ENGLISH HINDI Tuesday, August 22, 2017
Follow us on
एस्ट्रोलॉजी

ज्योतिष के अनुसार 14 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाना रहेगा सार्थक

August 12, 2017 10:19 PM
मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिषविद्, मो - 98156 19620
पुराणों के अनुसार  भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रकृष्ण अष्टमी तिथि बुधवार , रोहिणी नक्षत्र व बृष राशि में अभिजीत मुहूर्त के अधीन हुआ है। ज्योतिषीय योगों के अनुसार यह एक दुर्लभ संयोग होता है, इसीलिए भगवान कृष्ण पूरे संसार में अपनी लीलाओं, गीता ज्ञान और कर्म प्रधान जीवन के लिए आज भी उतने ही सार्थक हैं जितने 5000 साल पूर्व थे।
14 अगस्त सोमवार की सायं अष्टमी सायं 7 बजकर 46 मिनट पर लगेगी और 15 अगस्त मंगलवार, सायं 5 बजकर 40 मिनट तक रहेगी। चूंकि भगवान कृष्ण का जन्म रात्रि ठीक 12 बजे माना गया है अतः अर्द्धरात्रि व्यापिनी में ही व्रत रखने को षास्त्रसम्मत माना गया है। कई पुराणों में भी इसी नियम को माना गया है। अतः गृहस्थ लोग अर्थात आम भक्तगण एवं श्रद्धालुजन 14 अगस्त को ही व्रत रखें ।
इस बार 14 अगस्त  , सोमवार  को स्मार्त अर्थात गृहस्थी लोग जन्माष्टमी मनाएंगे क्योंकि  इस दिन कई दुर्लभ योग हैं । इस लिए, इसी समय, भगवान के निमित्त व्रत, बालरुप पूजा, झूला झुलाना, चंद्र का अघ्र्य, दान, जागरण, कीर्तन आदि का विधान होगा। व्रत एवं उत्सव सोमवार को ही श्रेष्ठ एवं उत्तम माना जाएगा ।
15 अगस्त मंगलवार को , उदयकालिक अष्टमी रोहिणी योग होने के कारण  ,वैष्णव यह जन्मोत्सव  इसी दिन मनाएंगे । परंपरानुसार  एवं स्थानीय परिस्थितिवश मथुरा व गोकुल में हर बार की तरह भगवान कृष्ण के जन्म पर नन्दोत्स्व अगले दिन मनाया जा रहा है। भारत के कई नगरों में मथुरा की परंपरा के अनुसार चला जाता है परंतु षुद्ध ज्योतिष के आधार पर ही व्रत एवं महोत्सव मनाने का अपना ही महत्व एवं सार्थकता रहती है। 
क्या है स्मार्त तथा वैष्णव ? 
वेद, श्रुति-स्मृति, आदि ग्रंथों को मानने वाले धर्मपरायण लोग स्मार्त कहलाते हैं। प्रायः सभी गृहस्थी स्मार्त कहलाते हैं। जबकि वे लोग जिन्होंने किसी प्रतिष्ठित  वैष्णव संप्रदाय के गुरु से दीक्षा ग्रहण की हो, दीक्षित हों, कण्ठमाला धारण की हो, किसी प्रकार का तिलक लगाते हों, ऐसे भक्तजन वैष्णव कहलाते हैं। 
व्रत कब और कैसे  रखा जाए?
व्रत के विषय में इस बार किसी प्रकार भी भ्रांति नहीं हैं। फिर भी कई लोग, अर्द्धरात्रि पर रोहिणी नक्षत्र का योग होने पर सप्तमी और अष्टमी पर व्रत रखते हैं। कुछ भक्तगण उदयव्यापिनी अष्टमी पर उपवास करते हैं। 
 शास्त्रकारों ने व्रत -पूजन, जपादि हेतु अर्द्धरात्रि में रहने वाली तिथि को ही मान्यता दी। विशेषकर स्मार्त लोग अर्द्धरात्रिव्यापिनी अष्टमी को यह व्रत करते हैं। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल,चंडीगढ़ आदि में  में स्मार्त धर्मावलम्बी अर्थात गृहस्थ लोग गत हजारों सालों से इसी परंपरा का  अनुसरण करते हुए सप्तमी युक्ता अर्द्धरात्रिकालीन वाली अष्टमी को व्रत, पूजा आदि करते आ रहे हैं। जबकि मथुरा, वृंदावन सहित उत्तर प्रदेश आदि प्रदेशों में उदयकालीन अष्टमी के दिन ही कृष्ण जन्मोत्सव मनाते आ रहे हैं। भगवान कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा की परंपरा को आधार मानकर मनाई जाने वाली जन्माष्टमी के दिन ही  केन्द्रीय सरकार अवकाश की घोषणा करती है। वैष्णव संप्रदाय के अधिकांश लोग उदयकालिक नवमी युता जन्माष्टमी व्रत हेतु ग्रहण करते हैं।
सुबह स्नान के बाद ,व्रतानुष्ठान करके ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र जाप करें । पूरे दिन व्रत रखें । फलाहार कर सकते हैं। रात्रि के समय ठीक बारह बजे, लगभग अभिजित मुहूर्त में भगवान की आरती करें। प्रतीक स्वरुप खीरा फोड़ कर , शंख ध्वनि से  जन्मोत्सव मनाएं। चंद्रमा को अघ्र्य देकर नमस्कार करें । तत्पश्चात मक्खन, मिश्री, धनिया, केले, मिष्ठान आदि का  प्रसाद ग्रहण करें और बांटें। अगले दिन नवमी पर नन्दोत्सव मनाएं।  भगवान कृष्ण की आराधना के लिए आप यह मंत्र पढ़ सकते हैं-
ज्योत्स्नापते नमस्तुभ्यं नमस्ते ज्योतिशं पते!
नमस्ते रोहिणी कान्त अघ्र्य मे प्रतिगृह्यताम्!!
स्ंातान प्राप्ति के लिए - 
इस की इच्छा रखने वाले दंपत्ति, संतान गोपाल मंत्र का जाप पति -पत्नी दोनों मिल कर  करें, अवश्य लाभ होगा।
मंत्र है- देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते!
देहिमे तनयं कृष्ण त्वामहं षरणं गतः!!
दूसरा मं़त्र-
! क्लीं ग्लौं श्यामल अंगाय नमः !!
विवाह विलंब के लिए मंत्र है- 
ओम् क्लीं कृष्णाय गोविंदाय गोपीजनवल्ल्भाय स्वाहा।
इन मंत्रों की एक माला अर्थात 108 मंत्र कर सकते हैं। 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें