ENGLISH HINDI Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
रोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंहपुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयारअज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादें
कविताएँ

फलसफा-ए-जिन्दगी

May 18, 2017 02:49 PM

रिश्तों को हमने बिठाया था

अपनी कश्ती में,
और
फिर कश्ती का बोझ कह कर,
हमें ही उतारा गया...
जिंदगी तो बे—वफा है
फिर भी
उसी का गीत गाया गया।
सांसे हैं पल—पल घट रही
फिर भी
जन्मदिन मना कर
उसी का जश्न मनाया गया
जिसने भेजा है धरा पर
उसका गुणगान पलभर भी नहीं
बस!
चका चौंध रोशनियों का
बखान सुनाया गया।
मौत महबूब है
मगर
उसको सदा भुलाया गया।

— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें