ENGLISH HINDI Saturday, January 19, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

इंसाफ की बजाए जख्मों पर नमक छिडक़ रही है कांग्रेस: चीमा

December 14, 2018 12:38 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब ने 1984 में सिक्ख कत्लेआम के आरोपी कमल नाथ के सिर पर कांग्रेस की तरफ से 'मुख्यमंत्री का ताज' रखे जाने की तैयारी का जोरदार विरोध करते हुए आरोप लगाया है कि कांग्रेस पीडि़त सिक्ख परिवारों को इंसाफ देने की बजाए बार-बार जख्मों पर नमक छिडक़ रही है।
'आप' कार्यालय से जारी ब्यान में विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि कमल नाथ 1984 के सिक्ख विरोधी दंगों में शामिल था। नानावती कमीशन समेत मीडिया और दो न्यायिक जांच में कमल नाथ की स्पष्ट भागीदारी तथ्यों-सबूतों सहित सामने आई है, परंतु न तो कांग्रेस और न ही केंद्र में करीब 10 वर्ष सत्ता का सुख भोगने वाली भाजपा-अकाली दल की सरकार ने कमल नाथ को हिम्मत दिखाई। उल्टा कांग्रेस की तरफ से सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर की तरह कमल नाथ को बड़े-बड़े रुतबों के साथ मान-सम्मान देकर सिक्खों समेत समूचे इंसाफ पसंद लोगों का बार-बार मुंह चिड़ाया जा रहा है।
चीमा ने कहा कि नानावती कमीशन की रिपोर्ट में स्पष्ट दर्ज है कि पहली नवंबर 1984 को कमल नाथ उन 4000 लोगों की हमलावर भीड़ का नेतृत्व कर रहा था, जिसने गुरुद्वारा श्री रकाबगंज पर हमला कर आगजनी की और निर्दोष लोगों की जान ली। चीमा ने कहा कि नानावती कमीशन ने अपनी अंतिम रिपोर्ट में कमल नाथ को क्लिन चिट्ट नहीं दी। यहां तक कि प्रसिद्ध पत्रकार संजय सूरी ने जहां नानावती कमीशन के पास कमल नाथ की सिक्ख विरोधी दंगों में भागीदारी की बात कही वहीं सूरी ने मिश्रा कमीशन के पास हलफीया बयान दे कर कमल नाथ पर अपने आरोपों को दोहराया। मौके के गवाह और पीडित मुख्तियार सिंह ने भी यही आरोप लगाए कि कमल नाथ हमलावर भीड़ का नेतृत्व और निर्देश दे रहा था। यहां तक कि 2 नवंबर 1984 को अंग्रेजी के एक बड़े अखबार में खबर छपी थी जिसमें कमल नाथ की वहां 2 घंटे मौजूदगी बताई गई। इन सबूतों-तथ्यों के आधार पर कमल नाथ की तरफ से 20 साल बाद दी गई सफाई को रद्द कर दिया है।
चीमा ने कहा कि बावजूद इसके कांग्रेस कमल नाथ जैसे दागी नेताओं को एक से बढ़ कर एक सम्मान दे रही है। आम आदमी पार्टी इस की निंदा और विरोध करती है। चीमा ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रधान राहुल गांधी से मांग की कि कमल नाथ को मुख्य मंत्री न बनाए। चीमा ने प्रधान मंत्री नरिंदर मोदी से अपील की है कि वह बिना किसी देरी के कमल नाथ के विरुद्ध केस री-ओपन कर समयबद्ध जांच करवाएं जिससे आरोपी को बनती सजा और पीडितों को इंसाफ मिल सके।
हरपाल चीमा ने पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ से भी स्पष्टीकरण मांगा और यह भी स्पष्टीकरण मांगा गया कि यदि कमल नाथ सचमुच पाक-साफ हैं तो कांग्रेस 2016 में कमल नाथ को पंजाब का इंचार्ज बनाऐ जाने का फैसला वापस क्यों लिया था?

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
19 जनवरी को भारतीय सिनेमा के राष्ट्रीय संग्रहालय का प्रधानमंत्री करेंगे उद्घाटन पत्रकार छत्रपति हत्याकांड: राम रहीम सहित चारों आरोपियों को उम्रकैद की सजा स्कूलों में वैक्सीनेशन कैंपेन पर हाई कोर्ट की रोक एनडीएमसी ने किया बजट प्रस्तुत, सुरक्षा व प्रदूषण नियंत्रण होगा जोर शाही स्नान से पहले घटित हुआ हादसा, टैंटों में लगी आग, जानी नुक्सान नहीं मिलिट्री कालेज में दाखि़ले हेतु लिखित परीक्षा की तारीखों का ऐलान देश में सांस्कृतिक पुनर्जागरण की आवश्यकता: उपराष्ट्रपति स्वामी विवेकानन्द के सपनों को पूरा करने का संकल्प लें युवा: दादी रतनमोहिनी संस्कार से यदि तपे नहीं होते तो फिसल चुके होते: मोदी सवर्ण आरक्षण बिल पर सरकारी स्पीड से हुआ एक्सीडेंट, मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट