ENGLISH HINDI Sunday, March 24, 2019
Follow us on
पंजाब

कैप्टन सरकार व्यापारियों के मुद्दे पर संवेदनशील नहीं: मित्तल

January 12, 2019 06:23 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी के ट्रेड और इंडस्ट्री विंग के राज्य प्रधान नीना मित्तल ने आज कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार की राज्य के व्यापारियों की मांगों और उनके मुद्दों को अनदेखा करने की निंदा करते आरोप लगाया कि मौजूदा कांग्रेस सरकार ने पिछली अकाली सरकार की तरह ही छोटे और मध्य वर्गीय व्यापारियों को लूटने का कार्य किया है।
चण्डीगढ़ में ट्रेड और इंडस्ट्री विंग की राज्य स्तरीय मीटिंग को संबोधन करने के उपरांत नीना मित्तल ने कहा कि राज्य के लोग इस समय देश भर से सबसे महंगी बिजली की दरों का भुगतान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार बनने से पहले राज्य के लोगों को सस्ती बिजली देने के वायदे करने वाले कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अपने 2 साल के कार्यकाल के दौरान ही बिजली के रेट 2 बार बढ़ाए हैं।
दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल की सरकार द्वारा आम लोगों और व्यापारियों को देश भर में से सबसे सस्ते रेट पर बिजली उपलब्ध करवाने पर बोलते नीना मित्तल ने कहा कि पंजाब सरकार को भी दिल्ली माडल लागू कर 10 रुपए की बजाए 1 रुपए प्रति यूनिट बिजली मुहैया करवाए।
राज्य के वित्त मंत्री और कांग्रेस के मैनीफैस्टो कमेटी के प्रधान मनप्रीत सिंह बादल पर बरसते मित्तल ने कहा कि उन्होंने चुनाव से पहले वायदा किया था कि सरकार बनने के बाद राज्य के व्यापारियों को 5 रुपए प्रति यूनिट बिजली दी जायेगी परंतु कांग्रेस सरकार बनने के बाद व्यापारियों को सीधे और असिद्धे तौर पर टैक्स लगा कर 10 रुपए प्रति यूनिट बिजली दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मनप्रीत बादल का वायदा भी चुनावी जुमला ही साबित हुआ है। मित्तल ने कहा कि बिजली की ऊंची दरों और अनेकों टैक्सों के कारण राज्य भर में से भारी संख्या में छोटे और दर्मियाने उद्योग दूसरे राज्यों में चले गए हैं।
मित्तल ने कहा कि न तो पिछली अकाली सरकार और न ही मौजूदा कैप्टन सरकार राज्य के व्यापारियों के मुद्दों के प्रति गंभीर है। उन्होंने दोष लगाया कि दोनों सरकारों ने ही व्यापारियों के मुद्दे पर चूप्पी साधे हुए है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी राज्य के व्यापारियों के मुद्दों को विधान सभा के अंदर और बाहर उठाती रहेगी।
इस मौके ट्रेड विंग के राज्य सह प्रधान अनिल ठाकुर ने कहा कि राज्य की कैप्टन सरकार ने व्यापारियों के साथ 600 करोड़ रुपए का वैट और जीएसटी वापस करने का वायदा पूरा न कर जनता के साथ धोखा किया है। उन्होंने कहा कि पहले ही मंदी की मार बर्दाश्त कर रहे राज्य के व्यापारियों को उनके बनते हक न देना से राज्य के बचे व्यापार का सफाया करना है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी पहाड़ी राज्यों को केंद्र सरकार की तरफ से दी गई रियायतों के कारण राज्य का व्यापार उन राज्यों में चला गया है। केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल की निंदा करते ठाकुर ने कहा कि वह सत्ता में रहते हुए भी सूबे में कोई भी फूड प्रासैसिंग लाने में नाकामयाब साबित हुए हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें