ENGLISH HINDI Sunday, April 22, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
सड़क पर पड़े पशुओं के सेवा कर एक अनूठी पहल कर रही है वेज संस्था : ढिल्लोंबेटी के साथ बलात्कार रिश्ता हुआ शर्मसार, ट्रक चालक पिता के खिलाफ केसनिर्मल छाया सोसाइटी चुनाव में आशीष मेहता की टीम का जलवानाबालिग़ बच्चियों के साथ बलात्कार के लिए मौत की सजा का कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया समर्थनपंजाब राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर ने 9 नये कैबिनेट मंत्रियों व दो राज्य मंत्रियों को भी कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ दिलायीेहर दूसरे व चौथे रविवार को होगी पंजाब भाजपा पदाधिकारियों की बैठकसफाई व्यवस्था को लेकर शहरवासियों ने निकाला रोष मार्चनया भारत नामक प्रदर्शनी का आयोजन, स्वच्छता की ओर प्रेरित किया
कविताएँ

फलसफा-ए-जिन्दगी

May 18, 2017 02:49 PM

रिश्तों को हमने बिठाया था

अपनी कश्ती में,
और
फिर कश्ती का बोझ कह कर,
हमें ही उतारा गया...
जिंदगी तो बे—वफा है
फिर भी
उसी का गीत गाया गया।
सांसे हैं पल—पल घट रही
फिर भी
जन्मदिन मना कर
उसी का जश्न मनाया गया
जिसने भेजा है धरा पर
उसका गुणगान पलभर भी नहीं
बस!
चका चौंध रोशनियों का
बखान सुनाया गया।
मौत महबूब है
मगर
उसको सदा भुलाया गया।

— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें