ENGLISH HINDI Wednesday, January 17, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
सेना के वाहन से टकराया रिक्शा, एक परिवार के दो लोगों की मौतगुरप्रीत सिंह हैप्पी ने नवनियुक्त एसएचओ खान को कार्यभार के लिए शुभकामनाएँ दींमकर संक्रांति पर पतंग महोत्सव का किया आयोजन हरियाणा राजभवन कर्मचारी कल्याण संघ की वार्षिक बैठक, रामकुमार को सर्वसम्मति से एसोसिएशन का प्रधान चुना बरनाला में एक करोड़ की गांजा भरी 35 बोरी समेत पांच तस्कर काबू. 19 जनवरी तक का पुलिस रिमांड विविधताएं हमारी संस्कृति की चुनरी में सितारों की तरह हैं चमकती: प्रो.सोलंकीदादा की मौत को बर्दाश्त नहीं करते कांग्रेस के युवा विंग नेता ने दादी व खुद को मारी गोलीमाघ मकर संक्रान्ति 14 और 15 जनवरी को, खाएं व बाटें खिचड़ी
कविताएँ

सूनी कलाई

August 08, 2017 11:17 AM

— रोशन


ए गुड़िया आज तू बहुत याद आई
वर्ष का त्यौहार रक्षा बंधन
लेकिन
तुम बिन सूनी रही तेरे भाई की कलाई
तेरा असीम प्रेम और नटखट लड़ाई
जो अब बन गई रुसवाई
वक्त बदला तो
बदला तेरा परिधान, परिवेश और नाम
फिर भी तूं हमारे लिए गुड्डी ही कहलाई
तुम गई छोड़ कर तो संभल गया
तब संग थी तेरी भौजाई
सांझ ढले क्षितिज पर
तारों के बीच देखा बहुत
तुम दोनों को
पर तुम ननद—भौजाई
कहीं भी नजर ना आई
रह—रह के यादें तेरे प्यार की
मन को भारी कर गई
याद है मुझे बा—खुबी
मां के बाद तुम ही थी
जो मेरे मन की बातों को
थी समझ पाई
मेरा मन तो विचलित है
नहीं समझ आ रहा
कैसे करूं भरपाई

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें