ENGLISH HINDI Friday, June 22, 2018
Follow us on
अंतर्राष्ट्रीय

भारतीय मूल की मॉरीश्यिन लेखिका ने किया दो पुस्तकों का विमोचन

December 21, 2017 05:06 PM

चंडीगढ, फेस2न्यूज:
भारतीय मूल की मॉरीशस स्थित लेखिका सुरीति रघुनंदन ने चंडीगढ प्रेस कल्ब में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान अपनी दो रचनाओ ‘अपनी अपनी मंजिले’ और ‘कागज की जिंदगी’ का विमोचन किया। सुरीति पिछले 15 सालों से भारत और मॉरीशस में हिन्दी शिक्षण में जुटी हुई है और 2005 से अब तक लगातार मॉरीशस ब्रॉडकास्टिंग सेंटर के आकाशवाणी और दूरदर्शन से जुडी हुई है।
नौ वर्ष बाद अपने देश भारत लौटी सुरीति अपनी लांच की गई किताबों को लेकर काफी उत्साहित है और अपनी लेखनी के माध्यम से तमाम समाजिक विसंगतियों के बावजूद आशावादी स्वर की रचनायें पाठकों तक पहुंचाने का प्रयास किया है।
डा रघुनंदन की ‘अपनी अपनी मंजिलें’ में 42 कवितायों का संग्रह है। इन कविताओं में जहां जन्मभूमि की यादें हैं वहीं कर्मभूमि का भी लगाव है। कवियात्री 21वीं सदी की स्त्री है और स्त्री अस्मिता के सवालों से जूझती नजर आती है। उनकी रचनायें जहां देश की मिट्टी की खुशबू से सरोबार है वहीं मॉरीशस का सम्मोहन भी स्पष्ट छलकता है। जन्मभूमि और कर्मभूमि के एहसासों को उनकी कविताओं में भरपूर महसूस किया जा सकता है।
सुरीति की कविताओं में की संवेदना स्त्री जीवन की विसंगतियों से जूझती नजर आती है मगर उनका स्वर आशावादी है। कविताओं के माध्यम से उन्होंने यह भी आश्वस्त किया है कि संघर्ष में भी स्त्री अपना मुकाम हासिल कर लेती है।
सुरीति ने बताया कि ‘अपनी अपनी मंजिलों’ में सभी कवितायें जीवन के यथार्थ से जुडी हुई है । उन्होंने बताया कि वे स्वयं को हर उस मानव की पीडा से पीडित अनुभव करती हूं जो बहुत कुछ सहता है, संघर्ष करता है, टूटने व घुटने और यहां तक की प्लायन की बात सोचता है परन्तु आत्म शक्ति को जगाये रखकर अपनी जिंदगी जीता है। उन्होंने बताया कि किताब में नारी जीवन के संघर्ष का स्वर है जिसमें घरेलू हिंसा में दर्द प्रस्तुत होता है तो बेटी बनकर खुशियां बिखेरती है।
उनकी दूसरी किताब ‘कागज की जिंदगी’ 66 गजलों का संग्रह है। श्रुति ने बताया कि उन्होंने मुहब्बत भरे दिलों की हर धडकन को सुकून से सुनने की कोशिश की है और इश्क में डूबे आशिकों की बेकरारी, इंतजार, मुलाकात की कोशिश और मोहब्बत की गहराई का अहसास दिलवाया है। उन्होंने कई नज्मों में सामाजिक मुद्दों की गहराईयां भी झलकती हैं ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और अंतर्राष्ट्रीय ख़बरें