ENGLISH HINDI Sunday, December 17, 2017
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
तीन दिवसीय चिंतन शिविर , पानी की हर बूंद का सदुपयोग , सीमित स्रोतफटे होठों में तेल मालिश स्कून देगीफोर्टिस मामला: डेंगू से बच्ची की मौत और 16 लाख के बिलों पर अन्य आपराधिक धाराएं पर्चे में जोड़ी जाएंगी: अनिल विजप्रेस क्लब के सचिव जलेश ठठई की माता का देहांत ,हेमकुंट पब्लिक स्कूल मोहाली मेें करवाए बच्चों के कविता उच्चारण मुकाबलेआम लोगों की ओर से अकाली दल की ड्रामेबाजी का विरोध शुभ संकेत -भगवंत मानडीजीपी वी.के भावड़ा ने की शबरी प्रसाद की किताब ‘बॉर्डरलाईन’ रिलीज, कहा डाक्टरी विज्ञान साहित्य के लिए होगी लाभदायकविदेश में खेलने का सपना होगा पूरा, सूरज को कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने दी 71 हजार की मदद
कविताएँ

स्वप्न यात्रा

August 11, 2017 03:13 PM

— शिखा शर्मा

कल्पना से जब परे हो जाते हैं
तब स्वप्न और भी सुनहरे हो जाते हैं
नींद में आँखें मीचते, मुस्कुराते
दूर कहीं झरने में नहाते
कभी टिम-टिम तारों से बतियाते
कभी चांद की यात्रा पर निकल जाते
चलते हैं कभी आसमानों पर
पंख लगाकर बैठ जाते हैं कभी धरा पर
अचेत मुद्रा में पड़ी है काया
लेकिन
ब्रह्मांड घूम कर आते हैं
स्वप्न ऐसी अद्भुत दुनिया में ले जाते हैं
काली रात में दिन का उजाला दिखता है
चांद सूरज से भी उज्जवल हो जाता है
एक दृश्य में हंसते
दूसरे में रोने का मन हो आता है
नैन भी नीर बहाने लग जाते हैं
सिसक जाते हैं तब होंठ चेतन में
तो कभी
नींद तोड़कर बैठ जाते हैं
स्वप्न हमें सपनों में भी डराते हैं
देखते हैं कभी स्वयं को बादशाह
छप्पन कोटि के भोग लगाते हैं
कभी फ़कीर बन कर
झोली फैलाने लग जाते हैं
कल्पना से जब परे हो जाते हैं
तब स्वप्न और भी सुनहरे हो जाते हैं

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें