ENGLISH HINDI Saturday, February 23, 2019
Follow us on
पंजाब

लो छोड़ दी सुरा मैंने: भगवंत मान

January 21, 2019 10:54 AM

बरनाला, फेस2न्यूज:

'मैंने पंजाब की खातिर आज से ही सदा के लिए शराब छोड़ी दी है, मैं अपनी मां के समक्ष वायदा करत हूं कि आज से तन, मन, धन व 24 घंटे पंजाब की सेवा में रहूंगा'
आम आदमी पार्टी द्वारा बरनाला में आयोजित की गई रैली दौरान पार्टी नेता और मैंबर पार्लियामेंट भगवंत मान ने लोगों के इक्कट्ठ में जब यह ऐलान किया तो इंकलाब जिंदाबाद के नारे से सारी फिजा गूंज उठी।
आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कनवीनर और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, उप-मुख्य मंत्री मनीष सिसोदिया, पूर्व केंद्रीय मंत्री हरमोहन धवन समेत पंजाब की समूह लीडरशिप की उपस्थिति में भगवंत मान ने भावुक अंदाज में कहा, ''मैं बादलों, कांग्रेसियों और भाजपा वालों की आँखों में बहुत चुभता हूं। मेरे खिलाफ सभी इकठ्ठे होकर साजिशें रचते हैं, वह पुरानी वीडियो निकाल कर मुझे बदनाम करने की कोशिशें करते हैं कि भगवंत मान तो शराब पीता है। भगवंत मान ने स्वीकार किया कि वह कलाकार थे और कलाकारों की दुनिया में शराब वगैरा चलती रहती थी परन्तु मुझे हद से ज्यादा इस तरह बदनाम किया जाने लगा था। मैं इस बात में नहीं पडऩा चाहता कि इनको कोई पूछे कि आप नहीं पीते शराब, परन्तु अब जब मेरी मां ने टी.वी. पर इनको मेरी बदनामी करते सुना तो मेरी मां ने कहा कि पुत्र पंजाब के खातिर जहां तूं सब कुछ छोड़ चुका है तो दारू को भी छोड़ दे।'' मां के इन शब्दों को सुन कर मैने इरादा पक्का कर लिया और फैसला किया कि दारू (शराब) को सदा के लिए छोड़ता हूं। जिससे विरोधीयों के पास मुझे और मेरी पार्टी को बदनाम करने का कोई मौका न मिले। सो आज मैं आप सभी से वायदा करता हूं कि अब पंजाब और पंजाब के लोग ही मेरी शराब हैं'' इतना सुनते ही एक बार फिर से पंडाल में जिंदाबाद के नारे से आसमान गूंज उठा।
भगवंत मान ने अपने अंदाज में कहा कि जब सुबह का भूला शाम को घर वापिस आ जाए तो उसे भूला नहीं कहते, परंतू मैंने तो शाम ही नहीं होने दी दोपहर को ही वापिस आ गया हूं।
भगवंत मान ने सुखबीर सिंह बादल को पंजाब का सबसे बड़ा दोषी और दरिन्दा करार देते कहा कि सुखबीर सिंह बादल, कैप्टन अमरिन्दर सिंह और भाजपा के बड़े नेताओं ने दिल्ली में बैठ कर मेरे और आम आदमी पार्टी के खिलाफ साजिशें रची और फैसला लिया कि प्रकाश सिंह बादल को लम्बी से और सुखबीर सिंह बादल को जलालाबाद से किसी भी कीमत पर 2017 का चुनाव नहीं हारने देंगे। इस साजिश के अंतर्गत ही कैप्टन अमरिन्दर सिंह को लम्बी और कांग्रेसी संसद मैंबर रवनीत सिंह बिट्टू को मेरे (मान) खिलाफ जलालाबाद से कांग्रेस का उम्मीदवार बनाया और मुझे मिल कर हराया।   

मैंने पंजाब की खातिर सदा के लिए छोड़ी शराब -मान


भगवंत मान ने कहा कि मैं (मान) कभी भी मैं और निजी स्वार्थ वाली राजनीति नहीं करता। यदि मैं सचमुच राजनीतिज्ञों जैसा होता तो जलालाबाद सुखबीर सिंह बादल के खिलाफ लडऩे की बजाए किसी भी सुरक्षित सीट पर चुनाव लड़ सकता था, परंतु मैं तो भमक्कड़ हूं और मेरा निशाना एक बड़ा बल्ब (सुखबीर बादल) को फ्यूज कर उसे पंजाब की सत्ता से बाहर करना था और मैंने बादलों को सत्ता से बाहर कर दिया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें