ENGLISH HINDI Monday, January 21, 2019
Follow us on
व्यापार

भारत में निर्मित पहली किआ एसपी2आइ 2019 में लॉन्च होगी

December 28, 2018 09:30 PM

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री

किया मोटर्स दुनिया का आठवां सबसे बड़ा ऑटो निर्माता है। इसने आज एक फैसिलिटी टूर के दौरान अनंतपुर में अपने 536 एकड़ के विर्शाल संयंत्र का प्रदर्र्शन किया, जो लगभग पूरा होने वाला है सितंबर, 2019 तक अपने पहले उत्पाद एसपी2आई का भारत में लॉन्च कर देगी।

  यह आगामी कार कंपनी के अनंतपुर संयंत्र में निर्मित होगी, जो विश्वस्तरीय गुणवत्ता, बेहतरीन डिज़ाईन और अत्याधुनिक टेक्नॉलॉजी से सुसज्जित होगा। कंपनी का उद्देश्य तीन सालों में भारत के सर्वोच्च 5 ऑटोनिर्माताओं में अपनी जगह बनाना है।किया मोटर्स ने भारत में प्रवेष ऑटो एक्स्पो 2018 में किया और अपनी 16 सर्वोच्च ग्लोबल श्रृंखलाओं का प्रदर्र्शन किया, जिसमें ऑटो एक्स्पो में सबसे ज्यादा पसंद की गई, एसपी2आई भी शामिल थी। भारत एवं भारत के ‘रॉयल बंगाल टाईगर’ के र्शक्तिषाली चेहरे से प्रेरित इस कार में किया की सबसे मर्शहूर और खास विशेषता - ‘टाईगर नोज़ ग्रिल’ है, जो चीफ डिज़ाईन ऑफिसर, श्री पीटर श्रेयर द्वारा डिज़ाईन की गई है। यह कार ‘मेक इन इंडिया’ सेगमेंट में पूरी तरह फिट बैठती है और इसमें वह हर खूबी है, जो भारतीय ग्राहक चाहते हैं।

इसमें स्पोर्टी और स्टाईलिश डिज़ाईन के साथ अत्याधुनिक टेक्नॉलॉजी भी है।किया ने भारत में अपने काम लगभग एक साल पहले आंध्रप्रदेश के अनंतपुर में अपने संयंत्र के उद्घाटन के साथ प्रारंभ किए। इस संयंत्र का काम पूरे जोरशोर से चल रहा है। यह संयंत्र लगभग तैयार है और 2019 की दूसरी छमाही में काम करना प्रारंभ कर देगा। इस संयंत्र में 300,000 से अधिक वाहन प्रतिवर्ष बनाने की क्षमता है और यह क्षेत्र में 3000 से अधिक प्रत्यक्ष और 7000 अप्रत्यक्ष नौकरियां निर्मित करेगा। किया ने सर्वश्रेष्ठ स्थानीय विनिर्माण सुनिश्चित करने के लिए संयंत्र में लगभग 1.1 बिलियन डॉलर का निवेश किया है। यहां पर वैश्विक मापदंडों के अनुरूप टेक्नॉलॉजी प्रदान की जाएगी। यह प्लांट हाईब्रिड एवं इलेक्ट्रिक वाहन भी बना सकेगा। किया को इस बात में बहुत गर्व है कि इस प्लांट में सबसे उन्नत ग्लोबल टेक्नॉलॉजी, जैसे रोबोटिक्स एवं कृत्रिम योग्यता है तथा यह संयंत्र के अंदर 100 प्रतिशत वाटर रिसाइक्लिंग की क्षमताओं के साथ पर्यावरण के लिए मित्रवत है। इसके अलावा कंपनी ने कौशल विकास के लिए ऑटोमोबाईल्स में बेसिक टेक्निकल कोर्स (बीटीसी) भी शुरू किया है, जो संयंत्र में प्रवेश स्तर की नौकरी के लिए आवश्यक कौशल प्रदान करेगा। भारत में कंपनी का प्रवेश कोरिया, स्लोवाकिया, चीन, यूएसए और मैक्सिको में कंपनी के अन्य संयंत्रों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।भारत में प्रवेश करते हुए किया हर छ: से नौ महीनों में कारें लॉन्च करके अपने पोर्टफोलियो का विस्तार करेगा। इसकी योजना में 2021 तक कम से कम 5 वाहन हैं। यह ब्रांड भविष्य की मोबिलिटी, डिज़ाईन, उत्पाद एवं क्षमता तथा विश्वस्तरीय वाहन मेंटेनेंस और रिपेयर सेवाओं पर केंद्रित है, ताकि देश में भारतीय ग्राहकों को कार के स्वामित्व का सर्वश्रेश्ठ अनुभव प्रदान करके मजबूत आधार विकसित किया जा सके।किया मोटर्स कॉर्पोरेशन ने 2008 से अपनी सेल्स दोगुनी से भी ज्यादा बढ़ा ली है। पिछले साल इसने 2.8 मिलियन कारें बेचीं। 2025 तक 16 इलेक्ट्रिक वाहन लॉन्च करने के किया मोटर्स कॉर्पोरेशन के ग्लोबल विजऩ तथा आने वाली पीढिय़ों के लिए पृथ्वी को हराभरा एवं स्वच्छ रखने के लिए किया मोटर्स इंडिया अपने अनंतपुर संयंत्र में हाईब्रिड एवं इलेक्ट्रिक वाहन निर्मित करने के लिए प्रतिबद्ध और आश्वस्त है। हाल ही में कंपनी ने आंध्रप्रदेश सरकार को नीरो मॉडल - हाइब्रिड, प्लग-इन हाइब्रिड एवं ईवी प्रदान करके ‘पार्टनरशिप फॉर फ्यूचर ईको मोबिलिटी’ पर सहयोग के लिए आंध्रप्रदेश के साथ एक समझौतापत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।किया के वाहन आज दुनिया में सर्वोच्च क्वालिटी के हैं। किया ने अमेरिका में बिकने वाले सभी अन्य ग्लोबल ऑटोमोबाईल ब्रांडों को पीछे छोड़ दिया है और जेडी पॉवर की इनीषियल क्वालिटी स्टडी में लगातार चार सालों तक सबसे ऊपर रहा है।

यह क्वालिटी बनाए रखने के लिए कंपनी भारत में घरेलू प्रतिभा को प्रशिक्षण और कौशल प्रदान करने पर केंद्रित है, ताकि ग्लोबल क्वालिटी से समझौता किए बिना उत्पादों में सर्वोच्च स्तर का लोकलाईज़ेशन किया जा सके।किया स्पोटर््स की ग्लोबल संरक्षक रही है और इसने विभिन्न ग्लोबल ईवेंट्स, जैसे फीफा वल्र्ड कप और ऑस्ट्रेलियन ओपन के साथ पार्टनरशिप कीहै। कंपनी देश में लाखों स्पोटर््सप्रेमियों को प्रोत्साहित कर इस विरासत को भारत ला रही है। किया के ऑफिशियल मैच बॉल कैरियर्स प्रोग्राम के द्वारा इंडियन नेशनल फुटबॉल टीम के कप्तान, सुनील छत्री ने वल्र्ड कप के दौरान पूरी दुनिया के 62 बच्चों के बीच दो बच्चों को भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना। जनवरी में ऑस्ट्रेलियन ओपन में ऑफिशियल बॉलकिड के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। बच्चों को अग्रणी टेनिस खिलाड़ी महेश भूपति मेंटर करेंगे और उन्हें तीन सप्ताह की पूर्णत: स्पॉन्सर्ड ट्रिप पर मेलबोर्न भेजा जाएगा। 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और व्यापार ख़बरें