ENGLISH HINDI Friday, June 22, 2018
Follow us on
चंडीगढ़

कला भवन में जगाई साहित्यक गीतों की लौ

March 06, 2018 06:22 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब कला परिषद् की ओर से बीती शाम कला भवन में ट्रांटो में बसे पंजाबी गायक और ब्रॉडकास्टर कुलदीप दीपक के साहित्यक गीतों की साहित्यक शाम करवाई गई। कुलदीप दीपक ने पंजाबी के चोटी के कवियों के गीत गाकर कला भवन का प्रांगण साहित्यक गीतों की लौ के साथ रौशन कर दिया।
कुलदीप दीपक ने गिटार की मधुर और दिलकश धुनों से गीतों की प्रस्तुति दी और गौतम धर ने तबले पर साथ दिया। दीपक ने शिव कुमार बटालवी का ‘शिकरा यार’, ‘कौण मेरे शहर आ के मुड़ गया’, अमृता प्रीतम का ‘आईयां सी यादां तेरियां’, सोहण सिंह मीशा का ‘अध्धी रात पैहर देतडक़े’ गाकर रंग बांधा। शाम का शिखर उस समय हुआ जब दीपक ने इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और पंजाब कला परिषद् के चेयरमैन डा.सुरजीत पातर की उपस्थिति में उनकी गज़लें ‘इस तरां है दिन रात विच विचला फासला’, ‘की ख़बर सी तैनूें एह जग भुल्ल जाऐगा’ गाईं। दीपक ने माहीया-टप्पे नये रूप में पेश किया।
इस अवसर पर डा. सुरजीत पातर ने दीपक को परिषद् द्वारा सम्मानित किया। डॉ. पातर ने दीपक के गीतों के चुनाव की सराहना करते हुये कहा कि संगीत शब्दों को पंख लगा देता है और आज की महफि़ल में दीपक ने अमृता प्रीतम, मीशा और शिव की यादों को ताज़ा कर दिया है। प्रोग्राम का मंच संचालन भुपिंदर मलिक ने किया। इस अवसर पर पंजाब ललित कला अकादमी के प्रधान दीवाना माना, डॉ. दीपक मनमोहन सिंह, निंदर घुगियाणवी, दीपक शर्मा चनारथल और सबदीश आदि उपस्थित थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
योग के माध्यम से तन और मन को किया जा सकता है एकाग्र : कर्नल रोहित एचएमटीए पिंजौर की खाली पड़ी 100 एकड़ जमीन पर सेब मंडी बनाने का प्रस्ताव युवा कांग्रेस चंडीगढ़ ने मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन पंचकुला महिला पुलिस थाने ने दिखाया दम, नाबालिग लड़की की शादी रोकी मनीष तिवारी को चंडीगढ़ संसदीय सीट के लिए उम्मीदवार बनाने की चर्चा पर भडक़े राज नागपाल बजुर्ग बैंक कर्मी ने बैंक के आलाधिकारियों पर धक्केशाही से नौकरी से निकालने के लगाए आरोप, मांगी इच्छा मृत्यु चंडीगढ़ में चार पहिया वाहनों पर बुल बार लगाने पर नहीं कटेंगे चालान: भसीन एम-पासपोर्ट सेवा एप शुरू सोशल मीडिया वर्कशॉप का आयोजन निवेशकों को शिक्षित करना आवश्यक :सुरेन्दर वर्मा