत माफिया सरग़ना बने - तरूण चुघ भांखरपुर में नवविवाहित युवक ने फंदा लगा दी जान, सुसाइड नोट में खुद को जिंदगी से दु:खी बताया मानसिक तौर पर परेशान पुलिस जवान ने की खुदकशी अश्लील हरकतों से तंग आ विवाहिता ने की खुदकुशी मौहल्ला वासियों ने किया पंचायती चुनावों का बहिष्कार पुलिस के हत्थे चढ़ा अंर्तराज्यीय शराब तस्कर गिरोह