ENGLISH HINDI Monday, June 24, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
विजिलेंस जांच के चलते कई अफसर नदारद, चौथे दिन भी हुई पूछताछ, हाईप्रेाफाइल मामले पर एआईजी ने कहा, जांच जारी पंजाब में गतका खेल गतिविधियों में और तेज़ी लाई जायेगी: लिबड़ाडॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस भाजपा ने श्रद्धांजलि दी डडू माजरा में जानवर जलाने के प्लांट के प्रस्ताव के विरोध में रोष प्रदर्शन, मेयर का पुतला जलायासीवरेज ओवरफ्लो की बदबू से लोग बेहाल, कोई सुनवाई नहींअवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लमजीजा के साथ बलटाना का युवक बुलेट पर काजा घूमने निकला पहाड़ से बोल्डर गिरा, दोनों की मौके पर मौतहाई—वे किनारे मनमर्जी की पार्किंग, हादसों को न्यौंता
कविताएँ

स्वप्न यात्रा

August 11, 2017 03:13 PM

— शिखा शर्मा

कल्पना से जब परे हो जाते हैं
तब स्वप्न और भी सुनहरे हो जाते हैं
नींद में आँखें मीचते, मुस्कुराते
दूर कहीं झरने में नहाते
कभी टिम-टिम तारों से बतियाते
कभी चांद की यात्रा पर निकल जाते
चलते हैं कभी आसमानों पर
पंख लगाकर बैठ जाते हैं कभी धरा पर
अचेत मुद्रा में पड़ी है काया
लेकिन
ब्रह्मांड घूम कर आते हैं
स्वप्न ऐसी अद्भुत दुनिया में ले जाते हैं
काली रात में दिन का उजाला दिखता है
चांद सूरज से भी उज्जवल हो जाता है
एक दृश्य में हंसते
दूसरे में रोने का मन हो आता है
नैन भी नीर बहाने लग जाते हैं
सिसक जाते हैं तब होंठ चेतन में
तो कभी
नींद तोड़कर बैठ जाते हैं
स्वप्न हमें सपनों में भी डराते हैं
देखते हैं कभी स्वयं को बादशाह
छप्पन कोटि के भोग लगाते हैं
कभी फ़कीर बन कर
झोली फैलाने लग जाते हैं
कल्पना से जब परे हो जाते हैं
तब स्वप्न और भी सुनहरे हो जाते हैं

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें