ENGLISH HINDI Friday, November 15, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अयोध्या राम मंदिर फैसला: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने सुप्रीम कोर्ट फैसले का किया स्वागतचिल्ड्रेंस डे: एनजीओ द लास्ट बेंचर्स ने स्टूडेंट्स को किया सम्मानितमानव मंगल स्मार्ट वर्ल्ड में बाल दिवस समारोहसांसद प्रनीत कौर और बलबीर सिंह सिद्धू ने दयालपुरा गांव में राज्य के पहले आयुश अस्पताल का रखा नींव पत्थरराज्यपाल ने 10 विधायकों को मंत्री व राज्य मंत्री के रूप में शपथ दिलवाईज़ीरकपुर की हवा में प्रदूषण तत्व निश्चित मात्रा की अपेक्षा अधिक, पटाख़ों के साथ बढ़ा शहर का प्रदूषण एन.आर.आई महिला से पैसे लेने के बावजूद दुकानें न देने पर धोखाधड़ी का मामला दर्जहरियाणा पुलिस ने मादक पदार्थों के तस्करों पर की नए सिरे से कार्रवाई , चार काबू
कविताएँ

तेरा इश्क़ झूठा था

February 22, 2018 01:50 PM

-शिखा शर्मा

डूब कर इश्क़ के समन्दर में

गोता खाकर निकल गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

इश्क़ क्या है
तूने ही मुझे बताया था
दिन में बेचैनी और रातों में जगाया था
मेरा लहू पीकर
तेरा तो रूप-रूप निखर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

बेवफाई की फुंहकार से
तूने इतना ज़हर उगल दिया
घूंट पी-पीकर मेरा बदन नीला पड़ गया
इश्क़ के सपनों का
वो हर मीठा लम्हा गुजर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

बात किए बगैर तब
नहीं होती थी रात
कसमें खाई कितनी
नहीं छोड़ूगा तेरा साथ
मेरी पाक मोहब्बत से अब तू कितना बिफर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

तू अब भी नहीं कहता कि मैं बेवफा हूँ
तेरे साथ हर घड़ी हर दफा हूँ
लौटा सके तो लौटा दे
जो मेरा सब कुछ बिखर गया
तेरा इश्क़ झूठा था
वादे करके मुकर गया

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें