ENGLISH HINDI Monday, May 20, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में आबकारी एवं कर इंस्पेक्टर निलंबित3 घटनाओं को छोडक़र राज्य में मतदान शांतिपूर्वक ढंग से संपूर्ण: एस करुणा राजूशनि मेहरबान, मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री , 5 और 8 अंकों का होगा कमालडेराबस्सी में शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न, करीब 70 फीसदी मतदाताओं ने की वोटिंगकांन्स फ़िल्म फेस्टिवल 2019 के दूसरे दिन भी दीपिका पादुकोण का जादू है कायम!पोलिंग बूथों पर प्रशासन ने किए विशेष प्रबंध,वोट डलवाने के लिए दिव्यांगों को पोलिंग बूथ तक ले जाएंगे वाहनफोर्टिस अस्पताल मोहाली ने नसों के इलाज के लिए अपनाई नई विधिरिश्वत मामले में एसएमओ, हैल्थ सुपरवाइजऱ के खि़लाफ़ पर्चा दर्ज
धर्म

इन्सान कितने साल जिया बल्कि कैसे जी कर गया यह है महत्वपूर्ण

April 29, 2018 02:59 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
इस संसार से छोटा-बड़ा, अमीर-गरीब, निर्बल और बलवान सभी को एक दिन जाना होता है, अध्यात्मवाद में कोई इन्सान अपनी जिन्दगी कितने साल इस धरती पर जी कर गया की बजाए उसने अपना जीवन किस तरह का जिया, अर्थात घर-समाज-देश में लोगों के साथ उसका कैसा व्यवहार था, यह अधिक महत्वपूर्ण होता है, ये भाव दिल्ली से आए सन्त निरंकारी योजना एवं सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष के. आर. चढ्ढा ने प्रवीन नन्दवानी के ब्रह्मलीन होने पर यहां सैक्टर 30 में स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन में हुए श्रद्धांजलि समारोह में उपस्थित श्रोताओं को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए।
श्री चढ्ढा ने आगे कहा कि इन्सान का शरीर तो पिंजरे के समान है जो यहीं रह जाता है लेकिन इसमें विराजमान आत्मा पंछी की तरह उड़ जाती है। जो इन्सान अपने जीवन-काल में मानुष जन्म के उद्देश्य को पूरा कर लेते हैं वे मृत्यु से डरते नहीं क्योंकि उन्हें सत्गुरू माता सविन्द्र हरदेव से ब्रह्मज्ञान प्राप्त करने बाद यह विश्वास हो चुका होता है कि इस शरीर को त्यागने के बाद मेरी आत्मा ने कहीं और नहीं बल्कि अपने निज घर में जाना है। इसके अतिरिक्त उनके परिवार के सदस्य जिन्हें ब्रह्मज्ञान की प्राप्त हो चुकी होती है वे भी यह भली भांति जान चुके होते हैं कि उनके परिवार के मृत सदस्य की आत्मा चौरासी के चक्कर में नहीं बल्कि इस घट-घटवासी परमात्मा में विलीन हो गई है जिसकारण वे रो-रो कर अपना बुरा हाल करने की बजाए परमात्मा के भाणे को मानना ही उचित समझते हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें
चैतन्य गोरिया मठ में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया दुबई के गुरूद्वारे में विभिन्न धर्मानुयाईयों का अदभुत संगम महंतस्वामी महाराज का आबूधाबी की एतिहासिक मस्जिद में हुआ भव्य स्वागत डेरा राजनैतिक विंग ने साध-संगत को भाईचारक सांझ बनाकर रखने की अपील की आबूधाबी में गुलाबी पत्थरों से किया जाएगा हिंदू मंदिर का निर्माण महिला मंडल द्वारा श्री हनुमान जन्मोत्सव बड़ी श्रृद्धा के साथ मनाया गया श्री श्याम मित्र मंडल सोसायटी का प्रधान नियुक्त रामनवमी पर- मठ मंदिर विशाल रथ यात्रा और वैष्णव समुदाय का अंतराष्ट्रीय सम्मलेन 15 वर्षों बाद जगती यात्रा को निकले सराज घाटी के देवता लक्ष्मी नारायण चैतन्य महाप्रभु जी का जन्म दिवस मनाया गया