ENGLISH HINDI Tuesday, August 21, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
अनिल शर्मा बने फोटोग्राफर एसोसिएशन डेराबसी के प्रधानजीरकपुर खबरनामा: अलग अलग स्थानों से घरों के बाहर खड़ी दो कारे चोरी,बुज़ुर्ग महिला की चेन झपटने की कोशिशपूर्वांचल सांस्कृतिक संघ चण्डीगढ़ की ओर से अखंड अष्टयाम पूजा सम्पन उत्तरी राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा नशों संबंधी डाटा सांझा करने, पंचकुला में केंद्रीय सचिवालय स्थापित करने का फैसलामंत्रिमण्डल ने श्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक प्रस्ताव पारित कियामुख्यमंत्री का मादक पदार्थों रोकथाम हेतु संयुक्त रणनीति बनाने पर बल11वीं जुनियर पंजाब स्टेट नेटबॉल चेंपियनशिप धूमधाम के साथ संपन्नकर्तव्य पथ पर प्राण न्योछावर करने वाले राजेश कुमार को मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि
धर्म

श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला व वेदों का सार

March 30, 2018 08:15 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
श्रीमद्भागवत भगवत्स्वरूप का अनुभव कराने वाला और समस्त वेदों का सार है। संसार में फंसे हुए जो लोग इस घोर अज्ञानान्धकार से पार जाना चाहते हैं उनके लिए आध्यात्मिक तत्वों को प्रकाशित कराने वाला यह एक अद्वितीय दीपक है। ये प्रवचन कथावाचक श्रवणचंद्र आचार्य ने आज श्री शिव एवं संतोषी माता मंदिर सेक्टर 26, बापूधाम कालोनी चंडीगढ़ में चल रही श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ श्रद्धालुगणों को सम्बोधित करते हुए कहे। इसका आयोजन मंदिर के प्रधान श्री खरौंटूमल (बाबाजी) एवं माता जी कलादेवी द्वारा किया जा रहा है।
उन्होंने आगे कहा कि भागवत क्या है? भागवत वैष्णवों का परम धन, पुराणों का तिलक, परम हंसों की संहिता, भक्ति ज्ञान-वैराग्य का प्रवाह , भगवान् श्रीकृष्ण का आनंदमय स्वरूप, प्रेमी भक्तों की लीला स्थली, श्री राधा-कृष्ण का अद्वितीय निवास स्थान, जगत का आधार, लोक-परलोक को संवारने वाला पंचम वेद है। ये कथा एक अप्रैल तक चलेगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें