ENGLISH HINDI Thursday, February 21, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
विश्व बैंक और कोरियन टीम ने हिमाचल प्रदेश में ठोस कचरा प्रबन्धन पर की बातचीत वूमेन पॉवर सोसाइटी ऑफ इंडिया ने किया चंडीगढ की ममता डोगरा का सम्मानहरियाणा ने दो आईपीएस पांच आईएएस , 19 एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश जारी किये पुलवामा : भाजपाइयों ने पाकिस्तानी झंडा और इमरान का फूंक मांगा सिद्धू का इस्तीफाअपराधिक तत्वोें पर नकेल लोगों के सहयोग से ही संभव: एसएसपी दुकानों आगे रेहड़ी फड़ी लगा पैसे वसूलने का नया धंधा जोरों पर मंत्रिमंडल ने सारंगपुर,चंडीगढ़ में पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़ को 50.76 एकड़ भूमि हस्‍तांतरित करने को मंजूरी दीमैक्स लाइफ इन्शुरेंस पंचकूला ने निकाला कैंडल मार्च
कविताएँ

कुदरत की क्यारी

May 22, 2018 01:45 PM

-शिखा शर्मा

सात सुरों का राग सुनाते
कतरा-कतरा बहते जाते
नदी, झील और झरने
मिलकर सब सागर बन जाते

चंचल तितली की अनोखी माया
रंग-बिरंगी मनमोहक काया
फूलों से उसने रंग चुराया
फुदकना उसको भँवरों ने सिखाया

कोयल की मीठी तान सुन
मधुर संगीत की सुरमई धुन
राग में उसके गहरा नशा
संग सुर मिलाकर आए मज़ा

हरी गोद की क्यारी ज्यों
ओढ़े चुनरिया प्यारी वो
फूल-गोटे की बारीक कलाकारी जैसे
सजे कुदरत की बगिया न्यारी वो

पर्वत-पहाड़ ऊंची दहाड़
घने जंगलों में डरावनी चिंघाड़
कुदरत का सौंदर्य निखार
वन्य जीवों का आहार-विहार

पके-पकीले फल रसीले
घुली चाशनी में डूबे-गीले
खट्टे-मीठे अनोखे स्वाद
रचना में इनकी गजब का राज़

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें