ENGLISH HINDI Saturday, November 25, 2017
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
डेराबस्सी के स्कूल में बच्चे पर गिरी अलमारी, मिली मौत हाथी को छोड़ हाथ का साथ, निगम चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी को झटका, युवा नेता और अन्य पंजाब कांग्रेस में शामिलहरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से 42 पुलिस उप-अधीक्षकों (डीएसपी) के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी कियेमोरनी में मिले तीन बच्चों के शव, पिता ही निकला हत्यारा, पंचकुला पुलिस ने किया अरेस्टपद्मावती , मीडिया संपर्क प्रमुख को कारण बताओ नोटिसरूपाणी के चुनाव प्रचार जिम्मेदारी संभालेंगे भाजपा प्रदेश मीडिया प्रमुखमैं तो मेवात का हमसफर हूं : राव इंद्रजीत "पढ़ेगी महिला तो बढ़ेगी महिला, महिला पतंजलि योग समिति ने किया महिला सशक्तिकरण दिवस का आयोजन
राष्ट्रीय

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा बने देेश के 45वें मुख्य न्यायाधीश

August 28, 2017 01:13 PM

नयी दिल्ली: मुंबई के श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों के दोषी याकूब मेमन की फांसी के खिलाफ मध्य रात्रि में सुनवाई करने तथा निर्भया बलात्कार कांड के दोषियों की फांसी की सजा बरकरार रखने वाले न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा ने आज देश के 45वें मुख्य न्यायाधीश के तौर पर शपथ ली। राष्ट्रपति भवन के ऐतिहासिक दरबार हॉल में आयोजित एक समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने न्यायमूर्ति मिश्रा को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी।
इस मौके पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन ङ्क्षसह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और केंद्रीय मंत्रियों के अलावा कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। उनका कार्यकाल तीन अक्टूबर 2018 को समाप्त होगा।
न्यायमूर्ति मिश्रा भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) बनने वाले ओडिशा के तीसरे न्यायाधीश हैं। उनसे पहले ओडिशा से ताल्लुक रखने वाले न्यायमूर्ति रंगनाथ मिश्रा और न्यायमूर्ति जी बी पटनायक भी इस पद को सुशोभित कर चुके हैं। न्यायमूर्ति मिश्रा याकूब मेमन पर दिए गए फैसले के कारण काफी सुर्खियों में रहे थे। उन्होंने रात भर सुनवाई करते हुए याकूब की फांसी पर रोक लगाने संबंधी याचिका निरस्त कर दी थी।

न्यायमूर्ति मिश्रा पटना और दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश भी रह चुके हैं। तीन अक्टूबर 1953 को जन्मे न्यायमूर्ति मिश्रा को 17 फरवरी 1996 को उड़ीसा उच्च न्यायालय का अतिरिक्त न्यायाधीश बनाया गया था। तीन मार्च 1997 को उनका तबादला मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में कर दिया गया। उसी साल 19 दिसंबर को उन्हें स्थायी नियुक्ति दी गयी।
23 दिसंबर 2009 को उन्हें पटना उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया और 24 मई 2010 को दिल्ली उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया। वहां रहते हुए उन्होंने पांच हजार से ज्यादा मामलों में फैसले सुनाये और लोक अदालतों को ज्यादा प्रभावशाली बनाने के प्रयास किये। उन्हें 10 अक्टूबर 2011 को पदोन्नत करके उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया गया था। न्यायमूर्ति मिश्रा ने ही देशभर के सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के आदेश जारी किए थे।


कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
भगवान श्री सत्य साईं बाबा के 92 वें जन्मदिन समारोह के अवसर पर बहुधर्मी एवं वेद समारोह आयोजन 20 से 21 नवंबर तक होगा 300 साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ पहले एपीसीईआरटी सम्‍मेलन में लेंगे भाग मधुमेह पर काबू पाने के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का आह्वान राष्‍ट्रपति ने किया 37वें भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय व्‍यापार मेला का उद्घाटन राहुल गांधी के टवीट, कांग्रेस और देश की जनता ने जीएसटी में राहत दिलाई ,भाजपा ने खरी खरी सुनाई राहुल गांधी ने मोदी को टारगेट कर किया नया टवीट...न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी, शाह-जादा, शौर्य और अब विजय रूपाणी नवोदय विद्यालय में ऑनलाइन एडमिशन सिर्फ सीएससी के माध्यम से वीरभद्र सिंह के कार्यकाल में हुई अपराध में बढोतरी: टंडन मनजीत सिह राय ने नेशनल कमीशन फार माइनोरिटी में बतौर मैंबर संभाला चार्ज सेल इस्‍पात से निर्मित एक्‍सप्रेस-वे पर वायु सेना का सुपर हरक्‍यूलि‍स विमान उतारा गया