ENGLISH HINDI Friday, November 24, 2017
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
हाथी को छोड़ हाथ का साथ, निगम चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी को झटका, युवा नेता और अन्य पंजाब कांग्रेस में शामिलहरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से 42 पुलिस उप-अधीक्षकों (डीएसपी) के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी कियेमोरनी में मिले तीन बच्चों के शव, पिता ही निकला हत्यारा, पंचकुला पुलिस ने किया अरेस्टपद्मावती , मीडिया संपर्क प्रमुख को कारण बताओ नोटिसरूपाणी के चुनाव प्रचार जिम्मेदारी संभालेंगे भाजपा प्रदेश मीडिया प्रमुखमैं तो मेवात का हमसफर हूं : राव इंद्रजीत "पढ़ेगी महिला तो बढ़ेगी महिला, महिला पतंजलि योग समिति ने किया महिला सशक्तिकरण दिवस का आयोजन भगवान श्री सत्य साईं बाबा के 92 वें जन्मदिन समारोह के अवसर पर बहुधर्मी एवं वेद समारोह आयोजन 20 से 21 नवंबर तक होगा
राष्ट्रीय

राहुल गांधी ने मोदी को टारगेट कर किया नया टवीट...न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी, शाह-जादा, शौर्य और अब विजय रूपाणी

November 09, 2017 07:51 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी के एचयूएफ अकाउंट सहित 22 संस्थाओं और व्यक्तियों को सारंग केमिकल्स कंपनी के साथ ‘व्यापार में हेरफेर’ का दोषी ठहराया है। इस पर राहुल गांधी ने झट से टवीट कर दिया कि न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी,शाह-जादा, शौर्य और अब विजय रूपाणी.

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने इस संबंध में नवजीवन जो नैशनल हैराल्ड का हिंदी संस्करण है, का लिंक भी प्रमाण के तौर पर शेयर किया है;
क्या लिखा है नवजीवन ने

विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात के सीएम विजय रूपानी को एक बड़ा झटका लगा है। सेबी ने रूपानी के हिंदू अविभाजित परिवार यानी एचयूएफ खाते सहित 22 संस्थाओं और व्यक्तियों को सारंग केमिकल्स कंपनी के साथ 'व्यापार में हेरफेर' का दोषी ठहराया है। सेबी को जांच में पता चला कि ये सभी 22 संस्थाएं और खाते एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। इन सभी पर कुल 6.9 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

विजय रूपानी के एचयूएफ पर 15 लाख रुपये का जुर्माना लगा है। सेबी का कहना है कि जुर्माने की राशि 'उल्लंघन के अनुरूप' है। इन 22 नामों में दो शेयर दलाल हैं, जिनके जरिये कारोबार किया गया था। उन दोनों से भी 8-8 लाख रुपये का जुर्माना वसूला जाएगा। हेर-फेर वाले ये कथित सौदे जनवरी, 2011 से जून, 2011 के बीच किए गए थे।

सेबी ने अपने आदेश में कहा, “जिन इकाइयों को नोटिस भेजे गए हैं, उन्होंने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए एक-दूसरे के साथ बड़ी मात्रा में शेयर का कारोबार शुरू किया था। जब दूसरे निवेशकों ने इस फर्जी कारोबार से आकर्षित होकर इसमें पैसा लगाया तो समूह की कुछ इकाईयों ने बढ़ी हुई कीमतों पर शेयरों की बिक्री शुरू कर दी। इस तरह का कारोबार व्यवहार स्पष्ट रूप से अनुचित उद्देश्य दर्शाता है।”

सेबी द्वारा बताया गया कि रूपाणी के एचयूएफ का पैन चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उनके हलफनामे में दिए गए पैन से मिलता था। 27 अक्टूबर को 31 पन्ने के आदेश में महाप्रबंधक और निर्णायक अधिकारी रचना आनंद ने कहा, 'नोटिस पाने वालों पर उल्लंघन का आरोप साबित हो चुका है और यह गंभीर उल्लंघन है। मैं मानती हूं कि उनमें से पहले से 20वें नंबर तक के निकायों पर सेबी कानून की धारा 15 एचए के अंतर्गत जुर्माना लगना चाहिए।'

ऐसे समझें पूरा मामला

-3 जनवरी 2011- 8 जून 2011: सांरग केमिकल्स के शेयरों की सेबी ने जांच की ।
-13 जुलाई, 2011: बाजार नियामक ने कार्यवाही शुरू की।
-6 मई, 2016: गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाानी के एचयूएफ सहित सभी 22 संस्थाओं को कारण बताओ नोटिस जारी -किया गया, जिसका उन्होंने जवाब नहीं दिया।
-27 अक्टूबर,2017: सेबी ने 22 संस्थाओं के खिलाफ 6.9 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया, जिनमें विजय रूपानी के एचयूएफ पर 15 लाख रुपये का जुर्माना लगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
भगवान श्री सत्य साईं बाबा के 92 वें जन्मदिन समारोह के अवसर पर बहुधर्मी एवं वेद समारोह आयोजन 20 से 21 नवंबर तक होगा 300 साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ पहले एपीसीईआरटी सम्‍मेलन में लेंगे भाग मधुमेह पर काबू पाने के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का आह्वान राष्‍ट्रपति ने किया 37वें भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय व्‍यापार मेला का उद्घाटन राहुल गांधी के टवीट, कांग्रेस और देश की जनता ने जीएसटी में राहत दिलाई ,भाजपा ने खरी खरी सुनाई नवोदय विद्यालय में ऑनलाइन एडमिशन सिर्फ सीएससी के माध्यम से वीरभद्र सिंह के कार्यकाल में हुई अपराध में बढोतरी: टंडन मनजीत सिह राय ने नेशनल कमीशन फार माइनोरिटी में बतौर मैंबर संभाला चार्ज सेल इस्‍पात से निर्मित एक्‍सप्रेस-वे पर वायु सेना का सुपर हरक्‍यूलि‍स विमान उतारा गया अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति ने राष्‍ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद से की मुलाकात