ENGLISH HINDI Friday, November 24, 2017
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
हाथी को छोड़ हाथ का साथ, निगम चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी को झटका, युवा नेता और अन्य पंजाब कांग्रेस में शामिलहरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से 42 पुलिस उप-अधीक्षकों (डीएसपी) के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी कियेमोरनी में मिले तीन बच्चों के शव, पिता ही निकला हत्यारा, पंचकुला पुलिस ने किया अरेस्टपद्मावती , मीडिया संपर्क प्रमुख को कारण बताओ नोटिसरूपाणी के चुनाव प्रचार जिम्मेदारी संभालेंगे भाजपा प्रदेश मीडिया प्रमुखमैं तो मेवात का हमसफर हूं : राव इंद्रजीत "पढ़ेगी महिला तो बढ़ेगी महिला, महिला पतंजलि योग समिति ने किया महिला सशक्तिकरण दिवस का आयोजन भगवान श्री सत्य साईं बाबा के 92 वें जन्मदिन समारोह के अवसर पर बहुधर्मी एवं वेद समारोह आयोजन 20 से 21 नवंबर तक होगा
कविताएँ

मैं ही मैं

October 16, 2017 02:42 PM

— रोशन
अनंत आकाश है अनंत हैं उसकी ऊर्जा
हम—तुम तो हैं इस दुनियां का
ईक सूक्ष्म सा पुर्जा
खाए, खेले, रोए, कूदे
किया वही जो मन को सूझा
आन पड़ी जब विपत्ता तब
सहारा मिला ना उस बिन कोई दूजा
धरा बनी और बिगड़ी बारम्बार
समग्र अस्त्तिव आकाश रूप में
सदा ही गया है पूजा
अनंत है उसकी माया
विचित्र है उसकी लीला
ऐसी सूझी उसके मन में
मिट्टी को आंच लगा कर
पञ्च तत्वों का प्राणी खोजा
जल-वायु अग्नि आकाश धरातल
पृथ्वी का प्रालोक पातालतल
अखंड शक्ति का संचार चलाचल
कहां-कहां नहीं उसकी ऊर्जा
फिर भी ऐसा हुआ करिश्मा
हम-तुम
लिप्तमगन है अपनी धुन में
अपना इक संसार बनाकर
अपनी सृष्टि अपनी दृष्टि
और अपने में ही उलझा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें