ENGLISH HINDI Wednesday, April 24, 2019
Follow us on
पंजाब

गैंगस्टर अंकित भादू के 2 साथियों को डेराबस्सी अदालत ने भेजा 10 दिन के रिमांड पर , कोई नहीं आया शव लेने

February 08, 2019 08:05 PM
जीरकपुर, जेएस कलेर
आज आईजी सामुदायिक पुलिसिंग रोपड़ रेंज वी नीरजा ने एएसपी हरमन हाँस के साथ पीरमुच्छल्ला में कुख्यात गैंगस्टर अंकित भादू के किए गए एनकाउंटर स्थल का दौरा किया। वहीं घटना के बाद क्षेत्र में लोगों डर का माहौल है। लोगों का कहना है कि पुलिस को सभी की वेरिफिकेशन करवानी चाहिए। वे लोग कल क्षेत्र में 1 घँटे के करीब चले ऑपरेशन चले एनकाउंटर में दोनों ओर से हुई फायरिंग दौरान लोग अपने घरों में दुबक कर रह गए थे। लोगों ने कहा कि अब उन्हें अपने बच्चों का भी डर ही लगा रहता है।
 
 
Kunwar Vijay Partap in a press conference
 
Vicky gounder
 
prem lahoria
 
hari cheema
 
 
 
 
वहीं 2017 कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद भले ही पंजाब से नशा खत्म करने में सरकार की सांसे फूल गई हों, पर इसमें कोई शक नहीं है कि सूबे में गैंगस्टरों पर नकेल कसने में सरकार को काफी हद तक कामयाबी हासिल हुई है।
गैंगस्टरों पर पुलिस के टैरर का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बीती शाम  जीरकपुर- पीरमुच्छल्ला में बिश्नोई गैंग के गुर्गे के छिपे होने की पंजाब पुलिस ऑर्गेनाइज्ड क्राइम से लड़ने के लिए बनाए गए विशेष दस्ते को एक इनामी गैंगस्टर को मारने व दो अन्यों को गिरफ्तार करने में कामयाबी मिली है।
काउंटर इंटेलिजेंस के एआईजी गुरमीत चौहान के दिशा निर्देशों पर पुलिस की एक विशेष टीम ने पिरमुछाला क्षेत्र के गोकुल होम्स के नजदीक महालक्ष्मी अपार्टमेंट नामक बिल्डिंग की स्पेशल दस्ते द्वारा घेराबंदी कर ली गई थी। विशेष दस्ते को खबर मिली थी कि उक्त फ्लैट में लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप का इनामी  गैंगस्टर अंकित भादू, गिंदा काणा, जर्मनजीत रह रहे है। दोनों तरफ से 80 के करीब राउंड चलने के बाद अंकित भादू को पुलिस ने मार गिराया था गिंदा काणा और  जर्मनजीत को हिरासत में ले लिया था जिनका आज ढकोली सीएचसी में मेडिकल करवा डेराबसी कोर्ट में पेश किया गया जहाँ अदालत ने उन्हें 10 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया। अंकित भादू साल 2015 में फाजिल्का पुलिस ने भी गिरफ्तार किया था और कपूरथला जेल से जमानत के बाद फरार चला आ  रहा था। 
इस मुठभेड़ में श्री गंगानगर पुलिस की स्पेशल टीम भी शामिल थी। मोहाली के एसएसपी कुलदीप चाहल भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे थे  और पूरी सोसायटी को चारों तरफ से घेर लिया था। गैंगस्टरों की संख्या तीन थी और वे महालक्ष्मी अपार्टमेंट की दूसरी मंजिल पर किराये के फ्लैट में पिछले पांच महीने से छिपे हुए थे।  
भादू पर था एक लाख का ईनाम  
अंकित भादू पर एक लाख रुपये का ईनाम भी रखा गया था। राजस्थान के डीजीपी ने वीरवार को ही उस पर एक लाख रुपये ईनाम की घोषणा की थी। भादू राजस्थान के साथ-साथ पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा से भगौड़ा था। पुलिस ने सरेंडर करने को कहा तो कर दी फायरिंग जब पंजाब और राजस्थान पुलिस की स्पेशल टीम ने एन्काउंटर के लिए सोसायटी को चारों ओर से घेरा डाला तो गैंगस्टरों को इसकी भनक लग गई थी। पुलिस ने भादू को सरेंडर करने को भी कहा, परंतु उसने फायरिंग शुरू कर दी थी। 
जीरकपुर के पीरमुछल्ला स्थित महालक्ष्मी अपार्टमेंट में वीरवार शाम लगभग छह बजे लॉरेंस बिश्नोई गैंग के सदस्यों और मोहाली और श्री गंगानगर पुलिस की आर्गेनाइज्ड क्राइम यूनिट के बीच हुई मुठभेड़ में हिस्ट्री शीटर गैंगस्टर अंकित भादू (25) मारा गया था। वहीं, उसके दोनों साथियों गिंदा काणा और जर्मनजीत ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। एन्काउंटर में मोहाली पुलिस का एक एएसआइ भी घायल हुआ था। जिसे चंडीगढ़ के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इस मुठभेड़ में श्री गंगानगर पुलिस की स्पेशल टीम भी शामिल थी।
घटना के बाद मोहाली के एसएसपी कुलदीप चाहल भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुचे थे। भादू राजस्थान के साथ-साथ पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा से भगौड़ा था। जब पंजाब और राजस्थान पुलिस की स्पेशल टीम ने एन्काउंटर के लिए सोसायटी को चारों ओर से घेरा डाला तो गैंगस्टरों को इसकी भनक लग गई थी। पुलिस ने भादू को सरेंडर करने को भी कहा, परंतु उसने फायरिंग शुरू कर दी थी जिसमें अंकित भादू मारा गया था।  
छह साल की बच्ची को गन प्वाइंट पर बना लिया था बंधक 
फायरिंग के दौरान भादू ने दूसरी मंजिल से पहली मंजिल पर छलांग लगा दी और एक अन्य घर से निकली छह साल की बच्ची अक्षिता को गन प्वाइंट पर बंधक बना लिया था। क्रॉस फायरिंग के दौरान जब गैंगस्टर अंकित भादू को को गोली लगी तो उसके छर्रे अक्षिता के पैर पर लगे, जिससे बच्ची घायल हो गई थी जिसका इलाज सीएचसी ढकोली में इलाज चल रहा है। भादू शार्प शूटर था।भादू लॉरेंस बिश्नोई के संपर्क में राजस्थान जेल में आया था। वह लॉरेंस बिश्नोई के ईशारे पर सुपारी और लूटपाट की वारदातों को अंजाम देता था। नाभा जेल ब्रेक कांड में फरार हुए कुख्यात गैंगस्टर विक्की गौंडर ने फरार होने के बाद भादू के पास ही पनाह ली थी। हालांकि कुछ समय बाद गौंडर को राजस्थान और पंजाब बॉर्डर पर एक टिब्बी पर बने घर में एन्काउंटर के दौरान पुलिस ने मौत के घाट उतार दिया था। 
भादू पर पंजाब और राजस्थान में कई मामले दर्ज 
अंकित भादू के खिलाफ पंजाब के अलग-अलग जिलों में करीब एक दर्जन से ज्यादा और राजस्थान के अलग-अलग थानों में कुल 15 मामले दर्ज हैं। इनमें से अबोहर जिला के फाजिल्का में आइपीसी की धारा 382, 325, 395, व आ‌र्म्स एक्ट का मामला 27 जून 2015 को दर्ज हुआ था। इस मामले में उसे भगोड़ा करार दिया हुआ है। इसी थाने में ही भादू के खिलाफ 14 जुलाई 2015 में दो अलग-अलग मामले दर्ज हुए। एक मामले में भादू के वारेंट घोषित किया गया था, जबकि दूसरे मामले में उसे भगोड़ा करार दिया गया था। उसके बाद 10 अगस्त 2016 को सिटी फाजिल्का, 27 अप्रैल 2017 बहाववाला जिला फजिल्का, 12 जून 2017 को बहाववाला जिला फाजिल्का, 7 दिसंबर 2017 को लालगढ़ जटाना जिला श्री गंगानगर के अलावा अलग-अलग थानों में कई मामले दर्ज थे। 
ओकू सैल पंजाब के एआईजी गुरमीत चौहान ने बताया कि अंकित भादू बहादुरगढ़ में 6 फरवरी झज्जर रोड पर कुख्यात बदमाश अजय उर्फ डंका को  गोलियों मार कर मौत के घाट उतारने की घटना में शामिल रहा था। अजय जो हाल ही में जेल से बाहर आया था और शाम को बहादुरगढ़ की पार्षद रेखा के आफिस में कुछ लोगों के साथ पार्टी कर रहा था, जैसे ही वह नीचे आया तो वहां पर घात लगाए बैठे 3 बदमाशों ने जिनमें से एक अंकित भादू भी रहा था ने अजय पर 20 राउंड फायर किए थे। अजय पर भी  हत्या के 9 केस दर्ज हैं वहीं 20 के करीब अन्य केस हैं। 
कल किए गए महालक्ष्मी अपार्टमेंट में किए गए इनकाउंटर वाले फ्लैट से पुलिस को  छानबीन के दौरान  मौके से मिले 2 पिस्टल व 2 रिवाल्वर व 30 मिले है। यह फ्लैट किसी संजीव अरोड़ा नामक सक्ष का है उंसके हिरास्त में लिए गए जर्मनजीत ने किराए पर लिया था। ढकोली पुलिस थाने के मुताबिक संजीव अरोड़ा द्वारा जर्मनजीत को किराए पर दिया गए फ्लैट की पुलिस  वेरिफिकेशन करवाई गई थी। जर्मनजीत के खिलाफ कोई भी आपराधिक मामला दर्ज नहीं है। वहीं गिंदा काणा पर एक हत्या का मामला दर्ज है। 
गैंगस्टर अंकित भादू के 2 साथी अदालत में पेश, 10 दिन का पुलिस रिमांड मिला 
ओकु टीम व बलटाना थाना ने बीती शाम मारे गए गैंगस्टर अंकित भादू के दो साथियों गिंदा काणा व जर्मनजीत को डेराबस्सी की अदालत में पेश किया जहां उसे अदालत ने 10 दिन के पुलिस रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया है। यह दोनों ढकोली पुलिस थाने में एफआईआर नंबर 15 में नामजद है अब इनसे ओकु पूछताछ करेगी जिसमें अंकित भादू व लॉरेंस बिश्नोई गैंग के कई अन्य गुर्गों व रहस्य खुलने की उम्मीद है। 
पंजाब सरकार का  ऑप्शन सरेंडर या फिर एनकाउंटर 
कांग्रेस सरकार ने 2017 में सत्ता में आने के बाद फरमान जारी किया किया कि गैंगस्टर सरेंडर कर दें, या फिर पुलिस की कार्रवाई से निपटने को तैयार रहें। यही नहीं इस मुहिम के तहत पंजाब पुलिस ने गैंगस्टरों के परिजनों को भी घर जाकर समझाया भी था कि वह अपने बच्चों से कहें कि क्राइम की दुनिया छोड़ वे पुलिस या कोर्ट के पास सरेंडर कर दें। जिसके बाद कुछ गैंगस्टरों ने सरेंडर भी कर दिया और कुछ गैंगस्टर जिन्होंने सरकारी फरमान को नजर अंदाज किया वे एनकाउंटर में मारे भी गए।  
एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर... 
विक्की गौंडर...
राजस्थान के श्रीगंगानर जिले में पंजाब पुलिस ने 26 जनवरी 2018 को कुख्यात गैंगस्टर और नाभा जेल ब्रेक कांड के मास्टर माइंड विक्की गौंडर को ढेर कर दिया था । गौंडर के अलावा उसके दो साथी प्रेमा लाहौरिया और सुखप्रीत बुढ्डा भी एनकाउंटर में मारे गए थे। हरजिंदर सिंह भुल्लर उर्फ विकी गोंडर हाईवे डकैत के तौर पर जाना जाता था। 
मर्डर करने के बाद लाश के पास करता था भांगड़ा...
2016 में वह नाभा जेल से फरार हो गया था और पुलिस की पहुंच से बाहर था। नाभा जेल से विक्की गौंडर के साथ पांच अन्य कैदी भी भागे थे। विक्की गौंडर पर पंजाब पुलिस की ओर से 10 लाख का और प्रेम लाहौरिया  पर 5 लाख रुपए का इनाम था। कहा जाता है कि विक्की गौंडर एक शार्प शूटर था। किसी की हत्या करने के बाद वह लाश के पास भांगड़ा करता था। 
प्रेम लाहौरिया....
प्रेम लाहौरिया विक्की गौंडर का दोस्त था। दोनों ने वर्ष 2015 में जब कुख्यात गैंगस्टर सुक्खा काहलवां को उस वक्त गोलियों से भून डाला था जब उसे पेशी के अदालत ले जाया जा रहा था। राजस्थान के श्रीगंगानर जिले में पंजाब पुलिस ने 26 जनवरी 2018 को कुख्यात गैंगस्टर और नाभा जेल ब्रेक कांड के मास्टर माइंड विक्की गौंडर के साथ ही प्रेम लाहौरिया का एनकाउंटर कर  दिया गया था। 
गैंगस्टर हैरी चीमा...
