ENGLISH HINDI Saturday, May 26, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
तेज़ रफ़्तार कार अचानक आए मवेशी से जा टकराई, नान ड्राईविंग सीट पर बैठे शिमला के युवक की गई जान, दो जख्मी जीरकपुर के स्कूलों में बिजली और पानी की कमी से परेशान बच्चेकिरयेदारों की जांच न करवाने वाले मकान मालिकों के ख़िलाफ़ पुलिस ने कसा शिकंजा, 14 मकान मालिकों के ख़िलाफ़ किया केस दर्ज़रिश्तेदार की अवैध शराब ना छोडऩे पर भडक़े कुलबीर जीरा ने ठेकेदारो पर करवाई सख्ती, खुद चैक किए ठेकेकिसानो का कर्जा माफ करने आएं मंत्री ने बादल परिवार पर निकाला गुस्सारेवाड़ी में स्पा की आड़ में देह व्यापार, 19 महिलाओ सहित 28 लोग गिरफ्तार किसानों की सरसों को 31 मई, 2018 तक खरीद करने का निर्णयमोदी सरकार की योजनाओं को लेकर मैदान में उतरेगी भाजपा
कविताएँ

विहान मयूख

September 11, 2017 02:44 PM

— शिखा शर्मा
नभ से छिपने लगे हैं तारे
गगनचर चहकने लगे है सारे
फूट पड़ी है लौ मार्तण्ड की
देख कुसुम खिले है कितने प्यारे
छंट गया तिमिर का बदरा
रोशन हुआ खुशियों का अंगना
गतिमान है ऊर्जा की धारा
बूंद-बूंद रस घुलता न्यारा
पग-पग अनुभव कर ले राही
निद्रा की चादर छोड़
कर ले नई मंजिल की तैयारी
देख चली है पिपीलिका की पंक्ति
सूक्ष्म होकर भी अपार की शक्ति
न थकना न रुकना
न ललाट ठेंडुना
न भास्कर के पीछे चलना
नई राह की नई मुसाफिर
रोज़ नई मंजिल चुनना
समय की गति का मुसाफिर
समय के साथ ही चल
मंजिल बना
छोर तक पहुंचने का फल पा

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें