ENGLISH HINDI Wednesday, February 21, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
कौंसिल प्रशासन ने तैयार की रणनीति, पॉलीथिन पर बैन पीएनबी घोटाले को लेकर युवा कांग्रेस ने किया प्रदर्शन प्राइवेट बिल्डर ने नाजायज तौर पर सड़क खोदी, सीवरेज जोड़ने की कोशिशसांपला दुबई के दो दिवसीय दौरे पर: दुबई के गुरुद्वारा गुरु नानक दरबार में हुए नतमस्तकहरियाणा, एक आईएएस अधिकारी तथा दो एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश यहां ड्राइव करने वालों के लिए तो रांग ही है राइटचुनाव खर्च का विवरण देने में किया परहेज तो यमुनानगर के 64 उम्मीदवार तीन साल पालिका चुनाव के लिए कर दिए अयोग्यहरियणा और यूपी विश्व शांति, एकता, आपसी सदभाव और समृद्धि के लिए बहुत अहम, सूरजकुंड मेले के समापन पर बोले सोलंकी
पंजाब

जीरकपुर में भगवान भरोसे है होटलों और मैरिज पैलेसों की सुरक्षा, कई बैंकों में निहत्थे गार्ड के भरोसे करोड़ों का ट्रांजैक्शन, होटलों और मैरेज पैलसों की पार्किंग सड़कों पर

February 07, 2018 07:13 PM

फेस2न्यूज एक्सलुसिव
जीरकपुर, जेएस कलेर
आये दिन होटलों, मैरिज पैलसों, एटीएम और बैंकों में लूट की घटनाएं हो रही हैं। बावजूद इसके जीरकपुर व डेराबस्सी की कई होटलों, पैलसों, एटीएम एवं बैंक की शाखाओं में सुरक्षा गार्ड नहीं हैं। सबसे बदतर स्थिति पंचकूला सड़क पर बीतिहाशा बने होटलों व डेराबासी के ग्रामीण क्षेत्र मुबारिकपुर रोड के पैलेसों की है। जिनकी सुरक्षा भगवान भरोसे है। इनमें न तो सुरक्षा गार्ड हैं और न ही निगरानी रखने के लिए बेहतर सीसीटीवी कैमरे। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों के बैंक कर्मी जान को दांव पर लगाकर लाखों की रकम बाइक या कार से मुख्य शाखा से लाते हैं व ले जाते हैं। विधानसभा क्षेत्र डेराबसी में संचालित दर्जनों पैलसों व बैंकों की सुरक्षा भगवान भरोसे चल रहा है। इन व्योपारिक प्रतिष्ठानों में कई जगहों पर तो सीसीटीवी कैमरे तक नहीं हैं और जिनमें हैं वो चल नहीं रहे। यहाँ तैनात गार्डों के हाथों में बंदूक तो छोड़ दें एक डंडा भी नहीं है. गौरतलब हो कि प्रदेश के कई स्थानों में अभी हाल ही में पैलेसों के बाहर से गाड़ियों की लूट, बैंक में लूट, डकैती की घटनाएं हुई हैं। ऐसे में यह स्थान लुटेरों के लिए आसान टारगेट हो सकता है। क्योंकि यहां साफ तौर पर देखा जा रहा है कि प्रबंधन लापरवाही बरत रहे हैं।

विधानसभा क्षेत्र डेराबसी में संचालित दर्जनों पैलसों व बैंकों की सुरक्षा भगवान भरोसे चल रहा है। इन व्योपारिक प्रतिष्ठानों में कई जगहों पर तो सीसीटीवी कैमरे तक नहीं हैं और जिनमें हैं वो चल नहीं रहे। यहाँ तैनात गार्डों के हाथों में बंदूक तो छोड़ दें एक डंडा भी नहीं है. गौरतलब हो कि प्रदेश के कई स्थानों में अभी हाल ही में पैलेसों के बाहर से गाड़ियों की लूट, बैंक में लूट, डकैती की घटनाएं हुई हैं। ऐसे में यह स्थान लुटेरों के लिए आसान टारगेट हो सकता है। क्योंकि यहां साफ तौर पर देखा जा रहा है कि प्रबंधन लापरवाही बरत रहे हैं।

