ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
विजिलेंस जांच के चलते कई अफसर नदारद, चौथे दिन भी हुई पूछताछ, हाईप्रेाफाइल मामले पर एआईजी ने कहा, जांच जारी पंजाब में गतका खेल गतिविधियों में और तेज़ी लाई जायेगी: लिबड़ाडॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस भाजपा ने श्रद्धांजलि दी डडू माजरा में जानवर जलाने के प्लांट के प्रस्ताव के विरोध में रोष प्रदर्शन, मेयर का पुतला जलायासीवरेज ओवरफ्लो की बदबू से लोग बेहाल, कोई सुनवाई नहींअवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लमजीजा के साथ बलटाना का युवक बुलेट पर काजा घूमने निकला पहाड़ से बोल्डर गिरा, दोनों की मौके पर मौतहाई—वे किनारे मनमर्जी की पार्किंग, हादसों को न्यौंता
चंडीगढ़

अपने ऊपर विश्वास और सत्य का साथ रखे :जस्टिस कृष्ण मुरारी

April 05, 2019 09:40 PM

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री।

जीवन में अपने ऊपर विश्वास होना चाहिए और सत्य का साथ देना कानून का बड़ा  उदेश्य है. यह बात आज पंजाब एंव हरियाणा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी जी ने अंतर्राष्ट्रीय मूट कोर्ट कॉम्पिटिशन के उद्धघाटन समारोह में कही।चीफ जस्टिस मुरारी, आर्मी लॉ इंस्टिट्यूट मोहाली में 40 देशों से आए एविएशन कानून के माहिर और 11 देशों से आई 18 एविएशन कानून के क्षेत्रों के 10वें लीडन-सरीन अंतर्राष्ट्रीय एयर लॉ मूट कोर्ट कॉम्पिटिशन के उद्धघाटन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे.

11 देशों की 18 एयर लॉ टीमों ने भाग लिया

उन्होंने जूरी को उद्धृत की गई पूर्ववर्ती घटनाओं की गंभीर रूप से जांच करने और तथ्यों पर अधिक ध्यान देने के साथ-साथ विवादास्पद फैसलों पर पहुंचने के लिए कानूनी पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने को कहा।जस्टिस मुरारी ने अंतरराष्ट्रीय एविएशन कानूनों के चुनौतीपूर्ण क्षेत्र में युवा वकीलों को तैयार करने के लिए सरीन मेमोरियल लीगल एड फाउंडेशन की सराहना की।इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश (सेवामुक्त) एस.एस. सोढ़ी, जो सरीन मेमोरियल लीगल एड फाउंडेशन के अध्यक्ष भी हैं, ने कहा कि मूट कोर्ट प्रतियोगिता की शुरुआत दस साल पहले नीदरलैंड के लीडेन विश्वविद्यालय के साथ मिलकर की गई थी जो एविएशन कानूनों में वैश्विक उत्पादन कर रहा है।

लेफ्टिनेंट जनरल सुरिंदर सिंह, पीवीएसएम, एवीएसएम  वीएसएम, एडीसी, जीओसी-इन-चीफ वेस्टर्न कमांड, आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ के मुख्य संरक्षक ने कहा कि विभिन्न देशों के छात्रों और जूरी के एक साथ आने से उन्हें एक दूसरे की संस्कृतियों और लोकाचार के बारे में बेहतर तरिके से समझने में मदद मिलेगीप्रतियोगिता के निदेशक, नियाल बुसिंग ने बताया कि अठारह टीमें सिंगापुर, हांगकांग, नीदरलैंड्स, पोलैंड, जर्मनी, फ्रांस, श्रीलंका, रूस, कनाडा, चीन और भारत से हैं, और अगले साल प्रतियोगिता में और अधिक देश भाग लेंगे।प्रतिभागी टीमों के प्रदर्शन को 40 विभिन्न देशों के 50 से अधिक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय संगठनों, जैसे केएलएम, स्विस इंटरनेशनल, आईसीएओ, आईएटीए, बोइंग, जेट एयरवेज, आदि और फाइनल पुरस्कारों की घोषणा रविवार, 7 अप्रैल को की जाएगी।भारत की चार टीमों, नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल; डॉ. राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ; हिदायतुल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, रायपुर और आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ, मोहाली ने मूट कोऑर्डिनेटर नितिन सरीन को सूचित किया।इस आयोजन के फाइनल को श्री जस्टिस महेश ग्रोवर, जज, पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट; श्री जिफांग हुआंग, डायरेक्टर, कानूनी मामले और बाहरी संबंध ब्यूरो, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (आईसीएक्यू) और बर्न यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ. रेगुला डेटलिंग-ओट जज करेंगे।जस्टिस मुरारी ने अंतरराष्ट्रीय एविएशन कानूनों के चुनौतीपूर्ण क्षेत्र में युवा वकीलों को तैयार करने के लिए सरीन मेमोरियल लीगल एड फाउंडेशन की सराहना की।
इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश (सेवामुक्त) एस.एस. सोडी, जो सरीन मेमोरियल लीगल एड फाउंडेशन के अध्यक्ष भी हैं, ने कहा कि मूट कोर्ट प्रतियोगिता की शुरुआत दस साल पहले नीदरलैंड के लीडेन विश्वविद्यालय के साथ मिलकर की गई थी जो एविएशन कानूनों में वैश्विक उत्पादन कर रहा है।
लेफ्टिनेंट जनरल सुरिंदर सिंह, पीवीएसएम, एवीएसएम **, वीएसएम, एडीसी, जीओसी-इन-चीफ वेस्टर्न कमांड, आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ के मुख्य संरक्षक ने कहा कि विभिन्न देशों के छात्रों और जूरी के एक साथ आने से उन्हें एक दूसरे की संस्कृतियों और लोकाचार के बारे में बेहतर तरिके से समझने में मदद मिलेगीप्रतियोगिता के निदेशक, नियाल बुसिंग ने बताया कि अठारह टीमें सिंगापुर, हांगकांग, नीदरलैंड्स, पोलैंड, जर्मनी, फ्रांस, श्रीलंका, रूस, कनाडा, चीन और भारत से हैं, और अगले साल प्रतियोगिता में और अधिक देश भाग लेंगे।प्रतिभागी टीमों के प्रदर्शन को 40 विभिन्न देशों के 50 से अधिक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय संगठनों, जैसे केएलएम, स्विस इंटरनेशनल, आईसीएओ, आईएटीए, बोइंग, जेट एयरवेज, आदि और फाइनल पुरस्कारों की घोषणा रविवार, 7 अप्रैल को की जाएगी।भारत की चार टीमों, नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल; डॉ. राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ; हिदायतुल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, रायपुर और आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ, मोहाली ने मूट कोऑर्डिनेटर नितिन सरीन को सूचित किया।इस आयोजन के फाइनल को जस्टिस महेश ग्रोवर, जज, पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट; श्री जिफांग हुआंग, डायरेक्टर, कानूनी मामले और बाहरी संबंध ब्यूरो, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (आईसीएक्यू) और बर्न यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ. रेगुला डेटलिंग-ओट जज करेंगे।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस भाजपा ने श्रद्धांजलि दी डडू माजरा में जानवर जलाने के प्लांट के प्रस्ताव के विरोध में रोष प्रदर्शन, मेयर का पुतला जलाया हम्बल टू बी चंड़ीगढ़ीअन्स-ऐ फेसबुक ग्रुप ने हम्बल हार्ट्स मीट-2 का किया आयोजन गांव दड़ुआ से मक्खनमाजरा को जोडऩे वाली सडक़ पर हाईमास्ट लाइट की स्थापना पत्रकार प्रतिनिधिमंडल ने स्वास्थ्य मंत्री को दिया स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ देने के लिए मैमोरैंडम शूलिनी यूनिवर्सिटी रिसर्च के क्षेत्र में देश में शीर्ष स्थान पर: खोसला चण्डीगढ़ के सैक्टर 17 प्लाजा में तीन-दिवसीय योगा प्रदर्शनी शुरू यूक्रेन व रूस में एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए सेमिनार 20 जून को आईएचआरसी ने पौधारोपण अभियान चलाया समर फंक डांस नाइट आयोजित