ENGLISH HINDI Sunday, November 18, 2018
Follow us on
धर्म

धर्म शांतिपूर्वक रहने की कला सिखाता है: सौरभ मुनि

October 14, 2017 07:27 PM

चंडीगढ़, (कुलबीर सिंह कलसी)
धर्म जीवन का महत्वपूर्ण उद्देश्य है| धर्म ही जीवन का सार है| पुण्य शुभ प्रवृति। नेक कार्य है परन्तु धर्म प्रवृति नहीं, निर्वृति है| सुख-साधनों से सुख तथा दुःख दोनों मिलते है परन्तु सुख-साधनों का उपयोग करने की कला धर्म सिखाता है| धर्म से ही अच्छे संस्कार मिलते है तथा व्यक्ति शांति से रह सकता है| सुख-साधन प्राप्त हो जाने से भी विवेक, बुद्धि नहीं मिलते| लोग पुण्य तो करते है, परन्तु धर्म नहीं करते| शांति, सद्गति तथा मोक्ष- पुण्य से नहीं, धर्म से ही प्राप्त होते है| मन की पवित्रता ही धार्मिक ह्रदय की कसौटी है| धर्म बन्धन नहीं है, यह बन्धनों को खोलता है | यह आत्मा को विशुद्ध स्वभाव की ओर ले जाता है तथा मोक्ष के मार्ग पर अग्रसर करता है| जो धरती को धारण करता है, वही धर्म है | प्रत्येक व्यक्ति का दूसरे के प्रति जो कर्तव्य है, वह भी धर्म कहा जाता है | लोग धर्म के वास्तविक स्वरूप को नहीं समझते | क्रियाकांड धर्म नहीं है, वे धर्म के लिए किए जाते है | धर्म में मुलत: कोई अन्तर नहीं है | सम्प्रदाय के आधार पर ही धर्म को अलग-अलग कहा जाता है| धर्म तो एक ही है| धार्मिक अनुष्ठानों में भावना, चिन्तन का ही महत्व है| क्रियाकांडों के आधार पर ही व्यक्ति को धार्मिक नहीं कहा जा सकता| जहां धर्म होता है, वहां प्रेम और मैत्री के संबन्ध होते है| आत्मा के सद्गुणों में ही धर्म का वास होता है| यह बात आज सेक्टर 18 स्थित जैन स्थानक में चातुर्मास के लिए विराजित संत श्री सौरभ मुनि जी महाराज ने अपने प्रवचनों में कही| सभा के प्रचार सचिव नीरज जैन ने बताया की रविवार 15 ओक्टूबर को जैन स्थानक में सामायिक दिवस मनाया जायेगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें
पंचकुला में धूमधाम से मनाई गई जन्माष्टमी चण्डीगढ़ में जन्माष्टमी की धूम: साईं मंदिर में बाल कृष्ण को मक्खन-मिश्री का भोग लगाया साईं मंदिर में जन्माष्टमी पर मक्खन-मिश्री का लगाया जाएगा भोग चैतन्य गौड़ीय मठ मंदिर में जन्माष्टमी पर्व की धूम: हर्षोल्लास और श्रद्धाभाव से मनाया जा रहा है मठ मंदिर में पर्व गौ माता की रक्षा के लिए आए गोपाल: शास्त्री पूर्वांचल सांस्कृतिक संघ चण्डीगढ़ की ओर से अखंड अष्टयाम पूजा सम्पन मंत्र शक्ति को करें जागृत: सुधांशु जी इन्सान कितने साल जिया बल्कि कैसे जी कर गया यह है महत्वपूर्ण श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला व वेदों का सार हनुमान जयंती पर खेड़ा शिव मंदिर में सुंदरकांड पाठ का आयोजन