ENGLISH HINDI Monday, August 19, 2019
Follow us on
चंडीगढ़

रोगमुक्त जीवन के लिए प्रकृति एवं योग को अपनाना होगा: डा. राम गोपाल

February 11, 2019 09:27 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री

रोग मुक्त जीवन सभी चाहते है लेकिन वह दवाईयों से नहीं हो सकता। रोगमुक्त जीवन के लिए प्रकृति एवं योग को अपनाना होगा। गांधी स्मारक भवन सैक्टर 16 ए, में समग्र व्यक्ति विकास और बिना दवाईयों के शरीर का पूर्ण स्वास्थ्य विषय पर सेमीनार आयोजित किया गया। सेमीनार के मुख्य वक्ता प्रो. डा. राम गोपाल, विश्व विख्यात वैज्ञानिक तथा पूर्व राष्ट्रपति स्व. डा. ऐ.पी.जे. कलाम के सहयोगी ने स्वास्थ्य पर बोलते हुए यह विचार व्यक्त किये।

उन्होंने कहा कि भारत को विश्व गुरू हम प्रकृति और योग के द्वारा ही बना सकते है। सूर्य नमस्कार के 12 मंत्र हमारी 12 राशियों के आधार पर बनाये गये है। जिसको करने तथा बोलने से शरीर में ऊर्जा भर जाती है।

आज की सबसे अच्छी दवाई भविष्य में सबसे खराब दवाई सिद्ध हो रही है जैसे पेन्सिलन। विशिष्ट अतिथि के तौर पर डा. लीना, फोरमर प्रसिंपल सेक्रेटी, महाराष्ट्र सरकार ने बताया कि दूध दो प्रकार का होता है। दूध ए-1 विदेशी गायों का होता है। तथा ए-2 देशी भारतीय गायों का होता है। दूध ए-2 बहुत उपयोगी होता है।संचालन डा. देवराज त्यागी ने किया तथा आभार के.के. शारदा जी ने किया। सेमीनार में डा. एम.पी. डोगरा अध्यक्ष प्राकृतिक चिकित्सा समिति, डा.पूजा, डा.संदीप, डा.संजीव, रमेश बल, आनन्द राव, पापिया चक्रवर्ती, कंचन त्यागी, प्रज्ञा शारदा आदि लगभग 150 लोगों ने भाग लिया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
डॉ. रमेश कुमार सेन हिमाचल गौरव अवार्ड से सम्मानित जनता व पीएम योजनाओं के बीच सीढ़ी बनने का कार्य कर रहे हैं:राजमणि चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन ने किरण खेर के सामने उठाया डॉग मिनेस का मुददा बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर पहली बार किन्नरों ने भी राष्ट्रध्वज लहराया धारा 370 निरस्त करना देश की एकता अखंडता के लिए समय की मांग थी, सिर्फ अस्थाई प्रावधान था : उपराष्ट्रपति वार्षिक शोध-पत्रिका 'परिशोध' वर्ष 2019 का लोकार्पण विहिप चंडीगढ़ ने डिप्टी कमिश्नर को ज्ञापन सौंपा पर्यावरण पखवाड़े का समापन पर औषधीय पौधे लगाये एफसीआई स्टाफ महिलाओं ने ढोल की ढाप पर नाचते-गाते तीज मनाई