ENGLISH HINDI Friday, February 22, 2019
Follow us on
धर्म

क्रोध किसी में प्रवेश हो जाए तब सामने से हट जाएं

February 07, 2019 04:43 PM

गिद्दड़बाहा, (शक्ति जिंदल)
प्रजापिता ब्रहमाकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय माऊंट आबू के गिद्दड़बाहा तिलक नगर स्थित ब्रहमाकुमारी आश्रम में वीरवार को धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान ब्रहमाकुमारी बहन शीला ने अपने प्रवचनों में क्रोध पर काबू रखने की विधी बताई। ब्रहमाकुमारी बहन शीला की ओर से क्रोध को मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु बताया गया। इस अवसर पर उपस्थित श्रद्वालुओं के लिए आश्रम की ओर से ब्रहमाभोज का भी आयोजन किया। जिसमें रिटायर बैंक कर्मी प्रशोतम गर्ग की ओर से खास सहयोग दिया गया।
बहन शीला जी ने कहा कि काम जैसे महाशत्रु है, वैसे ही क्रोध भी मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है। उन्होंने कहा कि क्रोध में वशीभूत होकर मनुष्य इस कद्र अंधा हो जाता है कि वह कत्ल तक कर बैठता है। आगे कहा कि वैसे तो काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार आदि सभी विकार ही मनुष्य के महाशत्रु कहलाए जाते है, मगर क्रोध रूपी भूत से सबको बचकर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिवबाबा भी कहते है कि जब क्रोध रूपी भूत किसी में प्रवेश हो जाए तो उसके सामने से हट जाना चाहिए ताकि वह भूत कहीं आप में प्रवेश ना कर जाए। इस मौके पर एडवोकेट लवलीश गोयल, एडवोकेट देवेन्द्र मोंगा,प्रशोतम गर्ग,ब्रहमाकुमार महिद्रर सिंह,ब्रहमाकुमारी बहन रजनी,बहन सुखविद्रर कौर,कुलदीप बांसल,अशोक वर्मा,रामनिवास,मदन बीकानेरी,प्रेम बतरा,विजय मोंगा,शशि मुंजाल,सरला रानी,प्रकाश कौर,किरन,बिटु गुप्ता,पीके जैन,तिलक मितल,कशमीरी लाल जैन आदि मौजूद रहे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें