ENGLISH HINDI Sunday, October 22, 2017
Follow us on
पंजाब

अवैध खनन: सरकार बदली-दलाल बदले, रेत तस्करी जस की तस

August 06, 2017 08:29 AM

बरनाला, अखिलेश बंसल/विपन गुप्ता:

राज्य में रेत माफियाओं का खात्मा करने के दावे पर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार अवैध खनन पर अंकुश लगाने में नाकाम रही है। इतना बदलाव जरूर हुआ है कि रेत माफिया पहले अकाली सरकार के थे अब कांग्रेस सरकार के बताए जा रहे हैं। पहले राष्ट्रीय राज मार्ग से राज्य के कोने—कोने में पहुंचता रहा है, अब वही रेत चोर रास्तों से पहुंच रहा है। जिसके बारे में सिविल प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन खामोश है और कांग्रेसी नेताओं के साथ-साथ अकालियों एवं अन्य पार्टियों के नेताओं ने भी कुछ कहने पर जुबान बंद कर ली है।

चोर रास्तों से हो रहा दाखिल:

राज्य के कोने—कोने में पहुंच रही रेत से भरी ट्रालियां चोर रास्तों से दाखिल हो रही हैं। जिला बरनाला में गांव नाईवाल का रास्ता चुना गया है। जहां दिनभर में कम से कम दो सौ ट्रैक्टर-ट्रालियां (रेत से भरे) गुजरती हैं। ऐसे वाहनों को चारों तरफ से इसलिए ढक दिया जाता है कि देखने वालों को किसानी सामान लगे।

सूत्र बताते हैं कि लुधियाना जिला में पड़ते सिद्धवांबेट दरिया से रेत की तस्करी हो रही है। जो वहां गुंडा टैक्स अदा कर पहुंचते हैं। हालांकि इन वाहनों में अधिकांश वाहन घरेलू व किसानी काम काज के लिए हैं। लेकिन उन्हें कमर्शियल के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

ट्रक से ज्यादा ढुआई कर रही हैं ट्रालियां:

ट्रकों द्वारा रेत की भराई ज्यादा से ज्यादा 600 फीट तक की जा सकता है। लेकिन रेत माफियाओं ने ट्रालियों जिनमें 100 फीट से ज्यादा रेत या मिट्टी नहीं भरी जा सकती उन्हें करीब सात फीट ऊंचा कर उनमें साढ़े छ: सौ फीट रेत भरना शुरू कर दिया।

सडक़ पर दौड़ती मौत हैं रेतभरी ट्रैक्टर-ट्रालीयां:

ट्रैक्टर चलाने में महारत रखते समाजसेवी अजीत पाल सिंह संधू का कहना है कि यदपि ट्रक के 10 टायर हैं तो उनके सभी चक्कों के ब्रेक लगते हैं लेकिन ट्रैक्टर के आगे के चक्कों द्वारा ही ब्रेक लगाई जा सकती है वहीं चक्के स्टेयरिंग से जुड़े होते हैं। ऐसे में यदि रेत से भरे ट्रैक्टर को अचानक रोकना पड़ जाए तो ट्रैक्टर के ब्रेक कभी भी अनियंत्रित हो सकते हैं। जिससे कभी भी जानी माली नुकसान हो सकता है।

कानून में है भारी सजा:

एडवोकेट करन अवतार कपिल का कहना है कि रेत का खनन करने वालों, गैरकानूनी ढंग से रेत भरने, घरेलू वाहनों को कमर्शियल तौर पर इस्तेमाल करने, ओवरलोडिंग करने वालों के खिलाफ कानून में माईनिंग एक्ट के तहत सख्त सजा एवं जुर्माना का प्रावधान है।

यह कहते हैं अधिकारी:

जिले के सहायक कमिशनर अरविन्द पाल सिंह का कहना है कि ऐसे ट्रैक्टर ट्रालियों को रोकना एवं ऐसे वाहनों को मौके पर ही बाऊंड करना ट्रैफिक पुलिस एवं परिवहन विभाग की जिम्मेदारी है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें