ENGLISH HINDI Thursday, February 21, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन

December 07, 2018 11:18 AM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
मंत्रिमंडल ने जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन को मंजूरी दे दी।
इस निर्णय का लक्ष्य जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में समुचित संशोधन करना है, ताकि न्यासियों के रूप में प्रतिनिधित्व हो सके। संशोधन अनुसार “लोकसभा में मान्य नेता प्रतिपक्ष या जब नेता प्रतिपक्ष न हो, तब की स्थिति में सदन में सबसे बड़े विपक्षी दल का नेता” शामिल होगा।
लाभ :
मौजूदा अधिनियम में सबसे बड़े राष्ट्रीय राजनीतिक दल के प्रतिनिधित्व के लिए प्रावधान है। न्यास से दल विशेष के सदस्य को हटाने से न्यास गैर-राजनीतिक हो जाएगा। प्रस्तावित संशोधन के तहत न्यास में विपक्षी दल के प्रतिनिधित्व को सुनिश्चित किया गया है। प्रस्तावित संशोधन से सरकार को न्यास के कामकाज में हिस्सा लेने या किसी अन्य कारण से न्यासी को हटाने या उसे बदलने का अधिकार प्राप्त हो जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
पुलवामा हमले के मद्देनजर संसद के दोनों सदनों में राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक पुलवामा में शहीद जवानों की श्रद्धांजलि में 101 यूनिट रक्तदान दिल्ली पुलिस थानों, चौकियों में महीने व संवेदनशील स्थानों पर वर्षभर में लगा दिए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे अमानवीय आंतकी घटना घटना के बाद पाकिस्तान देता फिर रहा है सफाई वर्तमान समय की ज्वलंत समस्यआों से निबटने में सहायक बनेगा अभियान-दादी राधेश्याम फैशन मॉल में एथनिक परिधानों का बेहतरीन कलेक्शंस पेश किया पुलवामा आतंकी हमला: भारत सरकार ने सेना को दी खुली छूट संपूर्ण महिला चालक दल द्वारा पैरेलल टैक्सी ट्रैक ऑपरेशन डॉक्‍टरों को आधुनिक जीवन शैली के खतरों के बारे में जागरूकता पैदा करनी चाहिए: उपराष्‍ट्रपति पूर्व राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी, उपराष्‍ट्रपति के भाषणों का संकलन 15 फरवरी को होगा जारी