ENGLISH HINDI Friday, October 18, 2019
Follow us on
 
कविताएँ

अधर में लटके स्वप्न

May 21, 2017 04:40 PM

प्यार मोहब्बत की जिंदगी के सफ़र में

तुमसे मुलाकातें भरपूर हुई
दिन भी निकले और रातें भी हुई
चलता रहा सफ़र
मौजमस्ती की धुन पर
किस्से भी खूब और कहानियां भी भरपूर हुई
एकाएक टूटी वो हकीकत
टूटे जागती आँखों के सपने
जो सजाए थे
नगमें दरबार–ए मोहब्बत में
अभी बेकरारी है बहुत बची हुई
उतर गए थे दिल में इस कदर
तुम मिले तो मेरी आशिकी पूरी हुई

कैसे तोड़ कर चले गए तुम
वादा अपना
यूं रुख्सत होने का न कोई सलीका बना  
न कोई शिकवे न कोई शिकायतें हुई
न कहा—सुनी न ही कोई लड़ाई हुई
हुआ तो बस! इतना ये सब
कि
दिन बेजार और रातें तन्हा हुई।
— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें