ENGLISH HINDI Friday, October 19, 2018
Follow us on
राष्ट्रीय

बस! एक दिन का मातृत्व

May 13, 2018 05:57 PM

— रोशन

बस एक दिन
"मातृत्व दिवस" मनाने चले हैं
नौ माह रखा जिसने गर्भ में
बस! एक दिन में उसका
कर्ज चुकाने चले हैं।
365 दिन रही जो अंग— संग
364 भुला कर एक ही दिन में
उसकी ममता को भुनाने चले हैं
भेड़ों सी भीड़ में शामिल वे हैं
जिन्हें मां ने काबिल बनाया
हररोज सतरंगी पल है खोया
मां के प्रति लबा—लब भरा
प्यार वे आज दुनियां को
दिखाने चले हैं
पल—पल देती हैं जो दुआएं
उसी के आगे दुआओं के ढेर
सजाने चले हैं
ज्यूं मंदिर में ढेर- सा मांगने के बदले
मुट्ठीभर चढावा भगवान को चढा चले हैं
नयन तरसते रहे हर पल दीदार को
जुबां तरसती रही मीठी बातों को
अपने जायों के शीश को सहलाउं
क्या अब भी उसकी गोद में
कोई पल कभी बिताएं है
मां तो अज़र अमर है
चंद शब्दों में उसको
कब, कहां और कैसे तोल पाए हैं
नौ माह रखा जिसने गर्भ में
बस! एक दिन में उसका
कर्ज चुकाने चले हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
खजाना जो बुजुर्गों ने संभाला हुआ है, वह ‘गूगल सर्च’ पर नहीं मिलता मी टू, आरक्षण, SC/ST एक्ट देश को तोड़ने व संस्कृति और सभ्यता को नष्ट करने की गहरी साजिश: सुरेश गोयल राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले अहम बदलाव पंजाब, हरियाणा, हिमाचल तथा चण्डीगढ़ में पोषण अभियान पर कार्यशाला आयोजित जीरकपुर: रेत माइनिंग माफिया का खेल अब भी जारी अवैध शराब पीने से पेंटर की जान गई, दिल्ली दरवाजा के आस-पास अवैध शराब की बिक्री पैट्रोल-डीजल के दाम बढने पर लगी पम्पों पर वाहनों की कतार गुरुद्वारा श्री हेमकुंट साहिब के कपाट बंद सर्जिकल स्ट्राईक दिवस की दूसरी वर्षगांठ पर समारोहों का आयोजन "कल्याणी शक्ति एनजीओ गीता महायज्ञ में भागीदारी" गीता मनीषी