ENGLISH HINDI Wednesday, February 20, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स विश्व धरोहर संपदा घोषित

July 01, 2018 03:19 PM

मुंबई, फेस2न्यूज:
एक अन्य ऐतिहासिक उपलब्धि के रूप में भारत के ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ को यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित किया गया। यह निर्णय बहरीन के मनामा में यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 42वें सत्र में लिया गया। जैसीकि विश्व धरोहर समिति ने अनुशंसा की, भारत ने इंसेबल का नया नाम ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ स्वीकार कर लिया।
भारत मानदंड (2) एवं (4) के तहत, जैसाकि यूनेस्को के संचालनगत दिशानिर्देशों में निर्धारित किया गया है, ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल‘ को विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित करवाने में सफल रहा है।
इससे मुंबई सिटी अहमदाबाद के बाद भारत में ऐसा दूसरा शहर बन गया है जो यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित है।
यह इंसेम्बल दो वास्तुशिल्पीय शैलियों, 19वीं सदी की विक्टोरियन संरचनाओं के संग्रह एवं समुद्र तट के साथ 20वीं सदी के आर्ट डेको भवनों से निर्मित्त है।
यह इंसेम्बल मुख्य रूप से 19वीं सदी के विक्टोरियन गोथिक पुनर्जागरण के भवनों एवं 20वीं सदी के आरंभ की आर्ट डेको शैली के वास्तुशिल्प से निर्मित्त है जिसके मध्य में ओवल मैदान है।
इसके अतिरिक्त, देश के 42 स्थल विश्व धरोहर की प्रायोगिक सूची में हैं और संस्कृति मंत्रालय प्रत्येक वर्ष यूनेस्को को नामांकन के लिए एक संपत्ति की अनुशंसा करता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
पुलवामा हमले के मद्देनजर संसद के दोनों सदनों में राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक पुलवामा में शहीद जवानों की श्रद्धांजलि में 101 यूनिट रक्तदान दिल्ली पुलिस थानों, चौकियों में महीने व संवेदनशील स्थानों पर वर्षभर में लगा दिए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे अमानवीय आंतकी घटना घटना के बाद पाकिस्तान देता फिर रहा है सफाई वर्तमान समय की ज्वलंत समस्यआों से निबटने में सहायक बनेगा अभियान-दादी राधेश्याम फैशन मॉल में एथनिक परिधानों का बेहतरीन कलेक्शंस पेश किया पुलवामा आतंकी हमला: भारत सरकार ने सेना को दी खुली छूट संपूर्ण महिला चालक दल द्वारा पैरेलल टैक्सी ट्रैक ऑपरेशन डॉक्‍टरों को आधुनिक जीवन शैली के खतरों के बारे में जागरूकता पैदा करनी चाहिए: उपराष्‍ट्रपति पूर्व राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी, उपराष्‍ट्रपति के भाषणों का संकलन 15 फरवरी को होगा जारी