पार्टी के बहाने फेसबुक फ्रैंड को बुलाकर उससे होटल के कमरे में रेप करने के आरोपी पंजाब के गैंगस्टर हैरी चीमा की आज गुरूवार पुलिस हिरासत में उपचार के दौरान मौत हो गई। जब पुलिस ने इस गैंगस्टर को घेरा तो इसने होटल की तीसरी मंजिल से छलांग लगा दी थी। अब एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टरों की लिस्ट में एक नया नाम जुड़ गया है अंकित भादू 
पुलिस हिरासत में... 
गुरप्रीत सिंह सेखों...
हाई सिक्योरिटी नाभा जेल ब्रेक के मास्टर माइंड गुरप्रीत सिंह सेखों तक पहुंचने के लिए उसकी दो पत्नियां पुलिस का सहारा बनीं थी। जेल ब्रेक के पूरे ढाई महीने बाद गिरफ्तार किए गए सेखों को उसके प्यार ने पुलिस तक पहुंचाने में काफी मदद की थी। पंजाब पुलिस ने सेखों को मोगा से 12 फरवरी 2017 को गिरफ्तार किया था। उस पर सात जघन्य मामले चल रहे हैं।
तीरथ सिंह ढिल्लवां...
गोंडर और जयपाल गैंग के तीसरे बड़े गैंगस्टर तीरथ सिंह ढिलवां को पंजाब पुलिस ने 3 मार्च 2018 को गिरफ्तार किया था। तीरथ सिंह से एक पिस्तौल और कुछ कारतूस भी बरामद हुए थे, पकड़ा गया तीरथ सिंह पिछले 6 सालों से वारदातें कर रहा था। वह पंजाब के ए केटेगरी का गैंग्स्टर है।तीरथ सिंह का सुखा काहलवां मर्डर केस में भी हाथ था। हिमाचल में रॉकी गैंगस्टर को मारने में भी इसका हाथ बताया जाता है। 
दिलप्रीत सिंह बाबा...
पंजाब फिल्म अभिनेता गिप्पी ग्रेवाल से फिरौती मांगने तथा लोक गायक परमीश वर्मा पर जानलेवा हमला करने के आरोपी गैंगस्टर दिलप्रीत सिंह बाबा को पंजाब तथा चंडीगढ़ पुलिस ने साझा ऑपरेशन के दौरान मुठभेड़ (क्रॉस फायरिंग) में चंडीगढ़ के सेक्टर-43 स्थित बस अड्डे से गिरफ्तार किया था, इस दौरान उसके पांव में गोली भी लग गई थी। वह मूलरूप से रोपड़ जिला के नूरपुर बेदी ब्लॉक के गांव ढाहां का रहने वाला था।  
कुलप्रीत सिंह नीटा दयोल...
गैंगस्टर कुलप्रीत सिंह नीटा दयोल नाभा जेल ब्रेक केस में फरार हो गया था। पंजाब पुलिस और मध्य प्रदेश पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में उसे 17 जनवरी 2017 को गिरफ्तार किया था।  कुलप्रीत सिंह नीटा दुर्दान्त अपराधी है जो पंजाब में बड़ी बड़ी आपराधिक गैंग को संचालित करता है तथा गुरप्रीत सिंह सैखन, हरबिन्दर सिंह उर्फ बिक्की, जयपाल सिंह एवं अन्य अपराधियों का सहयोगी है। वर्ष 2012 से संघटित अपराध जैसे अपहरण लूट डकैती वाहन छीनना आदि अपराधों में संलिप्त रहा है। 
रविचरण सिंह उर्फ रवि देओल...
राजस्थान के श्रीगंगानर जिले में पंजाब पुलिस ने 26 जनवरी 2018 को कुख्यात गैंगस्टर और नाभा जेल ब्रेक कांड के मास्टर माइंड विक्की गौंडर और प्रेम लाहौरिया के एनकाउंटर के बाद गैंगस्टर रवि देओल ने खौफ के मारे 30 जनवरी 2018 को संगरूर कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। वह बॉक्सर से पहले सिंगर बना था और बाद में क्राइम की राह पकड़ ली थी। 
गुरबक्ष सीवेवाला...
गैंगस्टर मुखी दविंदर बंबीहा का 11 सितंबर 2016 को बठिंडा के रामपुरा में पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया था। इसके बाद गुरबख्श सेवेवाला ने उसके गिरोह की कमान संभाल ली और सिम्मा बहबल और बुड्डा राउके से मिलकर फरीदकोट के व्यवसायियों से वसूली शुरू कर दी। गुरबख्श सेवेवाला को बठिंडा पुलिस ने नहर पुल के पास मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। सेवेवाला डबल मर्डर केस, कोटकपूरा गन हाउस डकैती समेत कई संगीन वारदातों को आरोपी है।
 सराज मिंटू... 
पंजाब में हिंदू संघर्ष सेना के जिला प्रधान विपन शर्मा की हत्या के आरोपी गैंगस्टर सराज सिंह मिंटू को काउंटर इंटेलिजेंस पुलिस ने 6 मार्च 2018 को गिरफ्तार किया था। साल 30 अक्तूबर 2017 को अमृतसर के भरत नगर इलाके में अमृतसर-बटाला रोड पर सराज मिंटू अपने साथियों के साथ विपन शर्मा (45) की उस समय गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। विपन जब भरत नगर इलाके में एक दोस्त की दुकान के बाहर खड़े थे। हमलावरों ने उन पर एक दर्जन गोलियां बरसाई थी।
जयपाल भुल्लर...
जयपाल भुल्लर उर्फ मनजीत, जिसने विक्की गौंडर व प्रेमा लाहौरिया की मौत के बाद गैंग की कमान संभाली है। जयपाल गौंडर का साथी रहा है और सुक्खा काहलवां हत्याकांड में शामिल रहा है। अब पंजाब पुलिस के सामने भुल्लर से निपटने की चुनौती है। 
सूत्रों के मुताबिक गैंग को संभालने के साथ भुल्लर अपने सभी साथियों को एकजुट करने की तैयारी में लग गया है। जयपाल गैंग में फरीदकोट निवासी तीर्थ सिंह ढिल्लवां, लुधियाना निवासी बिल्ला ख्वाजके, उत्तरप्रदेश का कुख्यात शूटर असलम हैं जो पुलिस की मोस्ट वांटेड लिस्ट में हैं। जयपाल पर 43 संगीन मामले दर्ज हैं। 

कोई नहीं आया शव लेने
डेराबस्सी अस्पताल में गैंगस्टर अंकित भादू के शव को कोई लेने नहीं आया, जिस कारण शुक्रवार को उसका पोस्टमार्टम भी नहीं किया जा सका. फाजिल्का जिला के अबोहर उपमंडल के गांव सरीहेवाला का मूल निवासी लारैंस बिशनोई के गिरोह में शामिल था और क्योकि वह भी भी अबोहर एरिया का को होने के चलते दोनों की आपस में अच्छी दोस्ती थी; डेराबसी के सरकारी अस्पताल में डैड बॉडी पिछले 24 घँटे से पड़ी है जिसे अभी तक उंसके वारिसों ने क्लेम नहीं किया है। सूत्रों से पता चला है कि अंकित के पिता शिवप्रकाश जो पेशे से किसान हैं और  अबोहर के गांव शेरेवाला के निवासी हैं जो वहाँ से चल पड़े हैं हो सकता है कि वे कल सुबह डेराबसी अस्पताल पहुच कर डैड बॉडी ले लें लेकिन अगर किसी परिवारिक सदस्य ने डैड बॉडी क्लेम नहीं कि तो पुलिस और प्रशासन के लिए उसका अंतिम संस्कार करवाना नई सिरदर्दी खड़ी होना स्वभाविक है। सूत्रों से पता चला है कि अंकित को दो गोलियां लगी हैं एक उसके पैर में व दूसरी उसके गुर्दे के नजदीक लगी है बाकी सब कुछ अब पोस्टमार्टम पर ही पता चलेगा। 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
छायादार, फलदार, कम पानी सोखने, औषधीय गुणों वाले पौधे लगाए जाएंगे प्रशासन ने वोट डालने हेतु किया प्रेरित बठिंडा और फिरोजपुर से कांग्रेसी उम्मीदवारों के चयन को लेकर उठाए सवाल जिले की मंडियों में शुरू करवाई गेहूं की खरीद सीवर लाईनों की सफ़ाई और डी-सिलटिंग टैंडर जारी करने को हरी झंडी 70 लाख से ज्यादा खर्च करने पर उम्मीदवार हो सकता है अयोग्य करार नया गांव में फर्जी प्रॉपर्टी डीलरों का लैंड माफिया ग्रुप कर रहा लोगों की ज़मीनों पर कब्ज़ा : विवेक हंस गरचा डूबने कारण 3 वर्षीय बच्ची की मौत डेराबस्सी विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के चारों दल लगा रहे एड़ी चोटी का जोर परनीत कौर को जिताने के लिए की मीटिंग