ENGLISH HINDI Wednesday, May 22, 2019
Follow us on
एस्ट्रोलॉजी

क्या परिवर्तन लाएंगे शुक्र पहली सितंबर से आपके जीवन में

August 31, 2018 12:56 PM

मदन गुप्ता सपाटू ज्योतिर्विद् , चंडीगढ, 098156 19620;

  ज्योतिष में ग्रहों के गोचर का बहुत अधिक महत्व होता है। कई बार कुंडली में ग्रह बहुत अच्छेलगते हैं परंतु अचानक ऐसा कुछ घट जाता है कि हम ज्योतिष शास्त्र पर उंगलियां उठानेलगते हैं जबकि ज्योतिषी गलत हो सकता है ज्योतिष नहीं । उसकी गणना या कुंडली कोसमुचित दृष्टिकोण से न देख पाने में कमी और उसका सही विश्लेषण् करने में कमी हो सकतीहै।

जैसे किसी की कुंडली में शुक्र जितना अभी अच्छा हो परंतु 1 अगस्त को जब वह नीच राशिमें आ गया तो अच्छे भले पारिवारिक जीवन में विष घोल गया होगा। अब वही शुक्र 1सितंबर, शनिवार की रात्रि 11 बजकर 46 मिनट से अपनी तुला राशि में आ रहे हैं जिससेविभिन्न राशियों पर अलग अलग प्रभाव पड़ेगा। जीवन कभी एक सा नहीं रह सकता। उस में हर पल परिवर्तन आता है। ज्योतिषीय गणना जीवन के इसी पल पल परिवर्तन की व्याख्याकरता है जिसे फलित ज्योतिष कहते हैं।

शुक्र नैसर्गिक रूप से एक लाभदाता ग्रह माना गया है। इसे कला, प्रेम, सौंदर्य और सांसारिक सुखों का कारक कहा जाता है.जिन लोगों की कुंडली में शुक्र की स्थिति अच्छी होती है उन्हें जीवन में भौतिक वस्तुओं और सुखों की प्राप्ति होती है। चाहे वो लग्जरी वाहन, विदेश यात्रा,इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, वैवाहिक या प्रेम संबंध हो। वहीं शुक्र के अशुभ प्रभाव से कड़ी मेहनत के बावजूद परिणाम की प्राप्ति में देरीहोती है। त्वचा व यौन रोग से परेशानी होती है। ऐसी स्थिति में ज्योतिषीय परामर्श लेकर शुक्र ग्रह की शांति अवश्य करना चाहिए। 

शुक्र भोर का तारा नाम से मशहूर हैं। इन्हें लाभ का कारक माना जाता है। कला में पारंगत अधिकांश वही जातक मिलते हैं जिनकी कुंडली में शुक्र का अच्छे हों।

कैसी रहेगी शुक्र की चाल - पूरे साल 

शुक्र मीन राशि में उच्च तो कन्या राशि में नीच का माना जाता है। शुक्र स्वराशि तुला में प्रवेश कर रहे हैं। तुला राशि में बृहस्पति पहले से गोचर कर रहे हैं जो कि 10 अक्तूबर तक यहीं रहेंगें। शुक्र ग्रह का साल 2018में यह अंतिम राशि परिवर्तन होगा। 6 अक्तूबर 2018 को शुक्र उल्टी चाल चलने लगेंगें जिसके पश्चात वह 16नवंबर को मार्गी होंगे। इस तरह इस वर्ष शुक्र तुला राशि में ही बने रहेंगें।

गुरु - शुक्र का शंख योग बन रहा है।मंगल भी मार्गी हो चुके हैं और 6 सितंबर को शनि भी मार्गी हो जाएंगे।

चन्द्र राशि के अनुसार शुक्र का परिवर्तन कैसा रहेगा

मेष –शुक्र सप्तम भाव में बृहस्पति के साथ हैं। सेहत के मामले में मिले-जुले परिणाम लेकर आ सकता है। विद्यार्थियों के लिये समय अच्छा कहा जा सकता है। रोमांटिक जीवन बहुत ही शानदार । जो संतान प्राप्ति के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी खुशखबरी मिल सकती है। अविवाहित जातकों को विवाह के प्रस्ताव मिल सकते हैं। व्यावसायिक तौर पर भी आप लाभ की स्थिति में रह सकते हैं। शुक्रवार को सफेद चंदन दान करें।

वृष –शुक्र का छठे घर में बृहस्पति के साथ होना आपके लिये, संतान प्राप्ति के योग बना रहा है। शिक्षाक्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये भी समय सकारात्मक रह सकता है। सकारात्मक ऊर्जा का संचार रहेगा। नई नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। ननिहाल से कोई शुभ समाचार मिल सकता है। किसी मंदिर की पुजारिन को इत्रभेंट करें।

मिथुन –पंचम भाव में शुक्र प्रेम पाने की चाह रखने वाले जातकों के लिये अपने प्यार को प्रभावित करने के अच्छे अवसर मिल सकते हैं। रोमांटिक जीवन रोमांच से भरपूर रहने के आसार हैं। विद्यार्थी भी अपनी शिक्षा व अध्ययन पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।‘’ॐ शुं शुक्राय नमः’’ मंत्र का जाप करें।

कर्क –शुक्र सुख भाव में बृहस्पति के साथ गोचररत हैं। यह समय आपके लिये लाभप्राप्ति के योग बना रहा है। जो फैशनेबल कपड़ों का व्यवसाय शुरु करना चाहते हैं उनके लिये परिस्थितियां अनुकूल रहने की उम्मीद कर सकते हैं। नया घर अथवा गाड़ी संजोने का सपना भी इस समय पूरा कर सकते हैं। भगवान शिव की आराधना करें और उन्हें सफेद पुष्प चढ़ाएँ।

सिंह – शुक्र पराक्रम भाव में गोचर कर रहे हैं । आपके लिये छोटी यात्राओं के योग बना रहा है । धन प्राप्ति के योग भी इस समय आपके लिये बन रहे हैं। किसी पुराने मित्र अथव संबंधी से मुलाकात हो सकती है । व्यावसायिक जीवन के लिये भी समय अनुकूल रह सकता है। गाय की पूजा करें और उन्हें चारा खिलाएँ।

कन्या – आपकी राशि से धन भाव में शुक्र, बृहस्पति के साथ द्विग्रही योग बना रहे हैं। वित्तीय रूप से लाभ प्राप्ति की उम्मीद इस समय आप कर सकते हैं। क्रय-विक्रय यानि सौदेबाजी के लिये समय अच्छा कहा जा सकता है । आपका रोमांटिक मूड आपके प्रेम जीवन में रोमांच पैदा कर सकता है। चावल से भगवान शिव एवं माँ पार्वती की आराधना करें।

तुला – शुक्र अपनी नीच राशि को त्याग कर आपकी राशि में दाखिल हुए हैं। आप अपेक्षित परिणाम मिलने की उम्मीद रख सकते हैं। आपका कोई सपना साकार हो सकता है। नये घर अथवा गाड़ी की खरीद को लेकर उत्साहित हो सकते हैं। घरेलू जीवन भी सौहार्दपूर्ण रहने के आसार हैं। पर्यटक स्थल की यात्रा का विचार बना सकते हैं।

वृश्चिक – आपकी राशि से शुक्र बारहवें भाव में हैं। इस समय आप अपनी पसंद का कुछ खरीद सकते हैं। इसके लिये आप आर्थिक तौर पर भी सक्षम रह सकते हैं। किसी लंबी दूरी की यात्रा भी आप इस समय कर सकते हैं। कुल मिलाकर यह समय आपके लिये बेहतरीन कहा जा सकता है।

धनु – धनु राशि वालों के लिये शुक्र लाभ क्षेत्र के स्वामी हैं जो कि स्वराशिगत गोचर कर रहे हैं। आपने जो कठिन परिश्रम किया है उसका लाभ भी आपको मिल सकता है। रोमांटिक जीवन भी इस समय शानदार रहने के आसार हैं। साथी का भरपूर सहयोग आपको मिलने की संभावना है। यात्रा के योग भी आपके लिये बन रहे हैं।

मकर – आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन कर्मक्षेत्र में हुआ है । व्यावसायिक रूप से यह समय आपके लिये शानदार कहा जा सकता है। कार्यस्थल पर आपके काम की सराहना भी हो सकती है। व्यवसायी जातकों के लिये भी यह समय अनुकूल रहने के आसार हैं।

कुंभ –शुक्र भाग्य स्थान में हैं। इस समय आपको भाग्य का पूरा साथ मिलने के आसार हैं। कामकाजी जीवन में भी यह आपके लिये कार्योन्नति का समय है, विकास करने का समय है। इस समय आपको अपेक्षित परिणाम मिल सकते हैं। स्वास्थ्य के मामले में भी यह आपके लिये बेहतरीन समय रहने वाला है। परिवार में किसी विवाह समारोह का आयोजन हो सकता है।

मीन –शुक्र का प्रवेश अष्टम भाव में हुआ है। छोटे भाई बहनों की सेहत के प्रति आप थोड़े चिंतित रह सकते हैं। हालांकि यह परिस्थितियां बदलते भी देर नहीं लगेगी और सब कुछ ठीक होने की संभावनाएं हैं। कार्यस्थल पर काम का दबाव रह सकता है। प्रतिस्पर्धात्मक अवसरों पर आपको सफलता प्राप्त हो सकती है। 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें