ENGLISH HINDI Friday, June 22, 2018
Follow us on
हरियाणा

पढ़ी-लिखी पंचायत बनी प्रशासन के गले की फांस

January 12, 2018 04:06 PM

नूंह (धनेश विद्यार्थी) 

दो दर्जन से अधिक सरपंचों के खिलाफ चल रही फर्जी प्रमाण-पत्रों की जांच, 19 सरपंचों के खिलाफ एकजुट होकर उपायुक्त को दी शिकायत

पढ़ी-लिखी पंचायत बनाने का प्रदेश सरकार का निर्णय जिला प्रशासन के गले की फांस बनता जा रहा है। जिले में आए दिन सरपंचों के खिलाफ शिकायत लगती रहती है कि उन्होंने फर्जी प्रमाण-पत्र बनवाकर चुनाव लड़ा और जीता। मंगलवार को भी ऐेसे ही करीब एक दर्जन गांवों के सरपंचों के खिलाफ अलग-अलग गांवों के दर्जनों लोगों ने एक ही शिकायत में उपायुक्त अशोक शर्मा से मुलाकात की और ऐसे सरपंचों के खिलाफ कार्यवाई करने की मांग की। मकसूद तुसैनी, धर्मबीर फलेंड़ी, हसन, मोहम्मद यूसूफ रानियाकी, हसन मोहम्मद गुरनावट, रसीद जमालगढ़, बाबूलाल ऊटोन, साजिद खान ढाना, कल्लू खां तेड़ समेत करीब तीन दर्जन लोगों ने उपायुक्त को दी शिकायत में बताया कि ग्राम पंचायत रानियाकी, निजामपुर, ऊटोन, शिकारपुर, फलेंड़ी, जमालगढ़, ढाणा, तुसैनी, जैवंत, जहठाणा, झारपड़ी, गोहाना, बूचाका, बीबीपुर, मंदापुर, कैराका, इब्राहिमबास, मल्हाका, भपावली के सरपंचों ने फर्जी प्रमाण-पत्र के आधार पर चुनाव जीता था। जांच में भी इनके दस्तावेज फर्जी पाए गए थे। लेकिन फिर भी प्रशासन ने इन सरपंचों को इनके पदों से नहीं हटाया। जिनमें कुछ सरपंचों के खिलाफ तो मुकदमा भी दर्ज हो चुका है। शिकारपुर पंचायत के सरपंच का प्रमाण-पत्र बनाने वाला अध्यापक भी जेल जा चुका है, लेकिन सरपंच अभी भी अपने पद पर बना हुआ है। लोगों ने तुरंत ऐसे सरपंचों को पद से हटाने की मांग की।
कमेटी कर रही जांच: जिले के 29 सरपंचों के खिलाफ फर्जी प्रमाण-पत्र के आधार पर चुनाव लडऩे का आरोप लगाया गया है। जिनकी जांच के लिए सरकार के निर्देश पर जिला परिषद के सीईओ गजेंद्र कुमार की अध्यक्षता में कमेटी बनाई हुई है। जिसमें जिला शिक्षा अधिकारी डा. दिनेश शास्त्री व तहसीलदार नूंह बस्तीराम को सदस्य बनाया गया है। उक्त कमेटी इन सरपंचों के खिलाफ जांच कर रही है और जांच के आधार पर ही कार्यवाई की जाएगी।
-राकेश मोर, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी।
लोगों की शिकायत मिल चुकी है, जांच कमेटी पहले ही अपनी जांच कर रही है। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाई अमल में लाई जाएगी।
-अशोक शर्मा, उपायुक्त नूंह।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें