ENGLISH HINDI Friday, December 14, 2018
Follow us on
चंडीगढ़

कला भवन में जगाई साहित्यक गीतों की लौ

March 06, 2018 06:22 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब कला परिषद् की ओर से बीती शाम कला भवन में ट्रांटो में बसे पंजाबी गायक और ब्रॉडकास्टर कुलदीप दीपक के साहित्यक गीतों की साहित्यक शाम करवाई गई। कुलदीप दीपक ने पंजाबी के चोटी के कवियों के गीत गाकर कला भवन का प्रांगण साहित्यक गीतों की लौ के साथ रौशन कर दिया।
कुलदीप दीपक ने गिटार की मधुर और दिलकश धुनों से गीतों की प्रस्तुति दी और गौतम धर ने तबले पर साथ दिया। दीपक ने शिव कुमार बटालवी का ‘शिकरा यार’, ‘कौण मेरे शहर आ के मुड़ गया’, अमृता प्रीतम का ‘आईयां सी यादां तेरियां’, सोहण सिंह मीशा का ‘अध्धी रात पैहर देतडक़े’ गाकर रंग बांधा। शाम का शिखर उस समय हुआ जब दीपक ने इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और पंजाब कला परिषद् के चेयरमैन डा.सुरजीत पातर की उपस्थिति में उनकी गज़लें ‘इस तरां है दिन रात विच विचला फासला’, ‘की ख़बर सी तैनूें एह जग भुल्ल जाऐगा’ गाईं। दीपक ने माहीया-टप्पे नये रूप में पेश किया।
इस अवसर पर डा. सुरजीत पातर ने दीपक को परिषद् द्वारा सम्मानित किया। डॉ. पातर ने दीपक के गीतों के चुनाव की सराहना करते हुये कहा कि संगीत शब्दों को पंख लगा देता है और आज की महफि़ल में दीपक ने अमृता प्रीतम, मीशा और शिव की यादों को ताज़ा कर दिया है। प्रोग्राम का मंच संचालन भुपिंदर मलिक ने किया। इस अवसर पर पंजाब ललित कला अकादमी के प्रधान दीवाना माना, डॉ. दीपक मनमोहन सिंह, निंदर घुगियाणवी, दीपक शर्मा चनारथल और सबदीश आदि उपस्थित थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
शिव सेना बाल ठाकरे में शामिल हुए कई नेता सर्दियां शुरू, गरीबों का रेन बसेरा बनाना भूला प्रशासन: तिवारी स्वच्छता अभियान में जनता की सहभागिता ज़रूरी: मोदगिल अमिट छाप छोड़ता मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल का हुआ समापन प्रौद्योगिकी शीघ्र न्याय के लिए रामबाण नहीं, केवल सुविधाकर्ता है मधु बंसल ने वार्ड नंबर 24 में केक काट कर सोनिया गांधी का मनाया जन्मदिन शहर के व्यापारियों की समस्याओं को लेकर सांसद किरण खेर पर बरसे राज नागपाल बरनाला के असिस्टेंट प्रोफेसर के काव्य संग्रह "पहला पन्ना" का विमोचन “स्वरांजली 2018” सांस्कृतिक कार्यक्रम का भव्य आयोजन शिवसेना बाल ठाकरे राम मंदिर निर्माण के लिए निकालेगी भगवा रैली