ENGLISH HINDI Wednesday, April 24, 2019
Follow us on
चंडीगढ़

रोगमुक्त जीवन के लिए प्रकृति एवं योग को अपनाना होगा: डा. राम गोपाल

February 11, 2019 09:27 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री

रोग मुक्त जीवन सभी चाहते है लेकिन वह दवाईयों से नहीं हो सकता। रोगमुक्त जीवन के लिए प्रकृति एवं योग को अपनाना होगा। गांधी स्मारक भवन सैक्टर 16 ए, में समग्र व्यक्ति विकास और बिना दवाईयों के शरीर का पूर्ण स्वास्थ्य विषय पर सेमीनार आयोजित किया गया। सेमीनार के मुख्य वक्ता प्रो. डा. राम गोपाल, विश्व विख्यात वैज्ञानिक तथा पूर्व राष्ट्रपति स्व. डा. ऐ.पी.जे. कलाम के सहयोगी ने स्वास्थ्य पर बोलते हुए यह विचार व्यक्त किये।

उन्होंने कहा कि भारत को विश्व गुरू हम प्रकृति और योग के द्वारा ही बना सकते है। सूर्य नमस्कार के 12 मंत्र हमारी 12 राशियों के आधार पर बनाये गये है। जिसको करने तथा बोलने से शरीर में ऊर्जा भर जाती है।

आज की सबसे अच्छी दवाई भविष्य में सबसे खराब दवाई सिद्ध हो रही है जैसे पेन्सिलन। विशिष्ट अतिथि के तौर पर डा. लीना, फोरमर प्रसिंपल सेक्रेटी, महाराष्ट्र सरकार ने बताया कि दूध दो प्रकार का होता है। दूध ए-1 विदेशी गायों का होता है। तथा ए-2 देशी भारतीय गायों का होता है। दूध ए-2 बहुत उपयोगी होता है।संचालन डा. देवराज त्यागी ने किया तथा आभार के.के. शारदा जी ने किया। सेमीनार में डा. एम.पी. डोगरा अध्यक्ष प्राकृतिक चिकित्सा समिति, डा.पूजा, डा.संदीप, डा.संजीव, रमेश बल, आनन्द राव, पापिया चक्रवर्ती, कंचन त्यागी, प्रज्ञा शारदा आदि लगभग 150 लोगों ने भाग लिया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
पंजाबी शहर की पहली होगी भाषा :कामरेड लश्कर सिंह एमएक्स प्लेयर ने अपने प्लेटफॉर्म पर चुनाव संबंधित प्रस्तावों को दिखाने के लिये नुक्कड़ नाटक पेश किया देव समाज कालेज में मनाया वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह विदेशी मरीजों के इलाज को ट्राईसिटी बने मेडिकल टूरिज्म हब: डा. महेश्वरी मानवता की सेवा जीवन जीने की खुशी देता है: संजय टंडन धूम धाम से मनाया गया ईस्टर सीपीआई (एमएल) ने विद्यार्थियों पर जबरन थोपे जा रहे हिंदी और इंग्लिश मीडियम का किया विरोध विश्व वैष्णव राज सभा के अन्तर्राष्ट्रीय वैष्णव सम्मेलन में देशी विदेशी संतों ने लिया हिस्सा चंडीगढ़ के फूड लवर्स के लिए खुला वसाबी रैमन सर्कस के कलाकारों ने लोगों को मतदान के लिए किया जागरूक