ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
धर्म

आबूधाबी में गुलाबी पत्थरों से किया जाएगा हिंदू मंदिर का निर्माण

April 22, 2019 06:48 PM

अबोहर । आबूधाबी में प्रथम बीएपीएस हिंदू मंदिर का शिलान्यास हजारों भारतीयों व संयुक्त अमीरात के नागरिकों व अधिकारियों की उपस्थिति में संपन्न हुआ।

 शिलान्यास समारोह की शुरूआत संस्था के अंर्तराष्ट्रीय सेवाओं के निदेशक ईश्वरचरण स्वामी द्वारा संस्कृत श£ोकों के उच्चारण के साथ पूजन विधि से हुई। अन्य यजमानों ने उन्हीं के निर्देशानुसार पूजन किया। कार्यक्रम में वरिष्ठ संत आत्मस्वरूप स्वामी और आनंद स्वरूप स्वामी भी विराजमान थे।

यजमानों ने चावल, फूलों और शुष्क मेवों से उन ईंटों का पूजन किया जो नींव में रखी जानी है। वातानुकूलित पंडाल देश-विदेश से आए हरिभक्तों व अन्य अतिथियों से खचाखच भरा हुआ था।

शिलान्यास विधि में संस्था के वर्तमान अध्यात्मिक मुखिया महंत स्वामी महाराज के अलावा समुदायिक विकास सेवा निदेशक डा. मुघीर अली अल खायली, वातावरण मंत्री थानी अल जोयोदी, उच्च शिक्षा मंत्री अहमद बिहोल अल फाल्सी आदि उपस्थित थे। मंच पर बादशाह शेख जैयद के चित्र का अनावरण सहनशीलता वर्ष के उपलक्ष्य में किया गया। मंच पर विश्व वंदनीय संत प्रमुख स्वामी महाराज का चित्र मंच की प्रतिमूर्ति के साथ दर्शाया गया था।

संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय राजदूत नवदीप सूरी और एनएमसी गु्रप के अध्यक्ष बी.आर. शैट्टी इस अवसर पर उपस्थित थे। श्री सूरी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संदेश पढक़र सुनाते हुए इस ऐतिहासिक अवसर पर लोगों को बधाई दी। मंदिर का निर्माण आबूधाबी एक्सप्रैस वे पर आबू मुरेखा क्षेत्र में किया जा रहा है। उल्लेखीय है कि इस परियोजना के लिए भूमि पूजन 11 फरवरी 2018 को किया गया था।

मध्य पूर्व में संस्था के प्रभारी ब्रह्मबिहारी स्वामी ने इस मंदिर को सहनशीलता वर्ष का अद्भुत उपहार करार देते हुए कहा कि शेख मुहम्मद बिन जैयद अल नाहयन ने मंदिर निर्माण के लिए 13.5 एकड़ भूमि उपहार में दी है। पार्किंग के लिए भी सरकार द्वारा इतनी ही भूमि उपलब्ध करवाई जाएगी। यह अपने आप में अभूतपूर्व अवसर है जब संयुक्त अरब अमीरात के बादशाह हिंदू मंदिर के निर्माण की सहमति के साथ-साथ सौगात में भूमिदान भी कर रहे हैं।

मंदिर का निर्माण गुलाबी पत्थरों व संगमरमर से किया जाएगा, जो राजस्थान में कारीगरों द्वारा नक्काशी के बाद समुद्र के रास्ते आबूधाबी तक पहुंचाए जाएंगे और यहां उन्हें निर्माण में लगाया जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें