ENGLISH HINDI Monday, March 25, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे इलाज करने वाले हकीमों पर कसा शिंकजा

April 15, 2018 01:24 PM

नई दिल्ली:
अब समय बद गया है। पारम्परिक तरीके से पुश्तैनी कार्य में लगे लोगों का इलाज करने वाले हकीमों पर शिंकजा कसा जा रहा है। बिना किसी स्वीकृत या अनुमोदित योग्यता के किसी व्यक्ति को देशी तरीके से मरीजों का इलाज करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। इस बारे में शीर्ष अदालत सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि झोला छाप डॉक्टर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। फैसले में कहा गया है कि हमारे देश में आवश्यता से कम क्वालीफाइड डॉक्टर हैं। अब देश में बड़ी संख्या में देशी मेडिसीन की शिक्षा देने वाले संस्थान हैं। लेकिन आजादी के सात दशक बाद भी देश में दवाइयों के बारे में हल्की-फुल्की जानकारी रखने वाले या बिना स्वीकृत योग्यता वाले लोग मरीजों का इलाज कर रहे हैं जो लाखों लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्पणी करते हुए केरल में सदियों से चली आ रही देशी इलाज करने वाले तथाकथित वैद्य को मेडिकल प्रैक्टिस की इजाजत देने से इनकार करते हुए दी है। ये वे लोग हैं पीढ़ी दर पीढ़ी इस पेशे को अपनाते चले आ रहे हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
हिमालय और पर्यावरण की रक्षा के लिए कपड़ों को अधिक बार प्रयोग करे :भिक्खू संघसेना चंडीगढ़ में मतदाता जागरुक्ता पर चार दिवसीय चित्र प्रदर्शनी आरंभ रंगोत्सव में हुई पानी की बजाए पुष्पपत्तियों की बौछार पुलिस हिरासत में मौतों पर जांच रिपोर्ट रिलीज भारतीय वायु सेना अंतर्राष्ट्रीय मैरीटाईम एयरो एक्सपो में भाग लेगी आईएसआई ने निर्वाचन आयोग को वीवीपीएटी काउंटिंग नमूने पर रिपोर्ट प्रस्तुत की हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है फाग मेला संभावी उम्मीदवारों को दो अतिरिक्त फोटो जमा करवाने के निर्देश दलाई लामा टेरिस पीस एंड फ्रीडम अवार्ड 2019 से सम्मानित सकारात्मक सोच के बिना उपभोक्ता अधिकार दिवस मनाना सिर्फ एक ढकोसला