ENGLISH HINDI Sunday, February 18, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
प्रापर्टी डीलर ने एक प्लाट को 2 अलग-अलग टुकड़ों में बांटा, और फिर एमसी ने कर दिए नक्शे पास..जीरकपुर : दस्तावेज पूरे तो तीस दिन में नक्शा चकाचककुकरमुत्तों की तरह डेराबस्सी और जीरकपुर में बनी अवैध कलोनियां एनओसी के बिना रजिस्ट्री पर रोक का निकाला हलपावरकॉम ने बकायेदारों से वसूली के लिए कसी कमर, काटे जाएंगे कनेक्शनकोई भी अपना सकता हैं छतबीड़ जू के जानवर, पौने तीन लाख में हाथी, दो लाख में शेरयुनाईटड जर्नलिस्ट एसोसिएश्न ने किया पत्रकारों का सम्मान चोरों ने मोबाइलों की दुकान पर किया हाथ साफ़, घटना कैमरे में कैदचैलेंज : अगर सुखबीर मुझे शिकस्त दे दें तो मैं राजनीती से सन्यास ले लूंगा: नवजोत सिंह सिद्धु
कविताएँ

फलसफा-ए-जिन्दगी

May 18, 2017 02:49 PM

रिश्तों को हमने बिठाया था

अपनी कश्ती में,
और
फिर कश्ती का बोझ कह कर,
हमें ही उतारा गया...
जिंदगी तो बे—वफा है
फिर भी
उसी का गीत गाया गया।
सांसे हैं पल—पल घट रही
फिर भी
जन्मदिन मना कर
उसी का जश्न मनाया गया
जिसने भेजा है धरा पर
उसका गुणगान पलभर भी नहीं
बस!
चका चौंध रोशनियों का
बखान सुनाया गया।
मौत महबूब है
मगर
उसको सदा भुलाया गया।

— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें