ENGLISH HINDI Friday, April 03, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना सेनेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजाकोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिकराष्ट्रपति करेंगे राज्यपालों, लेफ्टिनेंट गवर्नरों एवं राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश प्रशासकों के साथ कोविड-19 पर चर्चादेश के 410 जिलों में कराया गया राष्‍ट्रीय कोरोना सर्वेक्षण जारीलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटालॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत
पंजाब

चंडीगढ़ एयरबेस को रखा गया अलर्ट पर, सुरक्षा बढ़ाई

February 26, 2019 08:21 PM

*-जीरकपुर क्षेत्र में वायुसेना के जहाजों की अधिक उड़ाने रही चर्चा का विषय *बाउंड्री वाल के 100 मीटर क्षेत्र में बने निर्माण बने एयरफोर्स स्टेशन के लिए खतरा

जीरकपुर
 , जेएस कलेर
इंडियन एयरफोर्स ने पुलवामा हमले के बाद 13 दिनों बाद एलओसी के अंदर जाकर आतंकियों के कैंपों को तबाह कर बदला ले लिया है। उसे लेकर चंडीगढ़ एयरबेस सहित उत्तर भारत के महत्वपूर्ण इलाकों को अलर्ट पर रखा गया है। 
एयर कमोडोर एस.श्रीनिवासन ने कहा कि चंडीगढ़ स्टेशन हाई अलर्ट पर है। यहां पर फ्यूल समेत सारी तैयारियां की गईं हैं। उन्होंने कहा कि हम पूरी तरह से सावधानी बरत रहे हैं। 
 
 
उन्होंने कहा कि सारे तरह के प्रीकॉशन लिए जा रहे हैं। एयर डिफेंस व ग्राउंड डिफेंस को लेकर अलर्ट जारी है।भारतीय हमले के बाद पंजाब ,चंडीगढ़ समेत सीमावर्ती क्षेत्रों के एयरबेसों को अलर्ट पर रखा गया है।एयरफोर्स स्टेशन की सुरक्षा बढाने के साथ मुस्तैदी के निर्देश दिए गए हैं। एयरफोर्स स्टेशन की हवाई सुरक्षा भी कड़ी की गई है वहीं संदिग्धों पर भी पैनी नजर रखी जा रही है। वहीँ एयरफोर्स स्टेशनों के बाहर आर्मी इंटेलीजेंस को भी अलर्ट कर दिया गया है। आज की कार्रवाई के बाद चंडीगढ़ एयरफोर्स हवाई अड्डे से औसत से ज्यादा फौजी विमानों जिनमें आई.एल 76 गजराज व हैलीकॉप्टरस की उड़ाने अधिक रही। इन अधिक उड़ानों को लेकर एक तरफ जहाँ जीरकपुर क्षेत्र के लोगों में जिज्ञासा बढ़ी रहीं तो वहीं लोगों में सारा दिन वायुसेना द्वारा पाकिस्तान में घुस कर किया गया हमला चर्चा का विषय रहा।
 
एयरफोर्स के बेस कैंप की सिक्योरिटी बढ़ाई...  
मोहाली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट और जीरकपुर के आस पास स्थित मिलिट्री व एयरफोर्स के बेस कैंप की सिक्योरिटी बढ़ा दी गई है।  
100 मीटर क्षेत्र में बने निर्माण एयरफोर्स स्टेशन के लिए खतरा 
चंडीगढ़ एयरफोर्स बाऊंडरी से 100 मीटर तक सैनिक व नागरिक सुरक्षा के मध्यनजर निर्माण पर रोक के बावजूद बाऊंडरी के नजदीक पिछले 10 वर्षो में बेरोकटोक निर्माण किए गए हैं। जगतपुरा में तो हाईकोर्ट की डायरेक्शन के बाद 100 मीटर के अंदर आती झुग्गियों को हटा कर पूरा एरिया समतल कर दिया गया था और इसकी सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी लेकिन जीरकपुर के पभात क्षेत्र के नजदीक  नए बन रहे अंतर्राष्ट्र्रीय एयरपोर्ट का एक तो रनवे कम लंबा है, ऊपर से जीरकपुर में चारों ओर बहुमंजिला इमारतें बनती जा रही हैं। इससे फ्लाइट के टेकऑफ और लैंडिंग के दौरान हादसों की आशंका बढ़ती जा रही है। वहीं किसी तरह के युद्ध की स्थिति में भी बाउंड्री वाल के नजदीक बने निर्माणों में रह रहे लोगों के लिए भी खतरा है। भारतीय वायुसेना की सुरक्षा में भी बहुमंजिली इमारतें खतरा बनी हुई हैं।
हाल में पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से नगर काउंसिल जीरकपुर के अधिकारियों को फटकार के बाद एयरफोर्स के अधिकारियों व नगर काउंसिल जीरकपुर के स्टाफ द्वारा ऊंची इमारतों को चिह्नित किया था जिनकी उच्च न्यायालय ने पड़ताल के लिए कहा था। इसमें पता चला कि एयरफोर्स बाउंडरी व एयरपोर्ट की एन.ओ.सी. या फायर डिपार्टमैंट की अनुमति लेना तो दूर ये इमारतें स्थानीय नगर कौंसिल की अनुमति/मिलीभगत से बन रही हैं। 
कम से कम गोदामों के मालिकों के दस्तावेज तो यही बता रहे हैं। एयरपोर्ट के पूर्वी छोर पर पभात क्षेत्र में गोदाम क्षेत्र में गोदामों के साथ प्रोपर्टी कारोबारियों ने जीरकपुर नगर काऊंसिल के अधिकारियों की मिलीभुगत से अवैध कालोनियां काट घनी आबादी बसा दी है। इसमें नगर काऊंसिल जीरकपुर के अधीन पड़ते गांव पभात का इलाका पड़ता है।  
नगर काऊंसिल ने झाड़ा पल्ला:
जीरकपुर नगर काऊंसिल के कार्यकारी अधिकारी गिरीश वर्मा ने कहा कि काऊंसिल उसी भवन को बनाने की अनुमति दे रही है, जिनके पास एयरपोर्ट अथॉरिटी की एन.ओ.सी. है। मानकों का उल्लंघन करने वाले बिल्डर व भवन मालिक पर नगर काऊंसिल लगातार कार्रवाई करती आ रही है। 
नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अनुसार मानक :
*24 : मीटर ऊंचा भवन एयरपोर्ट के 5 किमी के दायरे में
*5 किमी : से ज्यादा दूर 24 मीटर से अधिक ऊंचे भवनों के लिए भी एन.ओ.सी. जरूरी 
नगर काऊंसिल नहीं दे रहा अनुमति :
पभात के ग्रामीण क्षेत्र के लाल डोरे में बन रहीं ऊंची इमारतों के बारे में दबी जुबान में नाम न छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि पार्षद स्तर से अनुमति लेकर लोग निर्माण करा रहे हैं। जीरकपुर नगर काऊंसिल कार्यालय से इस तरह के किसी भी नक्शे को अनुमति नहीं दी जा रही है।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
नेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजा 3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी से पुलिस ने धारीवाल हत्याकांड मामला सुलझाया कोरोना की एंट्री पर रोक लगाने शहरों व गांवों में बेरीगेटिंग शुरु दिल्ली में भाग लेने वालों में तब्लीगी जमात से संबंधित बरनाला के भी थे दो लोग विधायक आवला ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपना दो साल का वेतन दिया चेतावनी: ज़रूरी वस्तुओं की अधिक कीमत वसूलने वालों पर की जाएगी सख्त कार्यवाही सिविल डिफेंस वार्डनों को सीडीआई ने दिए वालंटियरों को तैयार रखने के निर्देश बैसाखी पर सिख संगत को एकत्रित न होने का संदेश देने की श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील सेवामुक्त होने वाले पुलिसकर्मियों का सेवाकाल 31 मई तक बढ़ाया कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर