ENGLISH HINDI Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
पंजाब

यहां ड्राइव करने वालों के लिए तो रांग ही है राइट

February 19, 2018 05:43 PM
*रांग साइड ड्राइविंग की वजह से लगता है सबसे ज्यादा जाम**अंबाला रोड पर सबसे अधिक झेलता है रांग साइड ड्राइविंग और पार्किंग की समस्या 
जीरकपुर (जे एस कलेर) 
रोड पर ड्राइविंग के लिए बेहतर रोड चाहिए। ट्रैफिक जाम से मुक्ति चाहिए, टाइम लॉस नहीं होना चाहिए। रोड पर कार व बाइक लेकर निकलने के बाद लोगों को फॉरेन कंट्री या चंडीगढ़ की तरह ट्रैफिक सिस्टम चाहिए। लेकिन रोड पर निकलने के बाद ट्रैफिक रूल फॉलो करना शगन के खिलाफ है।

शहर के पटियाला रोड, पंचकूला रोड, पटियाला चौक, पंचकूला चौक, वी आई पी रोड, के एरिया लाइट पॉइंट के साथ ही शहर की अन्य सड़कें अक्सर ब्लॉक हो जाती हैं। वजह होती है, रांग साइड ड्राइविंग और रांग पार्किंग। जरा सा जाम लगा नहीं कि एक- दूसरे से आगे निकलने की होड़ लग जाती है। फिर एक के पीछे एक नहीं, बल्कि एक के बगल में दूसरी, दूसरी के बगल में तीसरी गाड़ी खड़ी हो जाती है और दोनों साइड का रास्ता ब्लॉक हो जाता है. 

 
 
 
 
यह कहानी है जिरकपुर की, जहां ड्राइव करने वालों के लिए रांग ही राइट है। यह कहानी अमुमन सारे जिरकपूर की है परंतु मैकडोनल्ड चोंक पर इस ट्रैफिक पुलिस व हाइवे पैट्रोल ने भी हरी झंडी दे रखी है। दरसल यहाँ पर दिल्ली हाइवे से एयरपोर्ट रिंग रोड की कनेक्टिविटी की जानी है इस जगह पर चौराहा बनाने का प्रपोजल है लेकि अभी सड़क के पार पंचकूला की तरफ जाने वाली रोड निर्माणाधीन है। जिसकी वजह से एयरपोर्ट से आने वाला ट्रैफिक सिंघपुरा लाइट्स की तरफ ना मुड़कर मैकडोनल्ड तक 200 मीटर रोंग साइड आकर दिल्ली रोड से कनेक्ट होता है। ऊपर से शहर में ट्रैफिक कर्मियों की कमी ट्रैफिक जाम समस्या में आग में घी का काम करती है।
 
घंटों ब्लॉक रहती हैं सड़कें 
शहर के पटियाला रोड, पंचकूला रोड, पटियाला चौक, पंचकूला चौक, वी आई पी रोड, के एरिया लाइट पॉइंट के साथ ही शहर की अन्य सड़कें अक्सर ब्लॉक हो जाती हैं। वजह होती है, रांग साइड ड्राइविंग और रांग पार्किंग। जरा सा जाम लगा नहीं कि एक- दूसरे से आगे निकलने की होड़ लग जाती है। फिर एक के पीछे एक नहीं, बल्कि एक के बगल में दूसरी, दूसरी के बगल में तीसरी गाड़ी खड़ी हो जाती है और दोनों साइड का रास्ता ब्लॉक हो जाता है. 
यह है शहर का जाम जोन 
*पटियाला चौक
 सुबह- दोपहर- शाम पटियाला चौक में पुल के नीचे भीषण जाम लगता है। आने- जाने के दो रास्ते बने हुए हैं। लेकिन जल्दी निकलने के चक्कर में लोग रांग साइड में व्हीकल लेकर घुस जाते हैं। इसकी वजह से भीषण जाम लग जाता है।
*पंचकूला चौक 
ट्रैफिक कंट्रोल के लिए यहां ट्रैफिक पुलिस वाले खड़े रहते हैं। इसके बाद भी छोटी और बड़ी गाड़ी वाले रांग साइड से आ जाते हैं, जो जाम लगने का सबसे बड़ा कारण बनता है।
*के एरिया लाइट पॉइंट 
के एरिया लाइट पॉइंट होते हुए ढकोली से बलटाना और पंचकूला जाने वाली रोड भी अक्सर ब्लॉक रहती है। वजह, यहां रांग साइड ड्राइविंग और गलत ढंग से टेक ओवर करने वालों की भीड़ दिखाई देती है. 
ट्रैफिक रूल तोड़ने में माहिर
*यूथ की जिग- जैग ड्राइविंग से दूसरों को होती है परेशानी. 
*फुल स्पीड में बाइक चलाना और फिर अचानक ब्रेक मारना बन गई है आदत. 
*रोड पर चलने के दौरान ट्रैफिक जाम मिला कि नहीं गलत साइड से ओवरटेक करने लगते हैं. 
*थ्री वीलर चालकों द्वारा बिना दाए बाए देखे सवारियों के लिए मची होड़, ऊपर से उनमें ट्रैफिक पुलिस का डर नाम की चीज ही नही
 
क्या कहते हैं लोग
 
ट्रैफिक रूल फॉलो करना और कराना हम सभी की ड्यूटी है। पैरेंट्स की ड्यूटी है कि बच्चों के हाथ में व्हीकल देने से पहले वे देखें कि बच्चा मैच्योर है या नहीं.                                                                     - हरपाल सोढ़ी, समाज सेवी
 
सड़क से संबंधित मूल नियमों का ईमानदारी से पालन किया जाए। जाम लगने पर भी रांग साइड से निकलने के बजाय राइट साइड से निकलने का प्रयास किया जाए। चाहे वो सड़क पर चलने वाले लोग हों या वाहन चालक। - सोनू सेठी, समाज सेवी
 
आए दिन हो रहे हादसे और जाम लगने की समस्या के लिए ट्रैफिक डिपार्टमेंट ही नहीं, बल्कि पब्लिक भी जिम्मेदार है। लोग गलतियां खुद करते हैं और दोष सिस्टम को देते हैं। खुद को भी बदलना होगा.         - अनिल जैन,जिरकपुर विकस्य मंच
 
क्या न करें?
*ड्रिंक एंड ड्राइव से बचें। यानी शराब पीकर गाड़ी न चलाएं.
*शहर में 20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से अधिक पर गाड़ी न चलाएं.
*18 से कम उम्र वाले ड्राइव न करें, व्यस्त सड़कों पर गाड़ी पार्क न करें.
 
*रांग साइड ड्राइविंग और ओवरटेक करना जिरकपुर वासियों की आदत बन चुकी है। रोड पर जाम लगा नहीं कि एक के पीछे एक लगने के बजाय, चार से पांच लेन में गाडि़यां खड़ी हो जाती हैं। एक लेन में अगर लंबी लाइन लग जाए तो दो लेन से ट्रैफिक आसानी से चल सकती है। ऊपर से शहर में रेहड़ी व फल विक्रेताओं का अतिक्रमण ट्रैफिक रूल तोड़ने पर कार्रवाई की जाती है, तो ट्रैफिक पुलिस पर ही सवाल खड़ा कर दिया जाता है।           - मनफूल सिंह, ट्रैफिक इंचार्ज जीरकपुर  
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
नगर कौंसिल के विकास के दावों की निकली हवा आवारा कुत्तों के आतंक से लोगों में दहशत, कुत्तों के झुंड से डरते बच्चे घरों में रहने को मजबूर बिना एटीएम विजय बैंक से निकले 32 हजार, बैंक मैनेजर ने किया दुर्व्यवहार भारी बारिश होने से फिर से मुश्किलों में घिरे जीरकपुर के लोग जीत के साथ सरकार की नीतियों पर मोहर लगी: जसपाल सिंह पत्रकार एकता मंच ने सम्मानित किए जनूनी पत्रकार पोल्ट्री फार्म बंद करने की माँग को लेकर प्रदर्शन अध्यापकों ने किया कांग्रेस के पूर्व विधायक की कोठी का घेराव चोटी की कंपनियों के नाम पर नकली पदार्थ बनाने वाले का पर्दाफाश कांग्रेस पार्टी की जि़ला परिषद और पंचायत समिति चुनाव में भारी जीत