ENGLISH HINDI Tuesday, May 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
गुरुद्वारा नानकसर साहिब के बाबा जी ने रविन्द्र सिंह बिल्ला और उनकी टीम को सिरोपा पहना किया सम्मानिततपा के डेरा संचालक महंत हुक्म दास बबली की संदेहास्पद मौतचंडीगढ: डडूमाजरा में कोरोना का पॉजिटिव मिलने पर हड़कंपएम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आएपंजाब के मुख्यमंत्री ने महान हॉकी खिलाड़ी पद्म श्री बलबीर सिंह सीनियर के देहांत पर गहरा दुख प्रकट कियाएम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आएउत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन मेंफिरोजपुर: माछीवाड़ा के ट्रक ड्राइवर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव, आईसोलेशन वार्ड में करवाया भर्ती
धर्म

दुबई के गुरूद्वारे में विभिन्न धर्मानुयाईयों का अदभुत संगम

May 02, 2019 09:51 AM

अबोहर, फेस2न्यूज

  
  
गिन्नीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में स्थान बनाने वाले गुरूनानक दरबार गुरूद्वारा दुबई में बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के आध्यात्मिक मुखिया महंतस्वामी जी महाराज का वहां की प्रबंधक समिति ने आमंत्रित करके अभिनंदन किया। इस अवसर पर सामुदायिक विकास अथारटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. उमर अल मुथन्ना भी विशेष रूप से पधारे। इस प्रकार विभिन्न धर्मों में आस्था रखने वाले प्रमुख व्यक्तियों का गुरूद्वारा साहिब मेेंं अभूतपूर्व संगम हुआ। इससे पूर्व गुरूद्वारा प्रबंधक समिति के अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह कंधारी ने स्वामी जी से मुलाकात की और उनसे आशीर्वाद लिया।
अबूधाबी मंदिर के निर्माण का कार्यभार देखने वाले ब्रह्मबिहारी स्वामी ने महंतस्वामी जी महाराज की गुरूद्वारा तक अगुवानी की। उन्हें बताया गया कि पूरी दुनियां में सर्वप्रथम आई एस ओ प्रमाण पत्र दुबई के इस गुरूद्वारे को प्रदान किया गया। एक लाख वर्ग फुट आकार के भवन में निर्मित इस गुरूद्वारे का उदघाटन 17 जनवरी 2012 को सम्पन्न हुआ था। गुरूद्वारे के लिये स्थान संयुक्त अरब अमिरात के बादशाह ने उपलब्ध करवाया। गुरूद्वारा को सर्वाधिक पौधे वितरित करने के लिये गिन्नीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में स्थान मिला। इसके इलावा गुरूद्वारा प्रबंधक समिति द्वारा विभिन्न धर्मों में आस्था रखने वाले अलग अलग देशों के मूलवासियों के लिये प्रीतिभोज का आयोजन किया गया। जिसमें 101 राष्ट्रों के 600 प्रतिनिधी सम्मिलित हुए। यह भी गिन्नीज बुक आफ रिकार्ड के अनुसार विलक्षण आयोजन था।
महंतस्वामी जी महाराज ने वहां सुशोभित श्री गुरू ग्रंथ साहिब के समक्ष माला अर्पित की और गुरूबाणी का पाठ श्रवण किया। इस अवसर पर मौजूद संगत में उनका हार्दिक स्वागत किया। स्वामी जी ने कहा कि आध्यात्मिक गुरूओं में तो सदभाव सौहार्द व स्नेह स्थापित रहता है लेकिन कई बार कुछ अनुयायी अकारण कोई मुद्दा उठाकर विवाद ग्रस्त हो जाते हैं। जरूरत इस बात की है कि सभी धर्मों के अनुयाईयो में स्नेह और सदभाव सुदृढ किया जाये। हम सभी धर्मों का एक समान करें। उन्होने गुरूद्वारा साहिब के निर्माण के स्तर की भी सराहना की और सिख संगत को अपनी शुभ कामनाएं दी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
संत निरंकारी मिशन ने संभाली जरूरतमंदों को घर बैठे राशन सामग्री पहुंचाने की कमान विशाल साईं भजन संध्या का आयोजन कैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन महाशिवरात्रि पर्व: शिव खेड़ा मंदिर में लगा शिव भक्तों का तांता सेक्टर 24 मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन ने लगाया लंगर प्रसाद: चना-पूरी और खीर का भोले भक्तों में बांटा प्रसाद महाशिवरात्रि पर्व: लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने लगाया लंगर: 24 प्रकार के व्यंजन शिव भक्तों में प्रसाद स्वरूप किये वितरित श्रीसालासर बालाजी परिवार की मूर्तियो का विधिवत रूप से श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर-32 में प्राण प्रतिष्ठा कर स्थापित की गई मुमुक्षु हिमांशु जैन बने अमन मुनि और मुमुक्षु रजत जैन बने तेजस मुनि विश्व शांति कल्याणार्थ पर हिमाचल महासभा चंडीगढ़ ने सजाया भव्य दरबार साहिबज़ादों की शहादत को किया याद: लगाया चाय ब्रेड पकोड़े का लंगर