ENGLISH HINDI Wednesday, March 20, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

इंसाफ की बजाए जख्मों पर नमक छिडक़ रही है कांग्रेस: चीमा

December 14, 2018 12:38 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब ने 1984 में सिक्ख कत्लेआम के आरोपी कमल नाथ के सिर पर कांग्रेस की तरफ से 'मुख्यमंत्री का ताज' रखे जाने की तैयारी का जोरदार विरोध करते हुए आरोप लगाया है कि कांग्रेस पीडि़त सिक्ख परिवारों को इंसाफ देने की बजाए बार-बार जख्मों पर नमक छिडक़ रही है।
'आप' कार्यालय से जारी ब्यान में विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि कमल नाथ 1984 के सिक्ख विरोधी दंगों में शामिल था। नानावती कमीशन समेत मीडिया और दो न्यायिक जांच में कमल नाथ की स्पष्ट भागीदारी तथ्यों-सबूतों सहित सामने आई है, परंतु न तो कांग्रेस और न ही केंद्र में करीब 10 वर्ष सत्ता का सुख भोगने वाली भाजपा-अकाली दल की सरकार ने कमल नाथ को हिम्मत दिखाई। उल्टा कांग्रेस की तरफ से सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर की तरह कमल नाथ को बड़े-बड़े रुतबों के साथ मान-सम्मान देकर सिक्खों समेत समूचे इंसाफ पसंद लोगों का बार-बार मुंह चिड़ाया जा रहा है।
चीमा ने कहा कि नानावती कमीशन की रिपोर्ट में स्पष्ट दर्ज है कि पहली नवंबर 1984 को कमल नाथ उन 4000 लोगों की हमलावर भीड़ का नेतृत्व कर रहा था, जिसने गुरुद्वारा श्री रकाबगंज पर हमला कर आगजनी की और निर्दोष लोगों की जान ली। चीमा ने कहा कि नानावती कमीशन ने अपनी अंतिम रिपोर्ट में कमल नाथ को क्लिन चिट्ट नहीं दी। यहां तक कि प्रसिद्ध पत्रकार संजय सूरी ने जहां नानावती कमीशन के पास कमल नाथ की सिक्ख विरोधी दंगों में भागीदारी की बात कही वहीं सूरी ने मिश्रा कमीशन के पास हलफीया बयान दे कर कमल नाथ पर अपने आरोपों को दोहराया। मौके के गवाह और पीडित मुख्तियार सिंह ने भी यही आरोप लगाए कि कमल नाथ हमलावर भीड़ का नेतृत्व और निर्देश दे रहा था। यहां तक कि 2 नवंबर 1984 को अंग्रेजी के एक बड़े अखबार में खबर छपी थी जिसमें कमल नाथ की वहां 2 घंटे मौजूदगी बताई गई। इन सबूतों-तथ्यों के आधार पर कमल नाथ की तरफ से 20 साल बाद दी गई सफाई को रद्द कर दिया है।
चीमा ने कहा कि बावजूद इसके कांग्रेस कमल नाथ जैसे दागी नेताओं को एक से बढ़ कर एक सम्मान दे रही है। आम आदमी पार्टी इस की निंदा और विरोध करती है। चीमा ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रधान राहुल गांधी से मांग की कि कमल नाथ को मुख्य मंत्री न बनाए। चीमा ने प्रधान मंत्री नरिंदर मोदी से अपील की है कि वह बिना किसी देरी के कमल नाथ के विरुद्ध केस री-ओपन कर समयबद्ध जांच करवाएं जिससे आरोपी को बनती सजा और पीडितों को इंसाफ मिल सके।
हरपाल चीमा ने पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ से भी स्पष्टीकरण मांगा और यह भी स्पष्टीकरण मांगा गया कि यदि कमल नाथ सचमुच पाक-साफ हैं तो कांग्रेस 2016 में कमल नाथ को पंजाब का इंचार्ज बनाऐ जाने का फैसला वापस क्यों लिया था?

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
दलाई लामा टेरिस पीस एंड फ्रीडम अवार्ड 2019 से सम्मानित सकारात्मक सोच के बिना उपभोक्ता अधिकार दिवस मनाना सिर्फ एक ढकोसला प्रमाणित प्रतियां आॅनलाईन करने हेतु मुख्यमंत्री को पत्र आयकर विभाग द्वारा चुनाव के मद्देनजऱ कंट्रोल रूम स्थापित जल संवर्धन और पुलवामा कांड के कारण इस बार नहीं खेली जायेगी रंगों से होली अंग्रेजो भारत छोड़ो के बाद– नौकरशाही भारत छोड़ो जल संवर्धन और पुलवामा कांड के कारण इस बार नहीं खेली जायेगी रंगों से होली भारत में उपभोक्ता संरक्षण और न्यायिक असहयोग चुनाव आचार संहिता के नियमों को तोड़ने पर नेता पड़ सकते हैं मुसीबत में भारत के 11 और राज्यों में डीडी चैनलों के सैटेलाइट प्रसारण का शुभारंभ