कई मैरिज पैलसो में तो गार्ड ही नहीं हैं। सड़क किनारे संचालित हो रहे पैलसों व बैंकों को ज्यादा खतरा है। वहीं सुरक्षा के मामलों में पुलिस अपने आप को पूरी तरह से सतर्क बता रही है। वेस्टवुड से फॉर्च्यूनर लूट के बाद रात्रि गश्त भी बढ़ा दी गयी है। दिन में भी शहर में एंट्री करने वाले वाहनों की जांच की जा रही है। ज्यादातर पैलसों के पास पर्याप्त पार्किंग की व्यवस्था नहीं की गयी है समारोह में आने वाले लोगो को गाड़ियों की पार्किंग अपने रिस्क पर करनी होती है। पुलिस का भी मानना है कि दिन में लोगों की चहल-पहल के दौरान हादसे को अंजाम देना फिर भी एक नजरिए से चुनौती भरा होता है लेकिन रात के अंधेरे में वारदात को अंजाम देना आसान हो जाता है। रात के अंधेरे में होनेवाले गुपचुप हादसों के लिए पैलसों में लगाये जानेवाला सीसीटीवी व अलार्म बहुत ही उपयोगी साबित होता है लेकिन कई होटलों, पैलसों व बैंकों ने अपने एटीएम के बाहर सीसीटीवी तक की व्यवस्था नहीं करायी है। ग्रामीण क्षेत्रों के रिजॉर्ट्स की सुरक्षा बेहद संवेदनशील हैं। वहीं ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के इरादे से सरकार ने बैंकों को सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी शाखाएं खोलने का निर्देश दिया हुआ है। करीब 50 बैंक शाखाएं विधानसभा के उन सुदूरवर्ती क्षेत्रों में हैं, जहां सुरक्षा नाम मात्र का भी नहीं है। बाकी सब शाखाओं की सुरक्षा भी भगवान भरोसे है। ज्यादातर बैंकों में सुरक्षा के लिए सिर्फ एक गार्ड तैनात हैं। वह भी बैंकों द्वारा प्रतिनियुक्त। ज्यादातर बैंक शाखाओं की ओर पुलिस आमतौर पर झांकने भी नहीं जाती या फिर जाती है तो अपने काम भर से। शहरी क्षेत्र में स्थित बैंक शाखाओं की सुरक्षा की भी कोई गारंटी नही।
एसएसपी के आदेश बेअसर
सुरक्षा को लेकर एसएसपी का आदेश बेअसर बैंकों की सुरक्षा को लेकर एसएसपी कुलदीप चहल ने होटल मालिकों, बैंक्वेट हॉल मालिकों व बैंक के अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये थे। बैठक में संबंधित सुरक्षा के विषय पर चर्चा की गयी थी। इससे होटल मालिकों व बैंकों और पुलिस के बीच संवादहीनता की शिकायत से निबटने में मदद मिलेगी तथा आपस में परामर्श व सुझाव का आदान-प्रदान होगा। जीरकपुर के बैंकों में भी पिछले कुछ महीनों में दीवार काटकर चोरी का प्रयास किया गया था। शहर के स्टे्ट बैंक ऑफ इंडिया व देना बैंक में सेंधमारी की गयी थी। वही हाल ही में पंचकूला रोड पर स्थित वेस्ट वुड होटल के बाहर से फॉर्च्यूनर लूट ने इन व्यापारिक संस्थानों में सुरक्षा स्थिति की पोल खोल कर रख दी थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
कौंसिल प्रशासन ने तैयार की रणनीति, पॉलीथिन पर बैन प्राइवेट बिल्डर ने नाजायज तौर पर सड़क खोदी, सीवरेज जोड़ने की कोशिश सांपला दुबई के दो दिवसीय दौरे पर: दुबई के गुरुद्वारा गुरु नानक दरबार में हुए नतमस्तक यहां ड्राइव करने वालों के लिए तो रांग ही है राइट प्रशिक्षण कार्यशाला में अध्यापकों ने बच्चों के मन की भावनाओं को किया व्यक्त राजपुरा से जीरकपुर घर लौट रहे सेंट्रो कार ट्रक में घुसी, मौके पर कार सवार नौजवानों ने तोड़ा दम प्रापर्टी डीलर ने एक प्लाट को 2 अलग-अलग टुकड़ों में बांटा, और फिर एमसी ने कर दिए नक्शे पास.. जीरकपुर : दस्तावेज पूरे तो तीस दिन में नक्शा चकाचक कुकरमुत्तों की तरह डेराबस्सी और जीरकपुर में बनी अवैध कलोनियां एनओसी के बिना रजिस्ट्री पर रोक का निकाला हल पावरकॉम ने बकायेदारों से वसूली के लिए कसी कमर, काटे जाएंगे कनेक्शन