ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
विजिलेंस जांच के चलते कई अफसर नदारद, चौथे दिन भी हुई पूछताछ, हाईप्रेाफाइल मामले पर एआईजी ने कहा, जांच जारी पंजाब में गतका खेल गतिविधियों में और तेज़ी लाई जायेगी: लिबड़ाडॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस भाजपा ने श्रद्धांजलि दी डडू माजरा में जानवर जलाने के प्लांट के प्रस्ताव के विरोध में रोष प्रदर्शन, मेयर का पुतला जलायासीवरेज ओवरफ्लो की बदबू से लोग बेहाल, कोई सुनवाई नहींअवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लमजीजा के साथ बलटाना का युवक बुलेट पर काजा घूमने निकला पहाड़ से बोल्डर गिरा, दोनों की मौके पर मौतहाई—वे किनारे मनमर्जी की पार्किंग, हादसों को न्यौंता
हरियाणा

चुनाव से सीधे तौर पर जुड़े अधिकारी को वर्तमान पोस्टिंग वाले जिले में रहने की अनुमति नहीं

February 24, 2019 07:21 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
भारत निर्वाचन आयोग ने निर्देश दिए हैं कि चुनाव से सीधे तौर पर जुड़े ऐसे किसी भी अधिकारी को वर्तमान पोस्टिंग वाले जिले में रहने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जो अपने गृह जिले में तैनात है, यदि उसने पिछले चार वर्षों के दौरान उस जिले में तीन साल पूरे कर लिए हैं या 31 मई, 2019 को या उससे पहले 3 साल पूरे कर रहा है।
हरियाणा के संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ० इन्द्र जीत ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आयोग ने 25 फरवरी, 2019 तक अनुपालन रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।
इन निर्देशों के तहत डीईओ, डिप्टी डीईओ, आरओ/एआरओ, ईआरओ/एईआरओ जैसे विशिष्ट चुनाव डयूटी के लिए नियुक्त अधिकारी, किसी भी विशिष्ट चुनाव कार्य के नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त अधिकारी ही नहीं बल्कि एडीएम, एसडीएम, डिप्टी कलैक्टर/ ज्वाइंट कलैक्टर, तहसीलदार, खंड विकास अधिकारी या प्रत्यक्ष रूप से चुनाव कार्यों के लिए तैनात समान पद के अन्य अधिकारी भी शामिल होंगे।
ये निर्देश पुलिस विभाग के अधिकारियों जैसे कि-रेंज आईजी, डीआईजी, राज्य सशस्त्र पुलिस कमांडेंट, वरिष्ट पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, पुलिस के उप-मंडल प्रमुख, एसएचओ, निरीक्षक, उप-निरीक्षक, आरआई/सार्जेंट मेजर या समकक्ष रैंक के उन अधिकारियों पर भी लागू होंगे, जो जिले में सुरक्षा व्यवस्था या चुनाव के समय पुलिस बलों की तैनाती के लिए जिम्मेदार हैं।
हालांकि, यह स्थानांतरण नीति आमतौर पर डॉक्टर, इंजीनियर, अध्यापक प्रिंसिपल जैसे उन अधिकारियों/ कर्मचारियों पर लागू नहीं होगी जो प्रत्यक्ष रूप से चुनावों से जुड़े हुए नहीं हैं।
डॉ० इन्द्र जीत ने बताया कि निर्देश दिए गए हैं कि जिन अधिकारियों/कर्मचारियों के खिलाफ आयोग द्वारा विगत में अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की गई थी और जो लम्बित है या जिसके परिणामस्वरूप उसे जुर्माना हुआ है या जिन अधिकारियों पर विगत में किसी भी चुनाव या चुनाव सम्बंधी कार्य में किसी चूक का आरोप लगाया गया है, को चुनाव सम्बंधी कोई भी ड्यूटी नहीं सौंपी जाएगी।
आयोग ने चाहा है कि ऐसे किसी भी अधिकारी या कर्मचारी, जिसके विरुद्ध न्यायालय में कोई आपराधिक मामला लंबित है, को चुनाव सम्बंधी ड्यूटी पर तैनात न किया जाए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें
भर्ती रैलियों के लिए सेना अधिकारियों को सहयोग देने के लिए उपायुक्तों को निर्देश हरियाणा मुक्त विद्यालय अंक सुधार परीक्षा के लिए 24 जून से आवेदन आनलाइन प्रशिक्षण ले रहे 22 आईपीएस अधिकारियों ने की हरियाणा पुलिस महानिदेशक से मुलाकात गलत ताले की चाबी लिए घूम रहे हैं दुष्यंत: विज ट्रैफिक यूनिट को 25 नई मोटर साईकिलें दी होन्डा कम्पनी ने विमान दुर्घटना में शहीद हुए हरियाणा के लेफ्टिनेंट पायलट आशीष तंवर के परिजनों को मुख्यमंत्री ने बंधाया ढांढस सेना में भर्ती 20 से 30 अगस्त तक तेजली खेल परिसर यमुनानगर में नवजात शिशु की मेडीकल केयर देश में अभी भी चिंताजनक: डा. भकू दौलतपुरिया का त्याग पत्र स्वीकार, फतेहाबाद विधानसभा सीट हुई रिक्त जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के दो कर्मी को पदोन्नत