ENGLISH HINDI Wednesday, August 22, 2018
Follow us on
राष्ट्रीय

बस! एक दिन का मातृत्व

May 13, 2018 05:57 PM

— रोशन

बस एक दिन
"मातृत्व दिवस" मनाने चले हैं
नौ माह रखा जिसने गर्भ में
बस! एक दिन में उसका
कर्ज चुकाने चले हैं।
365 दिन रही जो अंग— संग
364 भुला कर एक ही दिन में
उसकी ममता को भुनाने चले हैं
भेड़ों सी भीड़ में शामिल वे हैं
जिन्हें मां ने काबिल बनाया
हररोज सतरंगी पल है खोया
मां के प्रति लबा—लब भरा
प्यार वे आज दुनियां को
दिखाने चले हैं
पल—पल देती हैं जो दुआएं
उसी के आगे दुआओं के ढेर
सजाने चले हैं
ज्यूं मंदिर में ढेर- सा मांगने के बदले
मुट्ठीभर चढावा भगवान को चढा चले हैं
नयन तरसते रहे हर पल दीदार को
जुबां तरसती रही मीठी बातों को
अपने जायों के शीश को सहलाउं
क्या अब भी उसकी गोद में
कोई पल कभी बिताएं है
मां तो अज़र अमर है
चंद शब्दों में उसको
कब, कहां और कैसे तोल पाए हैं
नौ माह रखा जिसने गर्भ में
बस! एक दिन में उसका
कर्ज चुकाने चले हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
"स्वास्थ्य अनुसंधान में जैव सूचना विज्ञान" परियोजना का नेतृत्व करेंगे नाईपर के प्रो. प्रसाद वि. भारतम उत्तरी राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा नशों संबंधी डाटा सांझा करने, पंचकुला में केंद्रीय सचिवालय स्थापित करने का फैसला बीआईएस ने बोतलबंद पेयजल उत्‍पादन इकाई पर छापा मारा प्रखर कवि, दूरदर्शी नेता देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने की संसारिक यात्री पूरी अपनी ही बनाई बेड़ियों से जकड़ा आज़ाद भारत डीएसी ने छह एनजीओपीवी के अधिग्रहण को दी मंजूरी लोकसभा सियासी रंगमंच पर कितना नाचेगा वोटर? नकली उत्‍पादों की बिक्री, उपभोक्‍ताओं को मुआवजा के अधिकार राष्‍ट्रपति ने त्रिशूर के सेंट थॉमस कॉलेज के शताब्‍दी समारोह का उद्धाटन किया निरंकारी मत के माता सविंदर हरदेव जी ब्रह्यलीन