ENGLISH HINDI Wednesday, April 24, 2019
Follow us on
हरियाणा

पत्रकार छत्रपति कत्ल मामलें में सजा का ऐलान 17 जनवरी को, ज़ीरकपुर में अलर्ट

January 16, 2019 08:14 PM
ज़ीरकपुर,जेएस कलेर

अब शहर में बगैर चैकिंग के कोई भी बाहरी व्यक्ति दाख़िल नहीं हो सकता
एसएसपी मोहाली कुलदीप चहल के निर्देशों पर शहर की सुरक्षा में एक अतिरिक्त बटालियल तैनात की गई है जिस में रैपिड एक्शन फोर्स भी शामिल है। पुलिस आधिकारियों ने बताया कि किसी भी हालत में शहर का माहौल ख़राब नहीं होने दिया जायेगा। यदि ज़रूरत पड़ी तो पुलिस के जवान सख़्ती के साथ भी पेश आऐंगे। ज़ीरकपुर और ढकोली थाना क्षेत्र की पुलिस ने हर तैयारी पूरी कर ली है। पुलिस आधिकारियों ने बताया कि पेशी के मद्देनज़र शहर में सुरक्षा व्यवस्था सख़्त कर दी गई है। शहर और बाहर से आने वाली गाड़ियों को बगैर चैकिंग के एंटर नहीं होने दिया जायेगा। पुलिस जवानों को निर्देश दिया गया है कि यदि गश्त दौरान उन्हें कुछ भी संदिग्ध दिखे तो इसकी सूचना सीनियर आधिकारियों को दी जाये।

सिरसा डेरे के कार्यकर्ताओं की तरफ से ‘पूरा सच्च’ अख़बार के संपादक रामचंद्र छत्रपति का उसके घर गोलियाँ मार कर कत्ल कर दिया था। पत्रकार रामचंद्र छत्रपति कत्ल केस में गुरमीत राम रहीम पर फ़ैसला आने से पहले ज़ीरकपुर और पंचकुला में सुरक्षा बढ़ दी गई है। दोनों शहरों में पुलिस प्रशासन ने चौकसी बडा दी है।
ज़ीरकपुर के साथ लगते पंचकुला में केस की सुनवाई होने के कारण, दोनो शहर संवेदनशील माने जा रहे हैं। इस मामलें में कल 17 जनवरी को सज़ा का ऐलान होगा। सुनारिया जेल से वीडियो कानफ्रैंसिंग के ज़रिये राम रहीम की पेशी होनी है। सजा के ऐलान को ध्यान में रखते एसएसपी मोहाली कुलदीप चहल के निर्देशों पर पुलिस की ओर से ज़ीरकपुर शहर को सील कर दिया गया है और हर एक संदिग्ध गतिविधि और बाज़ आँख रखी जा रही है।
अब शहर में बगैर चैकिंग के कोई भी बाहरी व्यक्ति दाख़िल नहीं हो सकता
एसएसपी मोहाली कुलदीप चहल के निर्देशों पर शहर की सुरक्षा में एक अतिरिक्त बटालियल तैनात की गई है जिस में रैपिड एक्शन फोर्स भी शामिल है। पुलिस आधिकारियों ने बताया कि किसी भी हालत में शहर का माहौल ख़राब नहीं होने दिया जायेगा। यदि ज़रूरत पड़ी तो पुलिस के जवान सख़्ती के साथ भी पेश आऐंगे। ज़ीरकपुर और ढकोली थाना क्षेत्र की पुलिस ने हर तैयारी पूरी कर ली है। पुलिस आधिकारियों ने बताया कि पेशी के मद्देनज़र शहर में सुरक्षा व्यवस्था सख़्त कर दी गई है। शहर और बाहर से आने वाली गाड़ियों को बगैर चैकिंग के एंटर नहीं होने दिया जायेगा। पुलिस जवानों को निर्देश दिया गया है कि यदि गश्त दौरान उन्हें कुछ भी संदिग्ध दिखे तो इसकी सूचना सीनियर आधिकारियों को दी जाये।
ज़िक्रयोग्य है कि अगस्त 2017 में गुरमीत राम रहीम को बलातकार मामलें में दोषी ऐलाने जाने के बाद पंचकुला में डेरा प्रेमियों ने काफ़ी हिंसा की थी, जिस को फ़ौज ने ही शांत किया था। फ़ौजी कार्यवाही में 130 से अधिक डेरा प्रेमियों की मौत हो गई थी। सूत्रों से प्राप्त जानकारी मुताबिक इस बार हरियाणा पुलिस ने अब तक फ़ौजी मदद नहीं ली है और न ही पैरा मिलिट्री फोर्स की कोई भी कंपनी हरियाणा में तैनात की गई, वहीं एसएसपी कुलदीप चहल की अगवाई में  ज़ीरकपुर शहर अंदर पंजाब पुलिस ने अपनी ड्यूटी सख़्ती के साथ निभाते हुए कोई भी अप्रिय घटना नहीं घटने दी थी। जबकि लाखों की तदात में पंचकुला पहुँचे डेरा प्रेमियों का वापस जाने का मुख्य रास्ता ज़ीरकपुर से होकर ही गुज़रता था और उन्हें वापस जाने में दो दिन लग गए थे।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें