ENGLISH HINDI Sunday, May 26, 2019
Follow us on
चंडीगढ़

इकोसिख ने बठिंडा में ‘प्रथम गुरु नानक पवित्र वन’ तैयार किया

March 14, 2019 10:44 PM

वायु प्रदूषण के संकट से निपटने के लिए ‘ब्रीदिंग पंजाब’ जागरूकता प्रोजेक्ट की शुरुआत 

चंडीगढ़ सुनीता शास्त्री।

इकोसिख ने सिख धर्म के जनक गुरु नानक की 550वीं जयंती के अवसर पर, बठिंडा में पहले गुरु नानक सेके्रड फॉरेस्ट की स्थापना की है। ‘अफॉरेस्ट’ के संस्थापक और वन संरचना के क्षेत्र में भारत के अग्रणी विशेषज्ञ, शुभेंदु शर्मा ने बठिंडा के गिल पट्टी गांव में इस पहले ‘गुरु नानक सेक्रेड फॉरेस्ट’ के निर्माण की अगुआई की। इकोसिख द्वारा आयोजित 3-दिवसीय कार्यशाला में पंजाब के 100 से अधिक प्रशिक्षुओं को मियावाकी वनीकरण विधि सिखायी गयी थी। शुभेन्दु शर्मा ने स्वयं व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान कर, इनसे 350 वृक्ष लगवाकर इस 100 वर्ग मीटर वन का निर्माण किया।

गुरु नानक के नाम पर यह पहला जंगल है, जिसे इकोसिख के स्वयंसेवकों ने दातार एजूकेशनल एंड एन्वायर्नमेंटल ट्रस्ट, बठिंडा के सहयोग से लगाया है। इस अवसर पर चरण सिंह - मुंबई के इकोसिख वन निर्माता, सुप्रीत कौर - इकोसिख इंडिया की प्रेसीडेंट, रवनीत सिंह, इकोसिख प्रोजेक्ट मैनेजर, गौरव गुर्जर - अफॉरेस्ट जोधपुर के जंगल ट्री एक्सपर्ट, मंजुला सुलारिया - डायरेक्टर, प्रसनचेतास फाउंडेशन चंडीगढ़, हरप्रीत कौर बग्गा - इकोसिख बोर्ड सदस्य (लुधियाना) और इबादत सिंह, वाइस प्रेसीडेंट (ऑप्स), डाटाविंड।
मुंबई से इकोसिख के फॉरेस्ट क्रिएटर चरण सिंह ने गुरु नानक सेक्रेड फॉरेस्ट का विवरण देते हुए कहा, ‘पंजाब में हमारे पहले वन में 33 अलग-अलग मूल प्रजातियों के वृक्ष शामिल हैं, यह पंजाब का पहला मियावाकी वन भी है। प्रशिक्षण सत्रों में लोगों के जोश को देखकर हमें खुशी हुई और हमें विश्वास है कि इकोसिख आगामी 550 वें गुरपूरब से पहले ही 10 लाख वृक्ष रोपने के अपने लक्ष्य को पार कर जायेगा।चरण सिंह ने आगे कहा ’ ‘मेरा पूर्ण विश्वास है कि प्रत्येक इकोसिख एक गुरु नानक पवित्र वन लगा सकता है। 
शुभेन्दु शर्मा, जो अब तक 16 देशों में 132 वन लगा चुके हैं, ने कहा, ‘पंजाब राज्य में पवित्र वन लगाने के लिए इकोसिख के साथ जुडऩे कीहमें खुशी है। पंजाब और उत्तर भारत के अनेक हिस्सों में ग्रीन कवर की आवश्यकता है। मिनी फॉरेस्ट विकसित करने की मियावाकी वनीकरण पद्धति पंजाब के खो चुके फॉरेस्ट कवर को वापस लाने की दिशा में एक प्रभावी विधि है। यह सबसे प्रभावी और प्राकृतिक तरीका है, जिसकी मदद से एक व्यक्ति 200 वर्ग मीटर में 550 से अधिक पेड़ लगा सकता है। इस विधि से लगाये गये पौधे दस गुना तेजी से बढ़ते हैं, ऐसे जंगल 30 प्रतिशत ज्यादा घने होते और ये 100 प्रतिशत जैव विविध तथा प्राकृतिक हैं।’अफॉरेस्ट जोधपुर के जंगल ट्री एक्सपर्ट, गौरव गुर्जर ने करते हुए कहा, ‘मैंने देखा है कि केवल कुछेक सामुदायिक अथवा पवित्र वन ही बच पाये हैं। यह बहुत अच्छा है कि इकोसिख ने पवित्र वनों की अवधारणा को फिर से शुरू किया है, जो देशी हैं और जिनमें जैव विविधता का ध्यान रखा गया है। ये वन भविष्य की पीढिय़ों के लिए जेनेटिक बैंकों के रूप में काम करेंगे और इनके सह-अस्तित्व व जीवन को सुनिश्चित करेंगे।’
इकोसिख के प्रोजेक्ट मैनेजर रवनीत सिंह ने पंजाब सहित भारत के अनेक हिस्सों तथा विदेशों में ऐसे पवित्र जंगल तैयार करने की इकोसिख की योजना की घोषणा करते हुए कहा, ‘इकोसिख और अफॉरेस्ट की ओर से पंजाब में ऐसी 10 वर्कशॉप आयोजित की जायेंगी, जिनमें पंजाब के खोए हुए वन आवरण को पुनर्जीवित करने और वन लगाने वाली एक पीढ़ी तथा जलवायु योद्धाओं का निर्माण किया जायेगा। यह सही समय है जब सिख समुदाय को अपने महान गुरु के प्रति प्रतिबद्धता दिखाते हुए अपनी भूमि पर 10 लाख पेड़ लगाकर उनके संदेश को साकार करें। जंगल बनाने के लिए समुदाय की ओर से पहले ही हमें 40 से अधिक प्रस्ताव मिल चुके हैं।
’इकोसिख इंडिया की प्रेसीडेंट, सुप्रीत कौर ने वायु प्रदूषण पर अमेरिका के 350 डॉट ओआरजी संगठन की भागीदारी में इकोसिख की नवीनतम जागरूकता पहल ‘ब्रीदिंग पंजाब’ को लॉन्च किया। इसके तहत लुधियाना और चंडीगढ़ में आम नागरिकों को वायु प्रदूषण के बारे में सचेत किया जायेगा और खराब होती शहरी व ग्रामीण आबोहवा से निबटने के उपाय बताये जायेंगे।
उन्होंने कहा, ‘इस परियोजना का प्रबंधन, ट्राईसिटी के एक गैर सरकारी संगठन - प्रसनचेतास फाउंडेशन तथा लुधियाना की इकोसिख टीम द्वारा किया जाएगा। ’उत्तर भारत में इस तरह के वनों की अत्यधिक आवश्यकता है, क्योंकि पंजाब के छह शहर - मंडी गोबिंदगढ़, अमृतसर, जालंधर, लुधियाना, पटियाला व खन्ना और हरियाणा के पांच शहर - गुरुग्राम, फरीदाबाद, जींद, रोहतक व पंचकूला विश्व वायु गुणवत्ता रिपोर्ट 2018 की सर्वाधिक प्रदूषित शहरों की सूची में आ चुके हैं।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
हॉस्टल फीस कम करवाने को छात्रों ने टंडन से की भेंट गुरप्रीत हैप्पी ने जिला ग्रामीण अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दिया किसानों को कर्ज माफी का मुद्दा: अकाली अपनी मंजी हेठां सोटा मारन, किया अकालियों की विफल योजनाओं का खुलासा चुनावी मौसम में एयरपोर्ट पर बिगाड़ा फ्लाइट्स का शेड्यूल अठावले ने रिलीज किया चुनावी घोषणा पत्र, 19 मुद्दों को ध्यान में रख वोटिंग करे चंडीगढ़ की जनता केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले 14 मई को चंडीगढ़ में क्लाउड नाइन ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स ने मदर डे मनाया , रॉक द बेबी बम्ब एंड मॉमी एंड मी फैशन वॉक का आयोजन पतंजलि योग समिति चंडीगढ़ ने 48 नये सहयोग शिक्षक तैयार किए किरण खेर के समर्थन में उतरी मजदूर सेना दलित समाज चुनाव का करेगा बायकाट