ENGLISH HINDI Monday, May 20, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में आबकारी एवं कर इंस्पेक्टर निलंबित3 घटनाओं को छोडक़र राज्य में मतदान शांतिपूर्वक ढंग से संपूर्ण: एस करुणा राजूशनि मेहरबान, मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री , 5 और 8 अंकों का होगा कमालडेराबस्सी में शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न, करीब 70 फीसदी मतदाताओं ने की वोटिंगकांन्स फ़िल्म फेस्टिवल 2019 के दूसरे दिन भी दीपिका पादुकोण का जादू है कायम!पोलिंग बूथों पर प्रशासन ने किए विशेष प्रबंध,वोट डलवाने के लिए दिव्यांगों को पोलिंग बूथ तक ले जाएंगे वाहनफोर्टिस अस्पताल मोहाली ने नसों के इलाज के लिए अपनाई नई विधिरिश्वत मामले में एसएमओ, हैल्थ सुपरवाइजऱ के खि़लाफ़ पर्चा दर्ज
धर्म

श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला व वेदों का सार

March 30, 2018 08:15 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला और समस्त वेदों का सार है। संसार में फंसे हुए जो लोग इस घोर अज्ञानान्धकार से पार जाना चाहते हैं उनके लिए आध्यात्मिक तत्वों को प्रकाशित कराने वाला यह एक अद्वितीय दीपक है। ये प्रवचन कथावाचक श्रवणचंद्र आचार्य ने आज श्री शिव एवं संतोषी माता मंदिर सेक्टर 26, बापूधाम कालोनी चंडीगढ़ में चल रही श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ श्रद्धालुगणों को सम्बोधित करते हुए कहे। इसका आयोजन मंदिर के प्रधान श्री खरौंटूमल (बाबाजी) एवं माता जी कलादेवी द्वारा किया जा रहा है।
उन्होंने आगे कहा कि भागवत क्या है? भागवत वैष्णवों का परम धन, पुराणों का तिलक, परम हंसों की संहिता, भक्ति ज्ञान-वैराग्य का प्रवाह , भगवान् श्रीकृष्ण का आनंदमय स्वरूप, प्रेमी भक्तों की लीला स्थली, श्री राधा-कृष्ण का अद्वितीय निवास स्थान, जगत का आधार, लोक-परलोक को संवारने वाला पंचम वेद है। ये कथा एक अप्रैल तक चलेगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें
चैतन्य गोरिया मठ में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया दुबई के गुरूद्वारे में विभिन्न धर्मानुयाईयों का अदभुत संगम महंतस्वामी महाराज का आबूधाबी की एतिहासिक मस्जिद में हुआ भव्य स्वागत डेरा राजनैतिक विंग ने साध-संगत को भाईचारक सांझ बनाकर रखने की अपील की आबूधाबी में गुलाबी पत्थरों से किया जाएगा हिंदू मंदिर का निर्माण महिला मंडल द्वारा श्री हनुमान जन्मोत्सव बड़ी श्रृद्धा के साथ मनाया गया श्री श्याम मित्र मंडल सोसायटी का प्रधान नियुक्त रामनवमी पर- मठ मंदिर विशाल रथ यात्रा और वैष्णव समुदाय का अंतराष्ट्रीय सम्मलेन 15 वर्षों बाद जगती यात्रा को निकले सराज घाटी के देवता लक्ष्मी नारायण चैतन्य महाप्रभु जी का जन्म दिवस मनाया गया