ENGLISH HINDI Sunday, August 19, 2018
Follow us on
पंजाब

15 लाख से लगवाए 12 सीसीटीवी कैमरे हैं खराब, ट्रैफिक पुलिस ने एमसी को लिखे 13 लेटर, फिर भी नहीं हुए रिपेयर

July 20, 2018 07:27 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

  
  
मोहाली जिले में जीरकपुर एकदम रेजिडेंशियल व कमर्शियल हब बन गया और लोग यहां रहने आ रहे हैं। जहां बाहरी लोग आकर रहेंगे, वहां क्राइम भी बढ़ेगा। ऐसे में शहर के चुनिंदा 12 प्वाइंट्स पर और ट्रैफिक पुलिस के आग्रह पर करीब दो साल पहले नगर काउंसिल जीकपुर ने सीसीटीवी कैमरे चौराहों पर लगावाए थे। उन प्वाइंट्स को विशेष रूप से चुना गया,जहां हर समय रश रहता है, ताकि किसी प्रकार की अापराधिक घटना होने पर पुलिस क्रिमिनल्स तक आसानी से पहंुच सके, लेकिन अब शहर में लगाए गए 12 सीसीटीवी में से एक भी कैमरा वर्किंग नहीं है।

जितने ट्रैफिक इंचार्ज आए, सबने कैमरे ठीक करवाने को लिखा:

पिछले दो सालांे में अब तक तीन ट्रैफिक इंचार्ज जीरकपुर की कुर्सी पर बैठ चुके हैं। इन सब ने खराब सीसीटीवी कैमरा ठीक करवाने के लिए ईओ को करीब 13 बार पत्र लिखे हैं। हाल ही में ट्रैफिक इंचार्ज सब-इंस्पेक्टर मनफूल सिंह को बलौंगी थाना प्रभारी बनाया गया। मनफूल सिंह ने बताया कि वह करीब 6 महीने तक जीरकपुर में इंचार्ज रहे। इस दौरान उन्होंने 6 बार बंद कैमरों को ठीक करवाने के लिए पत्र भेजे, लेकिन एक का भी जवाब नहीं आया और न कैमरे ठीक करवाए गए। इन सभी की कॉपीज अभी भी ट्रैफिक पुलिस के कंट्रोल रूम जीरकपुर में रिकाॅर्ड के रूप में रखी हुई है। उससे पहले भी करीब 7 बार दूसरे ट्रैफिक इंचार्जों ने लेटर लिखे।

बताया गया कि सबसे पहले दो कैमरे खराब हुए थे। यह काफी समय तक खराब रहे। उसको ठीक करवाने के लिए नगर काउंसिल को पत्र लिखा गया, लेकिन कोई जवाब नहीं आया। उसके बाद एक के बाद एक सारे कैमरे खराब होेते चले गए और किसी ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया।

बस अड्डे में बनाया गया था कंट्रोल रूम, ट्रैफिक पुलिस करती थी ऑपरेट: बताया गया कि नगर काउंसिल ने 15 लाख की कीमत से जो 12 प्वाइंट्स पर कैमरे लगाए थे, उनका सीधा लिंक बस अड्डे में बने रूम से करवाया गया था। जीरकपुर बस अड्डे के एक रूम में कंट्रोल रूम व स्क्रीन लगाई गई थी, जहां से ट्रैफिक पुलिस कैमरों को ऑपरेट करती थी। यही नहीं शहर में कोई वारदात होते ही संबंधित थाना पुलिस भी इस कंट्रोल का फायदा उठाती थी लेकिन अब करीब डेढ़ साल से यह सारे कैमरे बंद पड़े हैं अौर शोपीस बनकर पोल्स पर टंगे हुए हैं।

ईओ से कैमरे ठीक करवाने के लिए मीटिंग करूंगा:

नए ट्रैफिक इंचार्ज राजिंदर सिंह से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने कहा कि उनको जॉइन किए तीन दिन हुए हैं और उनको भी यह बात पता चली है कि शहर का एक भी सीसीटीवी कैमरा ठीक नहीं करता। उनके स्टाफ ने यह भी बताया कि कई बार पहले इंचार्ज लिख चुके हैं। अब वह खुद ईओ नगर काउंसिल मनवीर सिंह गिल से जाकर मिलेंगे। ईओ मनवीर गिल का कहना है कि फ्लाईओवर को छोडकर बाकी 8 सीसीटीवी कैमरे काउंसिल ने लगवाए हैं। मेरी नॉलेज में नहीं था, लेकिन अब एस्टिमेट बनवाकर सारे बंद कैमरों को ठीक करवा दिया जाएगा।

यहां लगे हैं कैमरे...

फ्लाईओवर शुरू होते व खत्म होते 4 कैमरे लगे हैं

सिंहपुरा चौक, के एरिया चौराहा, बलटाना चौराहा,पटियाला-अंबाला चौराहे पर,कालका चौक

मैने खुद 6 बार ईओ को कैमरे ठीक करवाने के लिए पत्र लिखे

पूर्व ट्रैफिक इंचार्ज मनफूल सिंह ने बताया कि वह करीब 6 महीने जीरकपुर में ट्रैफिक इंचार्ज के पद पर रहे हैं और उन्होंने 6 बार ईओ को कैमरे ठीक करवाने के लिए पत्र लिखे। साथ में बताया कि यह लाखों रुपए के कैमरे मात्र शोपीस बने हुए हैं। यदि इनका फायदा उठाना है तो इनको ठीक करवाया जाए, क्योंकि यह कैमरे डिमांड पर एमसी ने लगाए थे। इन्हें मेंटेन करने की जिम्मेदारी भी काउंसिल की ही बनती है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें