ENGLISH HINDI Monday, May 20, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में आबकारी एवं कर इंस्पेक्टर निलंबित3 घटनाओं को छोडक़र राज्य में मतदान शांतिपूर्वक ढंग से संपूर्ण: एस करुणा राजूशनि मेहरबान, मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री , 5 और 8 अंकों का होगा कमालडेराबस्सी में शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न, करीब 70 फीसदी मतदाताओं ने की वोटिंगकांन्स फ़िल्म फेस्टिवल 2019 के दूसरे दिन भी दीपिका पादुकोण का जादू है कायम!पोलिंग बूथों पर प्रशासन ने किए विशेष प्रबंध,वोट डलवाने के लिए दिव्यांगों को पोलिंग बूथ तक ले जाएंगे वाहनफोर्टिस अस्पताल मोहाली ने नसों के इलाज के लिए अपनाई नई विधिरिश्वत मामले में एसएमओ, हैल्थ सुपरवाइजऱ के खि़लाफ़ पर्चा दर्ज
कविताएँ

तेरा इश्क़ झूठा था

February 22, 2018 01:50 PM

-शिखा शर्मा

डूब कर इश्क़ के समन्दर में

गोता खाकर निकल गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

इश्क़ क्या है
तूने ही मुझे बताया था
दिन में बेचैनी और रातों में जगाया था
मेरा लहू पीकर
तेरा तो रूप-रूप निखर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

बेवफाई की फुंहकार से
तूने इतना ज़हर उगल दिया
घूंट पी-पीकर मेरा बदन नीला पड़ गया
इश्क़ के सपनों का
वो हर मीठा लम्हा गुजर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

बात किए बगैर तब
नहीं होती थी रात
कसमें खाई कितनी
नहीं छोड़ूगा तेरा साथ
मेरी पाक मोहब्बत से अब तू कितना बिफर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

तू अब भी नहीं कहता कि मैं बेवफा हूँ
तेरे साथ हर घड़ी हर दफा हूँ
लौटा सके तो लौटा दे
जो मेरा सब कुछ बिखर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें