ENGLISH HINDI Sunday, May 27, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
पत्रकार राष्ट्र व लोक हित में लेखनी का प्रयोग कर समाज को नई दिशा दें- मनोहर लाल21 घंटे बीतने पर भी बिजली की समस्या के साथ जूझ रहे हैं गाँव भुड्डा निवासीडॉक्टर बनकर जरूरतमंदों की सेवा करना चाहती है सुनिधिमोहल्ला वासियों ने एक परिवार पर परेशान करने को लेकर रोड जाम कियाराज्यसभा सांसद डीपी वत्स के सम्मान में तीन बार काउंसिल के ऑडिटोरियम में बधाई समारोह का आयोजन छुट्टियां शुरू, चिड़ियाघर में बढ़ने लगी रौनक,बच्चों को खूब भा रही है वाक इन एवेरीपरीक्षा परिणाम देख खुशी से उछल पड़े विद्यार्थीडी.सी. मॉडल कैंट के विद्यार्थियो ने मैडिकल व नॉन मैडिकल स्ट्रीम में चमकाया स्कूल का नाम
धर्म

धर्म शांतिपूर्वक रहने की कला सिखाता है: सौरभ मुनि

October 14, 2017 07:27 PM

चंडीगढ़, (कुलबीर सिंह कलसी)
धर्म जीवन का महत्वपूर्ण उद्देश्य है| धर्म ही जीवन का सार है| पुण्य शुभ प्रवृति। नेक कार्य है परन्तु धर्म प्रवृति नहीं, निर्वृति है| सुख-साधनों से सुख तथा दुःख दोनों मिलते है परन्तु सुख-साधनों का उपयोग करने की कला धर्म सिखाता है| धर्म से ही अच्छे संस्कार मिलते है तथा व्यक्ति शांति से रह सकता है| सुख-साधन प्राप्त हो जाने से भी विवेक, बुद्धि नहीं मिलते| लोग पुण्य तो करते है, परन्तु धर्म नहीं करते| शांति, सद्गति तथा मोक्ष- पुण्य से नहीं, धर्म से ही प्राप्त होते है| मन की पवित्रता ही धार्मिक ह्रदय की कसौटी है| धर्म बन्धन नहीं है, यह बन्धनों को खोलता है | यह आत्मा को विशुद्ध स्वभाव की ओर ले जाता है तथा मोक्ष के मार्ग पर अग्रसर करता है| जो धरती को धारण करता है, वही धर्म है | प्रत्येक व्यक्ति का दूसरे के प्रति जो कर्तव्य है, वह भी धर्म कहा जाता है | लोग धर्म के वास्तविक स्वरूप को नहीं समझते | क्रियाकांड धर्म नहीं है, वे धर्म के लिए किए जाते है | धर्म में मुलत: कोई अन्तर नहीं है | सम्प्रदाय के आधार पर ही धर्म को अलग-अलग कहा जाता है| धर्म तो एक ही है| धार्मिक अनुष्ठानों में भावना, चिन्तन का ही महत्व है| क्रियाकांडों के आधार पर ही व्यक्ति को धार्मिक नहीं कहा जा सकता| जहां धर्म होता है, वहां प्रेम और मैत्री के संबन्ध होते है| आत्मा के सद्गुणों में ही धर्म का वास होता है| यह बात आज सेक्टर 18 स्थित जैन स्थानक में चातुर्मास के लिए विराजित संत श्री सौरभ मुनि जी महाराज ने अपने प्रवचनों में कही| सभा के प्रचार सचिव नीरज जैन ने बताया की रविवार 15 ओक्टूबर को जैन स्थानक में सामायिक दिवस मनाया जायेगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें
इन्सान कितने साल जिया बल्कि कैसे जी कर गया यह है महत्वपूर्ण श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला व वेदों का सार हनुमान जयंती पर खेड़ा शिव मंदिर में सुंदरकांड पाठ का आयोजन शनिवार को हनुमान जयंती होने के कारण इसका महत्व ज्यादा साई मंदिर में रामनवमी पर भजन संध्या, पालकी 18 को चंडीगढ़-जीरकपुर जाएगी नृत्य नाटिका में दिखाया श्रीकृष्ण के बाल्य रूप से लेकर सिंहासन तक का सफर लंगर सामग्री से भरा ट्रक खाटू श्याम हुआ रवाना 250 शहरों में 564 सरकारी अस्पतालों व डिस्पैंसरियों की सफाई गुरु पूजा दिवस पर सफाई व पौधारोपण अभियान 24 को जीवन की यात्रा एक अज्ञात यात्रा है और उस यात्रा पर हम सभी मुसाफिर.श्री 108 स्वामी अशोक पुरी जी महाराज