ENGLISH HINDI Monday, December 09, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द स्काई मेंशन मैं पहुंचे करण औजला , लोगों का किया मनोरंजनसीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सिंगला की बर्खास्तगी को लेकर राज्यपाल को मिलेगा ‘आप’ का प्रतिनिधिमंडल - हरपाल सिंह चीमाअंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजीअविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्तहिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 9 दिसम्बर से तपोवन धर्मशाला में: डॉ राजीव बिंदलधर्मशाला में 10 दिसम्बर को लगेगा रक्तदान शिविरबिक्रम ठाकुर ने कलोहा में बाँटे 550 गैस कनेक्शन, कलोहा पंचायत में 35 सोलर लाईट और व्यायामशाला की घोषणा
हरियाणा

31 से ज्यादा देश ले रहे है अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेले में हिस्सा

February 01, 2019 06:53 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
33वां अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेला थीम राज्य महाराष्ट्र तथा मेजबान राज्य हरियाणा के माटी व खून के रिश्ते को उस समय और अधिक मजबूत कर गया जब पानीपत की तीसरी लड़ाई के मराठा वीरों की याद में हरियाणा सरकार द्वारा पानीपत काला आंब में बनाए जा रहे युद्ध स्मारक के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडऩवीस ने तीन करोड़ रुपये देने की घोषणा की। वहीं, हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पानीपत में जीटी रोड पर चार एकड़ में मराठों की वीरता का इतिहास लाईट एंड साउंड के माध्यम से दर्शाने के लिए एक विशेष स्मारक विकसित करने की घोषणा की। इसका उद्देश्य दोनों प्रदेशों को ऐतिहासिक व सांस्कृतिक रूप से और अधिक नजदीक लाना है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पानीपत के आठ एकड़ में स्थित काला आंब मराठा युद्ध स्मारक स्थल का विस्तार कर अब 20 एकड़ में करने की घोषणा भी की।
ये घोषणाएं आज दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने 33वें अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेले के उद्घाटन करने उपरांत अपने-अपने संबोधनों में की। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडऩवीस ने कहा कि हरियाणा और महाराष्ट्र का माटी और खून का रिश्ता है। यहां महाराष्ट्र के एक लाख से अधिक वीर मराठाओं ने पानीपत की तीसरी लड़ाई में देश को आक्रांताओं से मुक्ति के लिए अपना खून बहाया था। आज लाखों मराठा हरियाणा की धरती को अपनी मातृभूमि बनाकर यहां रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर इस लड़ाई में मराठाओं की जीत होती तो देश पर अंग्रेजों का राज नहीं होता और बहुत पहले ही भारत स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपनी पहचान बना चुका होगा। उन्होंने कहा कि दोनों प्रदेशों के सास्कृतिक संबंध और अधिक मजबूत हों इसके लिए महाष्ट्र्र सरकार जितना भी हो सकेगा अपना योगदान देगी। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि अगले वर्ष के सूरजकुंड मेले में आने वाले आगंतुक यहां के साथ-साथ पानीपत का भी दौरा करें और अपने महान इतिहास के बारे में जानकारी लें।
श्री फडऩवीस ने सूरजकुंड मेले में महाराष्ट्र को थीम स्टेट चुनने पर हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल व पर्यटन मंत्री श्री रामबिलास शर्मा का विशेष आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है। मैं खुद पिछले कई वर्षों से सूरजकूंड मेले में आने की सोच रहा था अब मुझे न्यौता मिला तो मौका मिलने पर मैं अपने आपको गौरान्वित महसूस कर रहा हैं। उन्होंने कहा कि आज हमने यहां स्मारक के तौर पर छत्रपति शिवाजी महाराज की राजधानी रायगढ़ के किले की प्रतिकृति यहां पर स्थापित की है। यह महाराष्ट्र के उस 14 साल के वीर शिवाजी की स्वराज के लिए ली गई शपथ का स्मारक है जिसने मां भवानी की शपथ लेकर देश को आक्रांताओं से मुक्त करने के लिए देश को प्रेरित किया था।
सूरजकुंड मेले में स्थिति देश व विदेशों के आगंतुकों एवं विशिष्ठ व्यक्तियों को महाराष्ट्र में पर्यटन के लिए आने का निमंत्रण देते हुए उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में पर्यटकों के लिए बहुत कुछ है। वहां एजेंता एलोरा हैं तो एक ओर 750 किलोमीटर लंबा समुद्री तट है। इसके साथ ही पूरे विश्व में पहचान दिलाने वाले बालीवुड भी है। उन्होंने कहा कि हम महाराष्ट्र में रामायण महोत्सव की शुरूआत भी करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यही रामायण थाईलैंड, इंडोनेशिया, कंबोडिया सहित कई देशों में लोगों की जीवनशैली में शामिल है। इस महोत्सव के जरिए भी हम अपनी इसी प्राचीन जीवनशैली को भावी पीढिय़ों के लिए आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने हरियाणा के पर्यटन मंत्री रामबिलास शर्मा के आग्रह पर बाजीराव मस्तानी फिल्म के सितारों रणबीर कपूर व दीपिका पादुकोण को सूरजकुंड मेले में आने का निमंत्रण देने का वायदा भी किया।
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सभी देश विदेश के पर्यटकों का 33वें सूरजकुंड मेले में स्वागत करते हुए कहा कि हमारी सरकार आने के बाद यह पांचवां सूरजकुंड मेला है और हम इस मेले को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के एक भारत श्रेष्ठ के सपने को साकार करते हुए आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के मेलों से देश की एकता व अखंडता मजबूत होती है। इस मेले में 31 से ज्यादा देश हिस्सा ले रहे हैं और हम इसके लिए और अन्य देशों को भी निमंत्रण दे रहे हैं। हम वासुधैव कुटंबकम की भावना पर चलते हुए पूरे विश्व को एक मानते हैं। विश्व का संघर्ष मानवता के लिए खतरा है और इस तरह के सांस्कृतिक आयोजनों के जरिए हम विश्व में एकता व भाईचारे का संदेश पहुंचा सकते हैं।


श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार ने अखिल भारतीय सांस्कृतिक कला परिषद नई दिल्ली के साथ समझौता किया है जिसके हमारे कलाकार भी दूसरे देशों में अपनी सांस्कृतिक विरासत को पहुंचाने के लिए आगे बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा पर्यटन के क्षेत्र में दिनो दिन तरक्की कर रहा है। कृष्णा सर्किट से हमने कुरुक्षेत्र के आस-पास के 48 कोस क्षेत्रों को जोड़ा है। इसके अलावा, महेंद्रगढ़ किला व माधोगढ़ किला को भी कृष्णा सर्किट से जोड़़ा गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा ऐसी धरती है यहां पर शास्त्र और शस्त्र का ज्ञान एक ही स्थान पर महाभारत यूद्ध के समय भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को दिया था। अब हम इसी की पहचान गीता जयंती के माध्यम से पूरे विश्व तक पहुंचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा व महाराष्ट्र वीरों की भूमि है। पश्चिम की तरफ से आने वाले आक्रांताओं को सबसे पहले संयुक्त पंजाब के समय हरियाणा व पंजाब के युवाओं ने रोका और महाराष्ट्र के लोगों ने पानीपत के मैदान में उनसे लोहा लिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज भी हरियाणा के युवाओं में देशभक्ति का जज्बा है और जब भी सेना की भर्ती होती है तो युवा बड़ी संख्या में आगे आते हैं। देश की आबादी में दो प्रतिशत तथा भौगालिक दृष्टि से 1.6 प्रतिशत प्रतिनिधित्व होने के बावजूद भी देश की सेनाओं में हरियाणा की सेनाओं का 10 प्रतिशत प्रतिनिधित्व है। उन्होंने कहा कि हरियाणा वीरों के साथ-साथ खिलाडिय़ों की धरती भी है और मैं जय जवान-जय किसान के साथ-साथ जय पहलवान हरियाणा के युवाओं के लिए कहता हूं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के खिलाडिय़ों ने देश के 66 पदकों में से 22 पदक लिए और इसी प्रकाश एशियाड़ में 17 मैडल हासिल किए। उन्होंने कहा कि हरियाणा की खेल नीति सराहनीय है और खिलाडिय़ों के लिए आर्थिक मदद के साथ-साथ सरकारी नौकरी का प्रावधान भी किया है।
हरियाणा की प्राचीन संस्कृति की पहचान सरस्वती को लेकर उन्होंने कहा कि इसको लेकर हमने सरस्वती हैरिटेज बोर्ड का गठन किया है और आदीबद्री को एक पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित किया जा रहा है। उपग्रह से प्राप्त जलप्रवाह के चित्रों के आधार पर नदी के जलप्रवाह को पुर्नजीवित करने के लिए ओएनजीसी के साथ गहरे ट्यूबवेल लगाने के लिए समझौते किए गए हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा में कालका से कलेसर तक पर्यटन की आपार संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र को हम पर्यटन की दृष्टि से विकसित कर रहे हैं। मोरनी में 50 हजार एकड़ में विश्वस्तरीय हर्बल फोरेस्ट विकसित कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षों में हम जातिवाद से उपर उठकर हरियाणा एक हरियाणवी एक की भावना से कार्य कर रहे हैं और जिसका एक-एक कर जनता समर्थन दे रही है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजी जनगणना कार्य पहली मई 2020 से 15 जून 2020 तक पेंशन स्कीमों को पूर्ण रूप से आन-लाइन किया जाएगा 90 लॉ ऑफिसरों की भर्ती के लिए अधिसूचना जारी गुरु नानक देव को समर्पित प्रदर्शनी का लोकार्पण किया राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने पुलिस उच्चाधिकारियों को क्षेत्र में प्रतिदिन जनता दरबार लगा कर समस्याएं सुनने के आदेश पिंजौर में 78 एकड़ में बनने वाली आधुनिक सेब मंडी हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के सेब किसानों को भी लाभ पहुंचेगा: दलाल हरियाणा पुलिस का नशे के खिलाफ सख्त अभियान, 10 लाख रुपये कीमत की 9.100 किलोग्राम गांजापती बरामद सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के तीन उप-निदेशकों को संयुक्त निदेशकों के पदों पर पदोन्नति के आदेश पुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज