ENGLISH HINDI Sunday, April 22, 2018
Follow us on
राष्ट्रीय

पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे इलाज करने वाले हकीमों पर कसा शिंकजा

April 15, 2018 01:24 PM

नई दिल्ली:
अब समय बद गया है। पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे लोगों का इलाज करने वाले हकीमों पर शिंकजा कसा जा रहा है। बिना किसी स्वीकृत या अनुमोदित योग्यता के किसी व्यक्ति को देशी तरीके से मरीजों का इलाज करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। इस बारे में शीर्ष अदालत सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि झोला छाप डॉक्टर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। फैसले में कहा गया है कि हमारे देश में आवश्यता से कम क्वालीफाइड डॉक्टर हैं। अब देश में बड़ी संख्या में देशी मेडिसीन की शिक्षा देने वाले संस्थान हैं। लेकिन आजादी के सात दशक बाद भी देश में दवाइयों के बारे में हल्की-फुल्की जानकारी रखने वाले या बिना स्वीकृत योग्यता वाले लोग मरीजों का इलाज कर रहे हैं जो लाखों लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्पणी करते हुए केरल में सदियों से चली आ रही देशी इलाज करने वाले तथाकथित वैद्य को मेडिकल प्रैक्टिस की इजाजत देने से इनकार करते हुए दी है। ये वे लोग हैं पीढ़ी दर पीढ़ी इस पेशे को अपनाते चले आ रहे हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
भारत के प्रधान न्यायाधीश के ख़िलाफ़ 71 सांसदों द्वारा महाभियोग चलाने का नोटिस यूईआई ग्लोबल एजुकेशन की नई शाखा का उदघाटन देश भर मे बनेंगे डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर प्रधानमंत्री कल विज्ञान भवन में करेंगे उत्कृष्टता पुरस्कार प्रदान “कार्यक्रम संबंधी विषयवस्तु” में “विधायी भावना” का निरूपण समय की मांगः उपराष्ट्रपति 6 और राज्य 20 अप्रैल से राज्यों में ई-वे बिल लागू करेंगे बढ़ती गैर-संक्रमणकारी बीमारियों को रोकने के लिए प्रयासों की जरूरत हरियाणा में चुनाव को लेकर 'आप' की दिल्ली में सरगर्मियां बढ़ी 3आर के सिद्धांत भारतीय संस्कृति के अभिन्न अंग ड्राइविंग लाइसेंस के एप्लीकेशन में नेत्रदान, अंगदान, टिशूदान का स्वैच्छिक घोषणा का विकल्प