ENGLISH HINDI Friday, December 14, 2018
Follow us on
धर्म

250 शहरों में 564 सरकारी अस्पतालों व डिस्पैंसरियों की सफाई

February 24, 2018 06:03 PM

मोहाली, फेस2न्यूज:
संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधन में एक विशाल सफाई अभियान चलाया गया जिसके अंतर्गत देश के लगभग 250 शहरों में 564 सरकारी अस्पतालों की सफाई की गई। इस अभियान में लगभग तीन लाख फाउंडेशन, संत निरंकारी सेवादल तथा मिशन के अन्य कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। इस अभियान के अंतर्गत मोहाली में फेस-6 स्थित सिविल अस्पताल, ईएसआई अस्पताल इंडस्ट्रियल एरिया फेस-7, ई0 एस0 आई डिस्पेेंसरी फेस-2, प्राईमरी हैल्थ सैंटर डिस्पेंसरी फेस-1, प्राईमरी हैल्थ सैंटर फेस-11 और सन्त निरंकारी सत्संग भवन फेस-6 मोहाली में सफाई की गई। इस अवसर पर मोहाली ब्रांच की संयोजक डॉ0 जतिन्द्र कौर चीमा जी ने बताया कि सुबह से हो रही बरसात बावजूद भी मोहाली में इस अभियान के लिये हर स्थान पर सभी कार्यकर्ता प्रातः 7.30 एकत्रित हुए और सिमरन और प्रार्थना के पश्चात् सेवादल सफाई कार्य में जुट गये और यह अभियान दोपहर 12.00 बजे तक चलता रहा। पौधारोपण अभियान ई0 एस0 आई डिस्पेेंसरी फेस-2 और प्राईमरी हैल्थ सैंटर डिस्पेंसरी फेस-11 में चलाया गया। पौधारोपण की शुरूआत मोहाली सिविल अस्पताल के एस0 एम0 ओ0 डॉ मनजीत सिंह जी ने डॉ चीमा के साथ अपने करकमलों से पौधा लगा कर किया। सन्त निरंकारी चेैरिटेबल फाउंडेशन के सदस्य और सन्त निरंकारी सेवादल के अधिकारियों व साधसंगत ने इस अभियान को कामयाब करने के लिए बहुत सहयोग दिया।
डॉ चीमा ने आगे बताया कि भारत सरकार ने फाउंडेशन के इस सफाई अभियान को 2 अक्तूबर, 2014 से माननीय प्रधानमंत्री के आह्वान पर चलाये जा रहे ’स्वच्छ भारत अभियान’ में एक महत्वपूर्ण योगदान माना है। आवास और शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा एक पत्र लिखकर सभी सम्बंधित अधिकारियों से आग्रह किया गया था कि वे संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के इस अभियान में सभी प्रकार की सहायता तथा सहयोग प्रदान करें तथा स्थानीय निवासियों को भी अधिक से अधिक संख्या में इस अभियान में शामिल होने के लिए प्रेरित करें।
संत निरंकारी मिशन 2003 से हर वर्ष 23 फरवरी को देशभर में सफाई अभियान तब से चलाता आ रहा हैं। वर्ष 2010 में जब से संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन का गठन हुआ, यह अभियान फाउंडेशन के तत्वावधान में आयोजित किया जा रहा है। फाउंडेशन स्वास्थ्य, शिक्षा, व्यवसायिक प्रशिक्षण के क्षेत्रों में समाज के प्रति महत्वपूर्ण योगदान देता आ रहा है। जब से ’स्वच्छ भारत अभियान’ आरंभ हुआ, फाउंडेशन की ओर से भी प्रतिवर्ष अतिरिक्त सफाई अभियान आयोजित किये जाते हैं और राष्ट्रीय स्मारकों, समुद्र तथा नदियों के तटों, रेलवे स्टेशनों, अस्पतालों, पार्कों तथा अन्य सार्वजनिक स्थानों पर विशेष ध्यान दिया जाता रहा है।   


उन्होंने आगे बताया कि मिशन के मानवता की सेवा के प्रति इस विशाल योगदान को मान्यता प्रदान करते हुए भारत सरकार ने सितम्बर, 2015 में इसे ’स्वच्छ भारत अभियान’ का ’ब्रांड अम्बेसेडर’ घोषित किया। उन्हीं दिनों माननीय रेलवे मंत्री ने बाबा हरदेव सिंह महाराज को एक पत्र लिखकरस्वच्छ रेल - स्वच्छ भारत अभियान’ में सहयोग के लिये निरंकारी भक्तों को आमंत्रित किया। संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन ने देश भर में 46 बड़े रेलवे स्टेशनों पर न सिर्फ 2 अक्तूबर को ही सफाई की बल्कि उसके पश्चात् भी हर महीने में एक बार एक साल तक इन स्टेशनों पर सफाई अभियान चलाया जाता रहा। इसमें हर बार 20,000 से भी अधिक फाउंडेशन तथा सेवादल के भाई बहन भाग लेते रहे।
23 फरवरी, 2016 को फाउंडेशन के सफाई अभियान के अंतर्गत देश के 108 शहरों में 120 बड़े अस्पतालों तथा अनेक डिस्पेंसरियों की सफाई की गई। इन्हीं दिनों 15 फरवरी से 29 फरवरी तक भारत सरकार की ओर से भी ’स्वच्छ भारत अभियान’ के अंतर्गत अस्पतालों के लिये एक विशेष सफाई अभियान चलाया जा रहा था। अतः भारत सरकार ने फाउंडेशन के इस अभियान को उसमें एक महत्वपूर्ध योगदान माना।
23 फरवरी, 2017 को फाउंडेशन ने रेलवे मंत्रालय के सहयोग से देश के 264 रेलवे स्टेशन को चुना और वहां विशेष सफाई अभियान चलाया।
इसके अतिरिक्त संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान अभियान भी निरंतर चलता आ रहा है। देशभर में हर वर्ष लगभग 500 रक्तदान शिविर आयोजित किये जाते हैं। मिशन की ओर से 1986 से लेकर अब तक 5000 से भी अधिक रक्तदान शिविर आयोजित किये जा चुके हैं जिनमें लगभग 10,00,000 यूनिट रक्त दान किया गया।
फाउंडेशन द्वारा चार अस्पताल, 137 डिस्पेंसरियां तथा आधा दर्जन के करीब पैथालोजिकल लैबोरिट्ररी धर्मार्थ चलाई जा रही हैं। इनके अतिरिक्त दो डिग्री कॉलेज तथा 24 स्कूल चलाये जा रहे हैं। इसी प्रकार विधवाओं तथा अन्य ज़रूरतमंद महिलाओं के लिये लगभग 70 स्थानों पर सिलाई-कढ़ाई प्रशिक्षण केन्द्र भी चलाये जा रहे हैं। फाउंडेशन की ओर से समय-समय पर आँखों के ऑपरेशन, स्वास्थ जांच तथा अनेमियां नियंत्रण के लिए विशेष शिविर आयोजित किये जा रहे हैं।
फाउंडेशन ने हरियाणा में पूर्ण विकास के लिये तीन गांव गोद लिये हैं - पंची गुजरां, भोडवाल माजरी तथा पट्टी कल्याणा। इन गांवों से गंदा पानी निकालकर पशुओं को बिमारियों से बचाया जा रहा है और इस प्रकार वहां के वातावरण में भी सुधार हो रहा है। गांव-निवासी समय-समय पर होने वाले वृक्षारोपण तथा सफाई अभियानों से भी बहुत संतुष्ट है।
17 दिसम्बर, 2017 को पंची गुजरां को एक मोबाईल डिस्पेंसरी दी गई और भोडवाल माजरी में एक सिलाई-कढ़ाई केन्द्र का शुभारम्भ किया गया। उसी दिन पट्टी कल्याणा में एक विशाल स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजित किया गया जिसका 3000 से भी अधिक मरीजों ने लाभ उठाया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें