ENGLISH HINDI Wednesday, February 20, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

खोए बच्चों का पता लगाने के लिए ‘रीयूनाईट’ एप लांच

June 29, 2018 06:50 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग तथा नागरिक उड्डयन मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने एक मोबाइल एप लांच किया। इस एप का नाम ‘रीयूनाईट’ है। यह एप भारत में खोए हुए बच्चों का पता लगाने में सहायता प्रदान करेगा। इस अवसर पर अपने संबोधन में मंत्री महोदय ने इस एप को विकसित करने के लिए स्वयंसेवी संगठन ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ और ‘कैपजेमिनी’ की सराहना की।
मंत्री ने कहा कि खोए हुए बच्चों को उनके माता—पिता से मिलाने का यह प्रयास, तकनीक के सुंदर उपयोग को दर्शाता है। यह एप जीवन से जुड़ी सामाजिक चुनौतियों से निपटने में मदद करेगा।
इस एप के माध्यम से माता—पिता बच्चों की तस्वीरें, बच्चों के विवरण जैसे नाम, पता, जन्म चिन्ह आदि अपलोड कर सकते हैं, पुलिस स्टेशन को रिपोर्ट कर सकते हैं तथा खोए बच्चों की पहचान कर सकते हैं। खोए हुए बच्चों की पहचान करने के लिए एमेजनरिकोगनिशन, वेब आधारित फेशियल रिगोगनिशन जैसी सेवाओं का उपयोग किया जा रहा है। यह एप एंड्राएड और आईओएस दोनों ही प्लेटफार्म पर उपलब्ध है।
बच्चों की सुरक्षा के संदर्भ में बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) भारत का सबसे बड़ा आंदोलन है। बीबीए ने बच्चों के अधिकारों के संरक्षण से संबंधित कानून निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। यह आंदोलन 2006 के निठारी मामले से शुरू हुआ है। इस अवसर पर नोबल पुरस्कार विजेता और बचपन बचाओ आंदोलन के संस्थापक श्री कैलाश सत्यार्थी भी उपस्थित थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
पुलवामा हमले के मद्देनजर संसद के दोनों सदनों में राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक पुलवामा में शहीद जवानों की श्रद्धांजलि में 101 यूनिट रक्तदान दिल्ली पुलिस थानों, चौकियों में महीने व संवेदनशील स्थानों पर वर्षभर में लगा दिए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे अमानवीय आंतकी घटना घटना के बाद पाकिस्तान देता फिर रहा है सफाई वर्तमान समय की ज्वलंत समस्यआों से निबटने में सहायक बनेगा अभियान-दादी राधेश्याम फैशन मॉल में एथनिक परिधानों का बेहतरीन कलेक्शंस पेश किया पुलवामा आतंकी हमला: भारत सरकार ने सेना को दी खुली छूट संपूर्ण महिला चालक दल द्वारा पैरेलल टैक्सी ट्रैक ऑपरेशन डॉक्‍टरों को आधुनिक जीवन शैली के खतरों के बारे में जागरूकता पैदा करनी चाहिए: उपराष्‍ट्रपति पूर्व राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी, उपराष्‍ट्रपति के भाषणों का संकलन 15 फरवरी को होगा जारी