ENGLISH HINDI Friday, November 16, 2018
Follow us on
पंजाब

रात होते ही मशीनों सहित सक्रिय हो जाता है माइनिंग माफिया

November 01, 2018 07:33 PM

डेराबसी, जे एस कलेर:
डेराबसी क्षेत्र के आसपास घग्घर सहित अन्य सहायक नदी नालों पर बड़े पैमाने पर रेत व ग्रैवर का अवैध खनन हो रहा है। रात होते ही माइनिंग माफिया सक्रिय होकर यहां घग्घर के किनारों को खोखला करने में लग जाते हैं। घग्घर नदी के आसपास ऐसा कोई एरिया नहीं जहां से माफिया ग्रैवर व रेत की चोरी न कर रहे हो।  

ककराली, ब्रह्मपुरा के बाद अमलाला नज़दीक घग्गर में मिले नाजायज माइनिंग के ताज़ा निशान 


शहर के आसपास चल रहे सरकारी और गैर सरकारी निर्माण कार्यों में बड़े पैमाने पर रेत व अन्य निर्माण सामग्री का उपयोग होता है, लेकिन डेराबसी क्षेत्र में एक भी रेत की वैध खदान नहीं है। माइनिंग माफिया अंधेरे में जे.सी.बी. मशीन, टिप्पर, ट्रैक्टर-ट्रालियां लेकर नाजायज माइनिंग करने निकल पड़ते हैं और कुछ घंटों में लाखों रुपए का रेत चोरी कर रफ़ू चक्कर हो जाते हैं और पीछे छोड़ जाते हैं माइनिंग और टायरों के ताज़ा निशान। यह सिलसिला पहले ककराली, ब्रह्मपुरा और अब गाँव अमलाला नज़दीक घग्गर में चल रहा है। माइनिंग माफ़ियों ने गाँव अमलाला नज़दीक बने पुल के दोनों तरफ़ घग्गर में जाने के लिए मिट्टी डाल कर रास्ता बनाया हुआ था, जहाँ रास्ता ख़त्म होता है वहाँ से जे.सी.बी.मशीन के साथ रेत निकाले जाने के ताज़ा निशान मौजूद थे। मौके पर 10 से 15 फुट गहरे गड्ढे इस बात की गवाही भरते हैं कि यहाँ कई दिनों से माइनिंग चल रही है और माइनिंग विभाग समेत पुलिस प्रशासन कुंभकरनी नींद सोया पड़ा है। 

जिस गाँव में पुलिस की गाड़ी मौजूद, वहां हो रहो थी माईनिंग:
इसको पुलिस की माइनिंग माफियाओं के साथ मिलीभुगत कहा जाये या माइनिंग माफिया को पुलिस का कोई डर नहीं बताया जाए। बीती देर रात जब पत्रकारों की टीम गाँव अमलाला पहुँची तो उस समय पुलिस की गाड़ी गाँव नजदीक मौजूद थी, जिस में दो पुलिसकर्मी बैठे थे। उनके पास से निकल कर जब टीम घग्गर नदी में माइनिंग वाली जगह पर पहुँची तो वहाँ से टिप्पर और जे.सी.बी. मशीन निकल चुके थे, लेकिन मशीन के साथ हुई माइनिंग के निशान मौजूद थे। मौके का दौरा कर पत्रकार जब वापस आए तो पुलिस की गाड़ी वहाँ से गायब मिली। गाँव वासियों ने अपना नाम न छापने की शर्त पर बताया कि बीती रात पुल के दोनों तरफ़ टिप्पर और जे.सी.बी.मशीन जाती देखी थी।
रात को सड़कों पर पुलिस की जगह माइनिंग वाले बेख़ौफ़ वाहन दौड़ते है नाजायज़ माइनिंग करने वालों के हौसले इतने बुलंद हैं कि रात होते ही सड़कों पर ट्रालियों व टिप्परों में रेत भर कर दौड़ते नज़र आते हैं। बीती रात रेलवे फ्लाईओवर के पास मुबारिकपुर की तरफ़ रेत की भरी ट्रैक्टर ट्राली जाती देखी गई। बिना नबंर के ट्रैक्टर चालक फोटो से बचने के लिए कपड़े के साथ मुँह छिपा लेते हैं। वैसे तो बरवाला चौक पर पुलिस मौजूद होती है, लेकिन जब माइनिंग वाले वाहन निकलते हैं, पुलिस दिखाई नहीं देती।
इस बारे में एस.डी.ऐम. डेराबस्सी परमजीत सिंह के साथ बात करने पर उन्होंने कहा कि मौको का दौरा कर जांच की जायेगी। माइनिंग अधिकारी दलजीत सिंह की तरफ से फ़ोन ना उठाने कारण उनके साथ सपंर्क नहीं हो सका।
थाना प्रमुख महेन्दर सिंह का कहना है कि उनकी तरफ से अवैध माइनिंग रोकने के लिए पूरी चौकसी की गई है, 3-4 पुलिस की गाड़ीयाँ सारी रात गश्त पर होती है। उन्होंने कहा कि उनकी तरफ से किसी माइनिंग करने वाले को बक्शा नहीं जायेगा।
अवैध माइनिंग से लाखों के वारे-न्यारे:
माफिया अवैध रेत से लाखों के वारे-न्यारे करने में लगे हैं। निर्माण में ये एक ट्रेक्टर रेत 3 हजार से 3500 रुपए प्रति ट्राली पहुंचाई जाती है।
एक ट्रेक्टर की कोई रॉयल्टी ट्रेक्टर संचालकों को चुकानी नहीं पड़ती है। पूरा कारोबार अवैध होता है।
रेत का सबसे ज्यादा खनन घग्घर के साथ लगते किनारों पर हो रहा है।
इसके अलावा ककराली, ब्रह्मपुरा और अमलाला भी रेत निकाली जा रही है। यहां तो दिन में ही ट्रेक्टर संचालक अवैध खनन करते हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
जीरकपुर में पॉवरकॉम और ट्रैफिक पुलिस में ठनी, चालान-चालान का खेल : पावरकॉम ने ट्रैफिक लाइट कनेक्शन काटा 26 पेटियां अवैध शराब सहित दो काबू, मामला दर्ज ग्लोबल विज्डम स्कूल में धूम धाम से मनाया गया बाल दिवस पुलिस से चोर ज्यादा होशियार निकला, चोरी के मोबाइल से पेटीएम का इस्तेमाल डिस्को क्लब के गेट को बाहर से ताला ठोक अंदर चल रही थी ग्रैंड पार्टी अध्यापकों की बदली के खिलाफ स्कूल गेट पर नारेबाजी चंडीगढ़-अंबाला राष्ट्रीय राजमार्ग पर पाँच वाहन टकराने कारण लगा लंबा जाम पानी से बिजली देने वाले भाखड़ा कार्यालय पाऩी पानी, कौन है जिम्मेदवार अफसर! अनूठे ढंग से मनाया गया बाल दिवस, बच्चों ने वृद्ध आश्रम जाकर लिया आशीर्वाद स्वास्थ्य मंत्री ने डॉक्टर विजय जैन को किया स्टेट अवार्ड से सम्मानित