ENGLISH HINDI Friday, September 20, 2019
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने लगाया तीसरा निशुल्क ज्योतिष कैंप

September 23, 2018 05:59 PM

चंडीगढ़: लक्ष्य ज्योतिष संस्थान चंडीगढ़ की ओर से सेक्टर 40 के श्री राधा कृष्ण मंदिर में तीसरे निशुल्क ज्योतिष कैंप का आयोजन किया गया । सवेरे से ही हो रही मूसलाधार बारिश के बाबजूद भी लोगों में ज्योतिष के जरिये अपनी समस्याओं को निवारण जानने के प्रति क्रेज देखते ही बनता था। लोगों की भारी आमद के आगे मंदिर का हाल भी छोटा पड़ रहा था। ज्योतिष आचार्यों ने भी लोगों को निराश नही होने दिया बल्कि जन्म कुंडली के हिसाब से उन्हें अनुकूल समाधान और उपाय बताए।

45 से अधिक ज्योतिष आचार्यों ने लिया भाग

डॉक्टर रोहित कुमार और आचार्य बीना शर्मा ने बताया की इस कैंप का मुख्य उद्देशय वैदिक ज्योतिष का प्रचार प्रसार है, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा इस विद्या के बारे में जान सके। उन्होंने बताया की उनके संस्थान की और से गरीब परिवार के बच्चो को ज्योतिष विद्या की फ्री एजुकेशन दी जाती है ताकि वो इस विद्या से वो न केवल लोगों को जीवन में आ रही विभिन्न परेशानियों से छुटकारा पाने का उपाए बता सके, साथ ही अपने परिवार का भरण पोषण कर सके।

 
ज्योतिष कैंप में ज्योतिष विद्या की वैदिक, हस्त रेखा, टैरो कार्ड रीडर, अंक गणित, स्प्रिचुअल हीलर, रैकी, वास्तु-नाड़ी, लाल किताब एवं एस्ट्रोलॉजी से जुडी विभिन्न विधाओं के लगभग 45 विशेषज्ञ ज्योतिष आचार्यों ने भाग लिया। ज्योतिष कैम्प के दौरान के पी ज्योतिष में विशेषज्ञ मीना कुमारी अम्बाला से, मोहाली से पालमिस्ट्री में विशेषज्ञ नवदीप मदान, दिल्ली से टैरो रीडर मीनू शर्मा, नांगल से वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ बलराम पराशर भी विशेष रूप में उपस्थित थे।

लक्ष्य ज्योतिष संस्थान की प्रेजिडेंट आचार्य बीना शर्मा, फाउंडर व् चेयरमैन डॉक्टर रोहित कुमार और वाईस प्रेजिडेंट परवीन रजवाल ने बताया कि संस्थान की ओर से आयोजित इस ज्योतिष कैंप को निशुल्क लगाया गया है, इसमें न तो ज्योतिष विशेषज्ञों से ओर न ही आम जनता से किसी भी प्रकार की धनराशि ली गयी है। उन्होंने बताया कि ज्योतिष कैम्प में लोगों ने अपनी जन्म तिथि, समय और जन्म स्थान बता कर या कुंडली दिखा कर ज्योतिष की विभिन्न विधाओं द्वारा अपनी राहू केतु दशा और अपने जीवन से जुड़ी पारिवारिक, स्वास्थ्य, नौकरी व अन्य बातो की जानकारी हासिल कर उनका समाधान और उपाय जाने।

डॉक्टर रोहित कुमार ने बताया कि मानव जीवन के स्वास्थय से भी ज्योतिष का गहरा सम्बन्ध है। ज्योतिष के माध्यम से प्रत्येक इंसान/जातक अपने स्वास्थय के प्रति जानकारी हासिल कर सकता है, बल्कि भविष्य में होने वाले किसी भी प्रकार के दीर्घ व् सामान्य रोग को ज्योतिषीय उपायों के द्वारा इनका निवारण भी कर सकता है। उन्होंने आगे कहा कि ज्योतिष के माधयम से ही जीवन में घट रही या निकट भविष्य में होने वाली विभिन्न कष्टकारी विपत्तियों को भी टाला जा सकता है। उन्होंने बताया की इस आधुनिक युग में मानव को सुख तो बहुत हैं पर मन में शान्ति नहीं और तन स्वस्थ नहीं रह पाता सन्तान कन्ट्रोल में नहीं रह पाती इन सब के लिए जयोतिष विधा की मदद ली जा सकती है।

संस्थान की प्रेजिडेंट आचार्य बीना शर्मा ने बताया की हालांकि ज्योतिष द्वारा जीवन में आ रही परेशानियों से छुटकारा तो नहीं पाया जा सकता, परन्तु ज्योतिष के उपायों से इन पर काफी हद तक नियंतरण जरूर पाया जा सकता है।

डॉक्टर रोहित कुमार और आचार्य बीना शर्मा ने बताया की इस कैंप का मुख्य उद्देशय वैदिक ज्योतिष का प्रचार प्रसार है, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा इस विद्या के बारे में जान सके। उन्होंने बताया की उनके संस्थान की और से गरीब परिवार के बच्चो को ज्योतिष विद्या की फ्री एजुकेशन दी जाती है ताकि वो इस विद्या से वो न केवल लोगों को जीवन में आ रही विभिन्न परेशानियों से छुटकारा पाने का उपाए बता सके, साथ ही अपने परिवार का भरण पोषण कर सके।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
लक्ष्य ज्योतिष संस्थान के निशुल्क ज्योतिष कैंप में लोगों ने कुंडली दिखा जाना भविष्य श्राद्ध पक्ष. 13 सितंबर से 28 सितंबर तक, श्राद्ध एक दिन कम होगा,क्यों करें श्राद्ध ? दो से 12 सितंबर तक मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन जन्माष्टमी 23 या 24 अगस्त की ? ज्योतिष के अनुसार 23 अगस्त , शुक्रवार को ही जन्माष्टमी मनाना रहेगा सार्थक, श्रेष्ठ एवं शास्त्र सम्मत राखी बांधें गुरुवार सुबह से सायं 6 बजे तक भद्रा रुपी ‘धारा’ लागू नहीं 11 अगस्त से मार्गी हो रहे गुरु का कैसा रहेगा प्रभाव ? इस बार नाग पंचमी पूरे 125 सालों बाद सावन के तीसरे सोमवार हरियाली तीज-3 अगस्त को, विवाहित महिलाएं नए कपड़े, गहने पहन कर जातीं हैं अपने मायके चंद्र यान - 2 पर चंद्र ग्रहण क्यों है 2019 का सावन खास ?