ENGLISH HINDI Monday, December 16, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
ग्रेट पेरेंट्स डे पर वेद धारा ग्लोबल स्कूल में दादा दादी की धूम‘स्पाईमास्टरज़ और साईबर इंटेलिजेंस इन वॅार एंड पीस’ विषय पर हुई चर्चा ने साईबर सुरक्षा के कई अछूते पक्षों पर प्रकाश डालाबालाकोट एक्शन पर रक्षा विशेषज्ञों द्वारा गंभीर विचार-चर्चाभवन निर्माण व निर्माण श्रमिकों की रजिस्ट्रेशन का समय 31 मार्च तक बढ़ाने के आदेशअफगानिस्तान में 18 साल से तालिबान के साथ लम्बी लड़ाई लड़ रहा अमरीका हार की कगार परपेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवायाशरीर के लिए जरूरी पौष्टिक तत्वों व कैलोरी की मात्रा कम नहीं होनी चाहिएआरटीआई में नगर परिषद् का अजीबोगरीब जवाब, हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब
कविताएँ

बच्चा हो गया हूं

May 29, 2017 10:48 PM

मैं बच्चा सा हो गया हूं

जबसे
बच्चे बड़े हो गए हैं
अपने फैंसले खुद से
करने लग गए हैं
अब करने लग गया हूं खुद से बातें
जबसे यौवन के दिन बीत गए है
उड़ रहा हूं सूखे पत्तों की मानिंद
मुसाफिर बनकर
इस सफ़र से तंग हो गया हूं
हवा के रुख में उलझकर
बेसफ़र, बेखबर सा हो गया हूं
बिन वजह जाग उठता हूं रातों को
बे—मोल हो गए जज्बातों को
अखरता है अब ये रूखापन
तन्हा सी है जिंदगी
बस! जरा थकने लग गया हूं
यूं तो की होगी हमने हजारों बातें
बातों में छिपी वो मधुर मुलाकातें
दर्द ऐसा चुभा सीने में
अब मैं लिखने भी लग गया हूं
बचपन में थे सच्चे शहंशाह
मां-बाप का साथ जब से छूटा
तब से गरीब सा जिया गया हूं
झूठी शहंशाही रास नहीं आती
फकीरी के आलम में खो गया हूं
नंगे पैर गरीब के कहीं
घायल न हो जाएं
यही सोच कर कांच के टुकड़े
उठाता जा रहा हूं
— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें