ENGLISH HINDI Thursday, January 18, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
सेना के वाहन से टकराया रिक्शा, एक परिवार के दो लोगों की मौतगुरप्रीत सिंह हैप्पी ने नवनियुक्त एसएचओ खान को कार्यभार के लिए शुभकामनाएँ दींमकर संक्रांति पर पतंग महोत्सव का किया आयोजन हरियाणा राजभवन कर्मचारी कल्याण संघ की वार्षिक बैठक, रामकुमार को सर्वसम्मति से एसोसिएशन का प्रधान चुना बरनाला में एक करोड़ की गांजा भरी 35 बोरी समेत पांच तस्कर काबू. 19 जनवरी तक का पुलिस रिमांड विविधताएं हमारी संस्कृति की चुनरी में सितारों की तरह हैं चमकती: प्रो.सोलंकीदादा की मौत को बर्दाश्त नहीं करते कांग्रेस के युवा विंग नेता ने दादी व खुद को मारी गोलीमाघ मकर संक्रान्ति 14 और 15 जनवरी को, खाएं व बाटें खिचड़ी
धर्म

गहरे पानी पैठ से ही आनन्द की प्राप्ति: राज वासुदेव सिंह

August 21, 2017 03:47 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
जिसप्रकार समुन्द्र में जो गोताखोर मेहनत करके जितना गहराई में जाते हैं वे ही उसमें से उतने हीरे—मोती लेकर आते हैं उसी प्रकार इन्सान भी जितना परमात्मा की गहराई में जाता है वह उतना ही तन—मन—धन के सुखों के साथ—साथ आनन्द को भी प्राप्त करता है। ये उद्गार यहां दिल्ली से आए सन्त निरंकारी मण्डल प्रचार विभाग के इन्चार्ज श्रीमति राज वासुदेव सिंह ने सैक्टर 30 में स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन में हुए विशाल सत्संग समारोह में उपस्थित श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए।
उन्होंने धार्मिक ग्रन्थों का हवाला देते हुए कहा कि आनन्द किसी धन—दौलत, विद्या या किसी अन्य कला आदि से प्राप्त नही किया जा सकता, इसे प्राप्त करने का आदि काल से केवल एक ही तरीका रहा है वह है सत्गुरू की शरण में जाकर ब्रह्मज्ञान प्राप्त करना और यह केवल मानुष जन्म में ही प्राप्त किया जा सकता है क्योंकि इस धरती पर रहने वाला हर इन्सान दो तरह का जीवन जी सकता है एक सांसारिक और दूसरा अध्यात्मिक जीवन, जबकि पशु.पक्षी केवल सांसारिक जीवन ही जी पाते हैं। इसी कारण केवल मानुष योनि में ही अवसर मिलता है। परमपिता परमात्मा जो उसका निज घर है जहां उसकी आत्मा ने इस शरीर को छोड़ने के बाद जाना है, की जानकारी हासिल कर ले अन्यथा उसके लिए मायारूपी संसार में जीवन यात्रा को आनन्दमयी तरीके से तय करने के साथ—साथ अन्त समय में मोक्षद्वार में प्रवेश करना भी असंभव हो जाता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें