ENGLISH HINDI Tuesday, December 11, 2018
Follow us on
राष्ट्रीय

पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे इलाज करने वाले हकीमों पर कसा शिंकजा

April 15, 2018 01:24 PM

नई दिल्ली:
अब समय बद गया है। पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे लोगों का इलाज करने वाले हकीमों पर शिंकजा कसा जा रहा है। बिना किसी स्वीकृत या अनुमोदित योग्यता के किसी व्यक्ति को देशी तरीके से मरीजों का इलाज करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। इस बारे में शीर्ष अदालत सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि झोला छाप डॉक्टर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। फैसले में कहा गया है कि हमारे देश में आवश्यता से कम क्वालीफाइड डॉक्टर हैं। अब देश में बड़ी संख्या में देशी मेडिसीन की शिक्षा देने वाले संस्थान हैं। लेकिन आजादी के सात दशक बाद भी देश में दवाइयों के बारे में हल्की-फुल्की जानकारी रखने वाले या बिना स्वीकृत योग्यता वाले लोग मरीजों का इलाज कर रहे हैं जो लाखों लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्पणी करते हुए केरल में सदियों से चली आ रही देशी इलाज करने वाले तथाकथित वैद्य को मेडिकल प्रैक्टिस की इजाजत देने से इनकार करते हुए दी है। ये वे लोग हैं पीढ़ी दर पीढ़ी इस पेशे को अपनाते चले आ रहे हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
मानवाधिकार दिवस समय है आत्ममंथन करने का जिलों पर फोकस क्षेत्रीय सम्मेलन तिरुवनंतपुरम में आरंभ एक्स एवियइंद्रा आज से आरंभ कारगिल जंग से तुरंत पहले खुफिया सूचना दे दी गई थी: दुल्लट साल 2017-18 के लिए वार्षिक जीएसटी रिटर्न की तारीख बढ़कर हुई 31 मार्च मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम तहत संयुक्त गतिविधियों पर भारत—रूस के बीच समझौते को मंजूरी ऊर्जा संरक्षण क्षेत्र में भारत—फ्रांस के बीच समझौता स्वीकृति स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल व आरोग्‍य क्षेत्र में भारत—जापान के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन पंजाब में रावी नदी पर शाहपुरकंडी डैम लागू करने की मंजूरी दी